जबलपुर मध्‍यप्रदेश

तोप गाड़ी निर्माणी स्टेट में दिखा तेंदुआ, लोगों में दहशत

जबलपुर। शहर की तोप गाड़ी निर्माणी स्थित न्यू कालोनी (New Colony located at Cannon Cart Factory) के आसपास तेंदुए की चलह कदमी लगातार हो रही है, कभी जंगल के रास्ते पर तो कभी पंप हाउस के पास तेंदुआ (Leopard) देखा जा रहा है। सोमवार को दिन में भी तेंदुआ कालोनी के क्वार्टर नंबर- 3034 के पीछे बने गैराज के पास देखा गया।

एक दिन पहले जहां तेंदुआ दो शावकों के साथ नजर आया था, वहीं दूसरे दिन तेंदुए को अकेला ही देखा गया। जीसीएफ सुरक्षा दल के मनोज ठाकुर ने बताया कि सदस्यों ने तेंदुए को देखकर वन विभाग को सूचना दी। रविवार को तेंदुए को देखे जाने के बाद जीसीएफ सुरक्षा अधिकारी एमएस माने, अनुभाग प्रमुख बिशन सिंह, धीर सिंह ठाकुर और संजय निगम ने जीसीएफ न्यू कालोनी क्षेत्र में गश्त लगाई और लोगों को तेंदुए से सचेत रहने के लिए कहा।


 

निर्माणी की न्यू कालोनी क्षेत्र में अधिकारियों व कर्मचारियों के करीब सवा दो सौ परिवार रहते हैं। इस लिहाज से तेंदुए से इन परिवारों की सुरक्षा आवश्यक है, लोगों को रात में घरों से न निकलने, बच्चों व पालतू पशुओं को घर के अंदर रखने के साथ ही सावधानी से रहने की सलाह दी जा रही है। जिसे भी तेंदुआ नजर आता है तुरंत सुरक्षा दल के सदस्यों को सूचना देने कहा गया है, इसके लिए सुरक्षा दल के मोबाईल नंबर सभी को दिए गए हैं।

 

वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार डुमना नेचर पार्क, ईडीके, सीओडी जंगल, जीसीएफ, पाटबाबा के पीछे जंगल में बीते पांच-छह सालों में दिखे शावकों की संख्या के अनुमान से करीब 12 तेंदुए होने की संभावना है। जो खासकर डुमना नेचर पार्क और आसपास के जंगल में रहते हैं। लेकिन हर साल दिसंबर व जनवरी में पर्यटकों का आवागमन इन क्षेत्रों में बढ जाता है, जिससे ये तेंदुए अपनी सुरक्षा के लिए बाहर निकल आते हैं। इसके अलावा मादा तेंदुआ शावकों के जन्म के बाद अपने दल से शावकों की सुरक्षा के लिए अलग हो जाती है, इसलिए भी ये शावकों के साथ इस समय में देखने मिल रही है।

 

Share:

Next Post

मेजर एचपीएस अहलूवालिया: महान पर्वतारोही और दिव्यांगों के मित्र को याद रखे देश

Tue Jan 18 , 2022
– आर.के. सिन्हा महान पर्वतारोही मेजर एचपीएस अहलूवालिया देश के 60 की उम्र पार कर गई पीढ़ी के लिए किसी नायक से कम नहीं थे। मेजर एचपीएस अहलूवालिया उस पर्वतारोही दल के सदस्य थे जिसने 20 मई 1965 को माउंट एवरेस्ट की चोटी को फतह किया था। वह भारतीय सेना का पर्वतारोही दल था। यानी […]