जीवनशैली धर्म-ज्‍योतिष

2 अक्टूबर से इन राशि वालों का चमकेगा भाग्‍य, बुधदेव की कृपा से मिलेगा जबरदस्‍त लाभ

नई दिल्ली। ज्योतिषशास्त्र (Astrology) में बुध देव को विशेष स्थान प्राप्त है। बुध देव को राजकुमार भी कहा जाता है। बुध देव को शुभ होने पर व्यक्ति का भाग्योदय (fortune-telling) हो जाता है। इस समय बुध देव कन्या राशि में विराजमान हैं। बुध देव 2 अक्टूबर को कन्या राशि में मार्गी हो जाएंगे। बुध देव (Mercury god) के मार्गी होने से कुछ राशि वालों को जबरदस्त लाभ होगा। इन राशि वालों का सोया हुआ भाग्य भी जाग जाएगा। आइए जानते हैं बुध देव के मार्गी होने से किन राशि वालों के शुरू होंगे अच्छे दिन…

मीन राशि
मीन राशि के जातकों को शुभ परिणाम मिलेंगे।
आर्थिक पक्ष (economic side) मजबूत होगा।
नया कार्य आरंभ करने के लिए समय शुभ है।
नौकरी और व्यापार में तरक्की के योग बन रहे हैं।
विद्यार्थियों के लिए ये समय किसी वरदान से कम नहीं है।
वैवाहिक जीवन सुखमय रहेगा।
मां लक्ष्मी की विशेष कृपा रहेगी


कर्क राशि
कर्क राशि (Crab) के जातकों को शुभ फल की प्राप्ति होगी।
मां लक्ष्मी (Maa Lakshmi) की विशेष कृपा प्राप्त होगी।
कार्यों में सफलता प्राप्त करेंगे।
नया वाहन या मकान खरीद सकते हैं।
परिवार के सदस्यों का सहयोग मिलेगा।
धन- लाभ होगा।
जीवनसाथी के साथ समय व्यतीत करेंगे।

कन्या राशि
कन्या राशि (Virgo) के जातकों के लिए ये समय शुभ रहने वाला है।
धन- लाभ होगा, जिससे आर्थिक पक्ष मजबूत होगा।
मां लक्ष्मी मेहरबान रहेंगी।
दांपत्य जीवन में सुख का अनुभव करेंगे।
परिवार के सदस्यों के साथ समय व्यतीत करने का अवसर प्राप्त होगा।
शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए ये समय किसी वरदान से कम नहीं है।
दिवाली से पहले ही शुरू हो जाएंगे इन राशियों के अच्छे दिन, दीपावली में चमकेगा सोया हुआ भाग्य

वृश्चिक राशि
वृश्चिक राशि (Scorpio) के जातकों के लिए ये समय किसी वरदान से कम नहीं है।
जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा।
धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में हिस्सा लेने का अवसर मिलेगा।
शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए समय शुभ है।
मां लक्ष्मी की कृपा से धन- लाभ होगा।
सुख- समृद्धि में वृद्धि होगी।

नोट- उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सिर्फ सामान्‍य सूचना के लिए है हम इसकी पुष्टि का दावा नहीं करते है.

Share:

Next Post

देश की सामर्थ्य के लिए चाहिए भाषाओं का पोषण

Fri Sep 30 , 2022
– गिरीश्वर मिश्र भाषा मनुष्य जीवन की अनिवार्यता है और वह न केवल सत्य को प्रस्तुत करती है बल्कि उसे रचती भी है। वह इतनी सघनता के साथ जीवन में घुलमिल गई है कि हमारा देखना-सुनना, समझना और विभिन्न कार्यों में प्रवृत्त होना यानी जीवन का बरतना उसी की बदौलत होता है। जल और वायु […]