देश विदेश

पीएम मोदी संयुक्त अरब अमीरात की दो दिवसीय यात्रा के बाद दोहा पहुंचे, शेख से करेंगे मुलाकात

नई दिल्‍ली (New Dehli)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi)ने भारत और कतर के बीच ऐतिहासिक रूप से घनिष्ठ (historically close)और मैत्रीपूर्ण संबंधों को और मजबूत(Strong) करने के लिए कतर के अमीर शेख तमीम बिन हमद अल थानी के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक के लिए बुधवार शाम यहां पहुंचे। वर्ष 2014 के बाद से प्रधानमंत्री के रूप में मोदी की यह दूसरी कतर यात्रा है।

पीएम मोदी संयुक्त अरब अमीरात की दो दिवसीय यात्रा के बाद दोहा पहुंचे, जहां उन्होंने प्रवासी भारतीय समुदाय के एक कार्यक्रम, ‘विश्व सरकार शिखर सम्मेलन’ को संबोधित किया और संयुक्त अरब अमीरात के पहले हिंदू मंदिर का भी उद्घाटन किया।


मंगलवार को नई दिल्ली से रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने एक बयान में कहा कि वह अमीर शेख तमीम बिन हमद अल थानी से मिलने के लिए उत्सुक हैं, ‘जिनके नेतृत्व में कतर जबरदस्त विकास और परिवर्तन देख रहा है।’ भारत द्वारा मोदी की कतर यात्रा की सोमवार को घोषणा के पूर्व कतर ने जेल में बंद भारतीय नौसेना के आठ पूर्व कर्मियों को रिहा कर दिया और उनमें से सात स्वदेश लौट आए।

मोदी ने रवाना होने से पहले वक्तव्य में यह भी कहा कि कतर में 8,00,000 से अधिक भारतीय की उपस्थिति ‘हमारे लोगों के बीच मजबूत संबंधों का प्रमाण है।’ अमीर के साथ बातचीत के अलावा, मोदी का कतर में अन्य गणमान्य व्यक्तियों से भी मिलने का कार्यक्रम है।

पीएम मोदी ने अबू धाबी में किया पहले हिंदू मंदिर का उद्घाटन

पीएम मोदी ने वसंत पंचमी के दिन बुधवार को संयुक्त अरब अमीरात के अबू धाबी में नवनिर्मित पहले हिंदू मंदिर का उद्घाटन किया। इस मंदिर को बोचासनवासी श्री अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (BAPS) ने बनाया है।

राजस्थान के गुलाबी बलुआ पत्थरों से निर्मित इस मंदिर के निर्माण पर 700 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। यह मंदिर 27 एकड़ में बना है और इसकी ऊंचाई 108 फुट की है। बेजोड़ वास्तुशिल्प और भव्यता के कारण यह मंदिर पूरी दुनिया का ध्यान अपनी आकार्षित कर रहा है।

Share:

Next Post

आंसू गैस और ड्रोन का जवाब किसान मुल्तानी मिट्टी और पतंग उड़ाकर दे रहे, ऐसे कर रहे पुलिस से सामना

Thu Feb 15 , 2024
नई दिल्‍ली (New Dehli)। किसान दिल्ली कूच (Delhi march)की कोशिश कर रहे हैं। वहीं, पुलिस उन्हें रोकने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल (use of gas)करना पड़ रहा है। हालांकि, किसानों ने अपने ही तरीके से इस परेशानी(Trouble) का भी हल ढूंढ लिया है। दिल्ली से जुड़ने वाली सीमाओं पर वे जूट की थैलियों, पतंगों […]