बड़ी खबर

शिवसेना नेता की हत्या के विरोध में आज पंजाब बंद, धार्मिक स्थलों पर बढ़ी सुरक्षा

चंडीगढ़। शिव नेता सुधीर सूरी (Shiv leader Sudhir Suri) की पुलिस की मौजूदगी में दिन-दहाड़े बाजार में हत्या (murder in broad day market) होने से सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं। घटना से माहौल तनावपूर्ण हो गया है। गुस्साए लोगों ने कई जगह तोड़फोड़ की। पुलिस ने राज्य के हिंदू नेताओं और धार्मिक स्थलों की सुरक्षा बढ़ा दी है। हिंदू संगठनों ने शनिवार को पंजाब बंद का आह्वान (Punjab bandh call) किया है।

सुधीर सूरी के बेटे ने अपने पिता को शहीद का दर्जा देने की मांग की है। उन्होंने कहा कि अगर उनके पिता को शहीद का दर्जा नहीं दिया गया तो वे अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। उधर, अबोहर जिले में बजरंग दल हिंदुस्तान ने शनिवार को बंद का एलान किया है। अबोहर के प्राइवेट स्कूलों के संगठन रासा ने भी स्कूलों में शनिवार की छुट्टी घोषित कर दी है।

अमृतसर में गोपाल मंदिर के सामने प्रदर्शन कर रहे हिंदू नेता सूरी की हत्या के बाद लोग गुस्से में आ गए। उन्होंने आसपास की दुकानों में तोड़फोड़ की और एक कार के शीशे भी तोड़ दिए गए। शिव सैनिकों ने खालिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए। घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने इलाके को सील कर दिया। सूरी के बेटे ने पिता को शहीद का दर्जा देने की मांग की है। उनका कहना है कि जब तक शहीद का दर्जा नहीं दिया जाता तब तक अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।


हिंदू नेता का आरोप- विदेशी नंबरों से मिल रही धमकी
सूरी की हत्या के बाद मोहाली में हिंदू नेताओं से पुलिस ने संपर्क किया। उनके रिहायशी और दफ्तरों में जाकर मुलाकात की। इसके साथ ही उनसे अपील की गई कि वह कहीं भी अकेले न जाएं। एससएसपी विवेकशील सोनी ने कहा कि इलाके में सुरक्षा के पूरे इंतजाम हैं। उधर, हिंदू नेता निशांत शर्मा ने आरोप लगाया कि पंजाब सरकार हिंदू नेताओं की सुरक्षा की अनदेखी कर रही है। आए दिन हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है। आज शिवसैनिक खालिस्तानी संगठनों के निशाने पर हैं। उन्होंने बताया कि सूरी की हत्या के बाद से उनको विदेशी नंबरों से धमकी भरी कॉल आ रही हैं।

राज्य में अर्धसैनिक बल की तैनाती हो
लुधियाना के हिंदू नेताओं के घरों के बाहर पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। चेकिंग की जा रही है। हिंदू नेता संदीप सूरी ने आरोप लगाया कि आप की सरकार ने राज्य को लावारिस हालत में छोड़ दिया है। पिछले सात महीने से लगातार खालिस्तान की मांग की जाने लगी है। केंद्र पंजाब सरकार को तुरंत बर्खास्त करे। राज्य में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया जाए। अमित अरोड़ा ने कहा कि शनिवार को महानगर से बड़ी संख्या में हिंदू अमृतसर जाएंगे।

जालंधर में भाजपा नेता अमित तनेजा ने कहा कि पंजाब सरकार प्रो-खालिस्तानी है। अरविंद केजरीवाल 2017 के विधानसभा चुनाव में आतंकवादी की कोठी में ठहरे थे। जानकार शिवसेना नेता की हत्या को इसे खालिस्तानी एंगल से भी जोड़कर देख रहे हैं। गुरदासपुर के शिवसेना नेता हरविंदर सोनी ने अमृतसर जाकर घटना की जानकारी हासिल की। उन्होंने कहा कि फिलहाल बंद के बारे में कोई फैसला नहीं लिया गया है। मीटिंग करने के बाद ही कुछ कहा जाएगा।

Share:

Next Post

यूक्रेन से युद्ध लड़ने के लिए सजायाफ्ता हत्यारों को सेना में भर्ती कर रहा रूस

Sat Nov 5 , 2022
नई दिल्ली। रूस और यूक्रेन (ukraine russia war) के बीच की जंग में अब रूस हालांकि जवानों की कमी (shortage of soldiers) से जूझ रहा है लेकिन, उसने अपने कदम अभी तक पीछे नहीं हटाये हैं। ताजा रिपोर्ट है कि सजायाफ्ता हत्यारों और ड्रग डीलर (Convicted murderers and drug dealers) जो हाल ही में रूस […]