बड़ी खबर राजनीति

Rajasthan: वेणुगोपाल की चेतावनी के बाद फिलहाल टल गया सियासी संकट!

जयपुर। राजस्थान कांग्रेस (Rajasthan Congress) में ‘भारत जोड़ो’ यात्रा (bhaarat jodo yaatra) की तैयारियों की समीक्षा करने दिल्ली से वरिष्ठ नेता केसी वेणुगोपाल (KC Venugopal) पहुंचे। इस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) के बीच जारी तनातनी को खत्म करने की भी कोशिश की। सामने आई तस्वीरों से साफ हुआ कि संकट फिलहाल के लिए टल गया है। लेकिन अटकलें लगाई जा रही हैं कि बैठक भले ही सकारात्मक रही हो, लेकिन इसके नतीजे अस्थायी हो सकते हैं। कहा जा रहा है कि वेणुगोपाल ने नेताओं को भी बयानबाजी को लेकर मंत्री परिषद से बाहर करने की सीधी चेतावनी दे दी है।

राजस्थान में क्या हुआ?
मध्य प्रदेश पड़ाव से गुजर रही कांग्रेस की पदयात्रा 3-5 दिसंबर को राजस्थान में एंट्री कर सकती है। संकट के बीच वेणुगोपाल ने यात्रा की तैयारियों को लेकर बैठक की। बैठक में पायलट और गहलोत दोनों ही एकसाथ नजर आए। इतना ही नहीं दोनों ने एक दूसरे का अभिवादन भी किया और एक ही मंच साझा किया। यहां वेणुगोपाल ने भी पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की बात को दोहराया और कहा कि दोनों नेता कांग्रेस की पूंजी हैं और राजस्थान में पार्टी एक हैं।

गुप्त चर्चाएं और चेतावनी!
एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, वेणुगोपाल दोनों नेताओं से अलग-अलग बंद कमरों में भी मिले और करीब आधे घंटे तक चर्चा की। कहा जा रहा है कि इस दौरान उन्होंने राज्य के मौजूदा हालात पर दोनों नेताओं के सामने ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (AICC) के विचार रखे। करीब दो घंटे तक चली यात्रा की समीक्षा बैठक में उन्होंने सख्त चेतावनी दी कि पार्टी नेताओं की तरफ से अब और भड़काऊ बयानबाजी नहीं होनी चाहिए।

रिपोर्ट के अनुसार, अगर कोई मंत्री ऐसी बयानबाजी करता पाया जाता है, तो उसे मंत्री परिषद से बाहर किया जा सकता है। कहा जा रहा है कि उन्होंने जोर देकर कहा कि यह सभी के लिए लागू होगा। खास बात है कि सीएम गहलोत ने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान पायलट को ‘गद्दार’ बता दिया था, जिसके बाद सियासी चर्चाएं तेज हो गई थी। कांग्रेस भी उनके बयान पर हैरान नजर आई थी।

रिपोर्ट के अनुसार, दोनों नेताओं के साथ कमरे में हुई बैठक को भले ही सकारात्मक बताया जा रहा है, तो इसके नतीजे अस्थायी हो सकते हैं। रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से लिखा गया कि पार्टी चाहती हैं कि दोनों नेता मतभेदों को अलग रखे और भारत जोड़ो यात्रा पर ध्यान लगाएं।

‘गद्दार’ बयान पर कांग्रेस ने क्या कहा था?
कांग्रेस ने बगैर नाम लिए ही राजस्थान कांग्रेस में कड़े फैसले लेने के संकेत दे दिए थे। साथ ही पार्टी ने गहलोत के बयान पर हैरानी भी जाहिर की थी। मध्य प्रदेश के इंदौर में वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने कहा था, ‘कुछ मतभेद हैं। (राजस्थान के) मुख्यमंत्री ने कुछ शब्दों का इस्तेमाल किया, जिनकी उम्मीद नहीं थी। मैं हैरान हूं। अशोक गहलोत को इंटरव्यू में कुछ शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना था।’

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्होंने यह भी कहा था, ‘हम राजस्थान मुद्दे का समाधान खोजेंगे, जो हमारे संगठन को मजबूत करेगा। इसके लिए हमें कड़े फैसले लेने होंगे और हम उन्हें लेंगे। अगर कोई समझौता करना पड़ा, तो किया जाएगा।’

गहलोत पर एक्शन की अटकलें
कहा जा रहा है कि बयानबाजी के बाद ही पायलट इस मामले को लेकर पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और राहुल गांधी के पास ले गए थे और उन्हें एक्शन का भरोसा दिया गया है। अब संभावनाएं हैं कि पार्टी आलाकमान ‘गद्दार’ बयान को लेकर गहलोत से सफाई मांग सकती है।

Share:

Next Post

कल देश के 100 स्मारक होंगे जगमग, भारत के G-20 का अध्यक्ष बनने पर मनेगा जश्न

Wed Nov 30 , 2022
नई दिल्ली। एक दिसंबर को भारत (India) औपचारिक रुप से जी-20 का अध्यक्ष (President of G-20) बन जाएगा। इस मौके पर देशभर में सौ स्मारकों पर जी-20 के लोगो के साथ लाइटिंग (Lighting with G-20 logo on 100 monuments) की जाएगी। इसके बाद जी-20 की बैठकों का दौर शुरू हो जाएगा। अगले साल 9-10 सितंबर […]