मनोरंजन

Raveena Tandon ने तोड़े जंगल के नियम! टाइगर का वीडियो बनाने को लेकर प्रबंधन करेगा जांच

मुंबई: रवीना टंडन (Raveena Tandon) बॉलीवुड के पॉपुलर एक्ट्रेस होने के साथ-साथ एक बेहतरीन वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर भी हैं. वह हर साल देश के अलग-अलग जंगलों और अभयारण्यों में अकेले और फैमिली संग जाती हैं और उनकी खूबसूरत झलक तस्वीरों और वीडियो के जरिए फैंस को दिखाती हैं.

वह हाल में मध्यप्रदेश के नर्मदापुरम के सतपुड़ा टाइगर रिजर्व में गई थीं और उन्होंने जंगल सफारी को एन्जॉय किया था. इस दौरान उन्होंने कई टाइगर की तस्वीरें और वीडियो भी शूट किए, जिसे लेकर अब विवाद खड़ा हो गया है. यह विवाद टाइगर के बिल्कुल नजदीक जाकर फोटो खींचने और वीडियो बनाने से जुड़ा है.

सतपुड़ा टाइगर रिजर्व (Satpura Tiger Reserve) प्रबंधन ने रवीना टंडन के खिलाफ जांच के आदेश दिये हैं. प्रबंधन का कहना है कि टाइगर के वीडियो शूट में नियमों की अनदेखी हुई है. रवीना ने खुद 25 नवंबर को जंगल सफारी का एक वीडियो ट्वीट किया था. वीडियो में जिप्सी टाइगर के काफी करीब थी और बाघ दहाड़ते हुए आगे बढ़ा था. इससे उनकी जान को खतरा भी हो सकता था.

सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के नियमों के मुताबिक सफारी के दौरान वन्य प्राणी यानी जानवरों से जिप्सी की दूरी कम से कम 20 मीटर होनी चाहिए थी. लेकिन रवीना टंडन ने इन नियमों का पालन नहीं किया है! इसे लेकर सतपुड़ा टाइगर रिजर्व प्रबंधन ने जांच के आदेश दिए है. अगर रवीना दोषी पाईं जाती हैं, तो उनपर उचित कार्रवाई भी हो सकती है.

इन बिंदुओं पर होगी जांच
सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के बोरी SDO धीरज सिंह चौहान इसकी जांच कर एसडीओ फील्ड डायरेक्टर को रिपोर्ट सौंपेंगे.

दुर्घटना होने का था रिस्क
क्योंकि, सफारी के दौरान कोई घटना होती है, तो उसकी जिम्मेदारी स्वयं की होती. बाघ और अन्य प्राणी से सैलानियों की जिप्सी के बीच करीब 20 मीटर का अंतर होनी चाहिए. बता दें, कुछ दिन पहले भोपाल के वन विहार में बाघ को पत्थर मारने वाले को रवीना टंडन समझाते हुए दिखाई दी थीं और वन विहार की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सवाल उठाये थे.

Share:

Next Post

ब्रिटेन में 4 दिन काम, बाकी दिन आराम, लागू हुआ '4 डे वर्किंग वीक'

Tue Nov 29 , 2022
लंदन: दुनिया में मंदी की आशंका के बीच जहां कई मल्टीनेशनल कंपनियां कर्मचारियों की छंटनी कर रही है. वहीं, ब्रिटेन में 100 कंपनियों ने अपने एम्पलाइज को एक बड़ी सौगात दी है. बढ़ती महंगाई और मंदी की गिरफ्त में जा रही ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए यूनाइटेड किंगडम की 100 कंपनियों […]