जीवनशैली स्‍वास्‍थ्‍य

बिना इंसुलिन के भी कंट्रोल कर सकते हैं शुगर लेवल, कैसे जानिए उपाय

नई दिल्‍ली (New Delhi)। डायबिटीज (Diabetes) वैश्विक स्तर पर तेजी से बढ़ती गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है, डायबिटीज (Diabetes)को मैनेज करने में लाइफस्‍टाइल का अहम रोल होता है! यदि व्‍यक्ति की लाइफस्‍टाइल अच्‍छी है तो ब्‍लड शुगर (blood sugar) लेवल कंट्रोल में रहता है! भारत में ढाई करोड़ से अधिक लोग डायबिटीज (Diabetes)की समस्या के शिकार हैं, साल-दर साल यह आंकड़ा बढ़ता जा रहा है।

विशेषज्ञों का मानना है कि डायबिटीज (Diabetes) के मरीज अगर अच्छी डाइट नहीं लेंगे तो शरीर में कमजोरी आने लगती है। शरीर को हेल्दी और फिट बनाए रखने के लिए ड्राईफ्रूट्स जरूर खाएं, हालांकि सभी ड्राईफ्रूट्स (Dry Fruits) डायबिटीज के मरीज के लिए फायदेमंद नहीं होते हैं। कई ऐसे ड्राईफ्रूट्स हैं जिन्हें खाने से ब्लड शुगर (blood sugar) बढ़ सकता है।

डायबिटीज भले ही रक्त में ग्लूकोज का स्तर बढ़ने की समस्या हो पर इसका असर पूरे शरीर पर हो सकता है। किडनी, आंखों, लिवर और प्रतिरक्षा प्रणाली से संबंधित समस्याएं डायबिटीज रोगियों में काफी सामान्य मानी जाती हैं। डायबिटीज का कोई इलाज नहीं है, इसके लक्षणों को प्रबंधित करने के लिए रोगियों की स्थिति के आधार पर दवाइयां और इंसुलिन के इंजेक्शन दिए जाते हैं।

आपको बता दें कि गंभीर और अनियंत्रित ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए इंसुलिन के इंजेक्शन की आवश्यकता होती है। डायबिटीज के रोगियों में इंसुलिन हार्मोन का उत्पादन प्रभावित हो जाता है, इस कमी को पूरा करने के लिए इंसुलिन के शॉट्स देने की आवश्यकता होती है। हालांकि कुछ अध्ययनों में लंबे समय तक इंसुलिन के भी नुकसान बताए गए हैं।

वैश्विक स्तर पर बढ़ते डायबिटीज के खतरे को लेकर लोगों को अलर्ट करने और इससे बचाव के लेकर आवश्यक सावधानियों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से हर साल 14 नबंबर को वर्ल्ड डायबिटीज डे मनाया जाता है। डॉक्टर्स कहते हैं, लाइफस्टाइल को ठीक रखकर इंसुलिन के इंजेक्शन के बिना भी डायबिटीज को कंट्रोल किया जा सकता है।

डॉक्टर्स बताते हैं, इंसुलिन रक्त शर्करा को शरीर की कोशिकाओं में प्रवेश करने में मदद करती है ताकि इसका उपयोग ऊर्जा के लिए किया जा सके। इंसुलिन, लिवर को रक्त शर्करा को स्टोर करने के लिए भी संकेत देती है, जिससे इसका बाद में भी इस्तेमाल किया जा सके।
डायबिटीज रोगियों में चूंकि इस हार्मोन का उत्पादन प्रभावित हो जाता है, ऐसे में बाहर से इंजेक्शन के रूप में इंसुलिन देकर इस कार्य को व्यवस्थित किया जाता है।



शारीरिक सक्रियता आहार और व्यायाम जरूरी
डायबिटीज से पीड़ित लोगों को ऐसी जीवनशैली का पालन करते रहने की सलाह दी जाती है जो ब्लड शुगर के स्तर को कंट्रोल करने में आपके लिए मददगार हो। इसके लिए शारीरिक सक्रियता, आहार, व्यायाम और अच्छी नींद बहुत आवश्यक है। मधुमेह रोगियों के लिए वजन को कंट्रोल रखना बहुत जरूरी माना जाता है। मोटापा को डायबिटीज के जोखिम कारकों में से एक माना जाता है, इससे अन्य जटिलताओं का भी खतरा हो सकता है।

डायबिटीज में पौष्टिक आहार का सेवन जरूरी
डायबिटीज रोगियों को खान-पान पर विशेष ध्यान देते रहने की सलाह दी जाती है। इसके लिए मीठी और अधिक कार्ब्स वाले चीजों से परहेज करना अच्छा विकल्प हो सकता है। डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए लो-ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाली चीजों का सेवन किया जाना चाहिए। हरी पत्तेदार सब्जियां, प्रोटीन, विटामिन्स वाले फल, साबुत अनाज आदि के सेवन की आदत इस गंभीर स्वास्थ्य समस्या को कंट्रोल करने में आपके लिए सहायक हो सकती है।

व्यायाम से ब्लड शुगर रहता है कंट्रोल
डायबिटीज रोगियों के लिए नियमित व्यायाम बहुत आवश्यक है। रोजाना कम से कम 30-40 मिनट तक व्यायाम करना चाहिए। वॉक करना, तैराकी या साइकिलिंग जैसे सामान्य अभ्यास भी आपके लिए सहायक हो सकते हैं। व्यायाम, वजन कम करने और कैलोरी बर्न करने में मदद करते हैं। नियमित व्यायाम करने वालों में तेजी से ब्लड शुगर लेवन बढ़ने का खतरा भी अन्य लोगों की तुलना में कम होता है।

नोट- उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सिर्फ सामान्‍य सूचना के उद्देश्‍य से पेश की गई है हम इसकी पुष्टि या इनकी सटीकता का दावा नहीं करते हैं. इन्‍हें अपनाने से पहले डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें.

Share:

Next Post

'गुम है किसी के प्यार में' 7 साल के लीप के बाद कुछ ऐसी होगी कहानी, नया प्रोमो हुआ रिलीज

Fri Jun 21 , 2024
मुंबई (Mumbai)। ‘गुम है किसी के प्यार में’ (Ghum Hai Kisikey Pyaar Meiin) को अपनी दिलचस्प और आकर्षक कहानी (interesting and fascinating story) की वजह से दर्शकों का बहुत प्यार मिला है। मेकर्स ने हितेश भारद्वाज और भाविका शर्मा दोनों को लेकर एक रोमांचक प्रोमो रिलीज (exciting promo release)  किया है। शो के ट्विस्ट और […]