इंदौर न्यूज़ (Indore News)

सरकारी स्कूलों में घटिया मध्याह्न भोजन बंटता मिला तो एक ही बच्चे के दो स्कूलोंमें प्रवेश के लगाए आरोप

  • इंदौर सहित प्रदेशभर में सीएम राइज स्कूलों का संचालन भी शुरू, राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्रावधान होंगे लागू

इंदौर। 18 जून से स्कूलों में नया शिक्षण सत्र शुरू हो गया। वहीं सरकारी स्कूलों में बच्चों को मध्यान्ह भोजन उपलब्ध कराया जाता है। मगर अभी जांच के दौरान कई स्कूलों में यह मध्यान्ह भोजन घटिया मिला, जिसके चलते सीईओ जिला पंचायत सिद्धार्थ जैन ने संबंधित एजेंसी को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। वहीं सीएम राइज स्कूलोंमें भी संचालन शुरू किया। मुख्यमंत्री ने इसकी शुरुआत की। इंदौर सहित प्रदेशभर में ३६९ सीएम राइज स्कूलों का संचालन शुरू किया, जिसमें निजी स्कूलों की तरह बस सेवा का लाभ भी दिया जा रहा है।

वहीं भाजपा पिछड़ा मोर्चा के नगर महामंत्री जीतू कुशवाह ने कैबिनेट मंत्री कैलाश विजयवर्गीय को कार्यकर्ताओं के साथ एक ज्ञापन सौंपा, जिसमें एक गरीब परिवार के बच्चे का नि:शुल्क एडमिशन आरटीई के तहत हुआ। वहीं उसी बच्चे का एडमिशन एक अन्य निजी स्कूल में भी करवा दिया और पालक पर दबाव डालकर फीस जमा करने को कहा जा रहा है। इस तरह की गड़बड़ी और भी बच्चों के साथ संभव है। लिहाजा मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की गई है। दूसरी तरफ सीईओ जिला पंचायत सिद्धार्थ जैन ने जहां मल्हार आश्रम परिसर में निर्माणाधीन सीएम राइज स्कूल का निरीक्षण किया, वहीं मध्यान्ह भोजन की गुणवत्ता भी देखी और घटिया मिलने पर नाराजगी जाहिर करते हुए नोटिस देने के निर्देश दिए। उन्होंने सुपर 100 के छात्र-छात्राओं से चर्चा करते हुए शिक्षण संबंधी जानकारी प्राप्त की। होस्टल का निरीक्षण भी किया तथा छात्रावास अधीक्षिका को बेहतर व्यवस्थाएं देने के निर्देश भी दिए।

Share:

Next Post

कोरोना में माता-पिता को खो चुके, 96 अनाथों का सहारा बनेगा प्रशासन

Thu Jun 20 , 2024
  बच्चो की शिक्षा का जिम्मा उठाएंगे…स्कूल बैग…स्टेशनरी के साथ फीस भरने की भी पहल इंदौर। कोविड काल (covid period) में अनाथ (Orphan) हुए बच्चों (Children) के लिए जिला प्रशासन (administration) सहारा बनने जा रहा है। पिछले वर्ष की तर्ज पर ही बच्चों को न केवल कापी-किताबें, स्कूल बैग, स्टेशनरी उपलब्ध कराई जाएगी, बल्कि ऐसे […]