बड़ी खबर

भारत में कब आएगा कोरोना की तीसरी लहर का पीक? एक्सपर्ट्स ने बताई तारीख

नई दिल्ली: भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. इस बीच सभी जानना चाहते हैं कि क्या कोरोना की तीसरी लहर (Third Wave) पिछली लहर से ज्यादा खतरनाक होगी और क्या इस बार दूसरी लहर से ज्यादा केस आएंगे? इसके अलावा कोरोना की तीसरी लहर कब खत्म होगी? बता दें कि कोरोना की तीसरी लहर को लेकर भारत और अमेरिका के एक्सपर्ट्स ने अनुमान जताया है.

कोरोना की तीसरी लहर का पीक कब?
अमेरिकी रिसर्च सेंटर आईएचएमई (IHME) के डायरेक्टर डॉक्टर क्रिस्टोफर मुरे (Christopher Mure) ने अनुमान जताया है कि भारत में कोरोना की तीसरी लहर का पीक अगले महीने फरवरी में आ सकता है. डेल्ट वेरिएंट की लहर के मुकाबले इस बार कोरोना के मामले ज्यादा आएंगे लेकिन नया वेरिएंट ओमिक्रॉन कम गंभीर है. भारत में जब कोरोना की तीसरी लहर का पीक आएगा तो हर दिन लगभग 5 लाख से ज्यादा मामले सामने आएंगे.


भारतीय एक्सपर्ट ने जताया ये अनुमान
वहीं आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल का अनुमान अमेरिकी एक्सपर्ट से अलग है. प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल के मुताबिक, भारत में कोरोना की तीसरी लहर का पीक इसी महीने आ सकता है. इस बार दूसरी लहर से ज्यादा मामले रजिस्टर होंगे. लेकिन पीक पर जाने के बाद मामलों की संख्या तेजी से घटेगी. मार्च तक कोरोना की तीसरी लहर का पीक लगभग खत्म हो जाएगा.

इन शहरों में पहले आएगा कोरोना का पीक
प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल के अनुसार, दिल्ली, मुंबई और कोलकाता में कोरोना की तीसरी लहर का पीक अगले कुछ दिनों में दिखेगा. जनवरी के खत्म होने तक मामलों की संख्या इन शहरों में तेजी से कम हो जाएगी. ओमिक्रॉन से घबराने की जरूरत नहीं है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, बीते 24 घंटे में देश में कोरोना वायरस के 1 लाख 79 हजार 723 नए मामले सामने आए और इस दौरान 146 मरीजों की मौत हो गई. कोरोना पॉजिटिविटी रेट बढ़कर 13.29 प्रतिशत हो गया है. देश में इस वक्त कोविड-19 के 7 लाख 23 हजार 619 एक्टिव केस हैं. वहीं ओमिक्रॉन के 4 हजार 33 मामले भारत में हैं.

Share:

Next Post

बादाम की अच्छाइयों के साथ मनायें फसलों का त्यौहार

Mon Jan 10 , 2022
बेहद धूमधाम से मनाया जाने वाला मकर संक्रांति (Makar Sankranti) का त्यौहार ठंड के मौसम का अंत दर्शाता है और यह नई फसलों (new crops)  के मौसम का आगाज होता है देश के अलग-अलग हिस्सों में फसलों के इस त्यौहार को विभिन्न नामों से जाना जाता है लेकिन इसका स्वाद एक जैसा ही होता है […]