देश राजनीति

औरंगाबाद और उस्मानाबाद का नाम बदलने पर भड़के एआईएमआईएम सांसद, जानिए क्‍या कहा

नई दिल्‍ली। महाराष्ट्र (Maharashtra) में चल रहे राजनैतिक संकट के बीच सरकार ने जाते जाते एक बड़ा फैसला और कर गई। बुधवार को औरंगाबाद (Aurangabad) और उस्मानाबाद (Osmanabad) का नाम बदल दिया। औरंगाबाद का नाम अब संभाजीनगर (Sambhajinagar) और उस्मानाबाद का नाम धारशिव (Dharshiv) होगा। महाराष्ट्र सरकार के इस फैसले से एआईएमआईएम नेता ने शिवसेना और एनसीपी पर जमकर हमला बोला है।

बता दें कि महाराष्ट्र (Maharashtra) सरकार की कैबिनेट ने बुधवार को औरंगाबाद (Aurangabad) और उस्मानाबाद (Osmanabad) का नाम बदल दिया। इस पर एआईएमआईएम नेता इम्तियाज जलील ने बुधवार को औरंगाबाद का नाम संभाजीनगर और उस्मानाबाद का नाम धाराशिव करने के महाराष्ट्र कैबिनेट के फैसले की आलोचना करते हुए इसे ‘सस्ती राजनीति का बेहतरीन उदाहरण’ बताया है।



महाराष्ट्र में राजनीतिक उथल-पुथल और फ्लोर टेस्ट के राज्यपाल के आदेश का जिक्र करते हुए औरंगाबाद के लोकसभा सदस्य ने कहा कि शिवसेना ने यह फैसला इसलिए किया क्योंकि पार्टी ने राज्य में सत्ता खोना शुरू कर दिया था। उन्होंने कहा कि ‘मैं उद्धव जी और शिवसेना से कहना चाहता हूं कि इतिहास बदला नहीं जा सकता, नाम बदल सकते हैं… आप घटिया राजनीति का एक बेहतरीन उदाहरण पेश कर रहे हैं। केवल लोग ही तय कर सकते हैं कि औरंगाबाद का कौन सा नाम रहेगा।”इम्तियाज जलील ने कहा कि उनकी पार्टी के कार्यकर्ता इसके खिलाफ सड़कों पर उतरेंगे।

बुधवार शाम पत्रकारों से बात करते हुए ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन नेता ने कहा कि यह कांग्रेस और राकांपा के नेताओं पर थूकने का समय है। हम मुख्यमंत्री का सम्मान करते थे। वह बेहतर तरीके से सरकार से जा सकते थे। कुछ दिन पहले सीएम ने कहा था कि सरकार इसका नाम बदलने से पहले औरंगाबाद का विकास करेगी। क्या विकास हुआ है? जलील ने औरंगाबाद के पूर्व सांसद चंद्रकांत खैरे पर भी निशाना साधते हुए कहा कि शिवसेना नेता को “पेशेवर नर्तक बनना चाहिए क्योंकि उनके लिए कोई काम नहीं बचा है”।

Share:

Next Post

इस Pharma कंपनी ने 8000 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला, यह है वजह

Thu Jun 30 , 2022
नई दिल्ली। स्विस फार्मा कंपनी नोवार्टिस (Novartis) बड़े पैमाने पर कर्मचारियों की छंटनी (Lay-Off) करके सुर्खियों में आ गई है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, कॉस्ट कटिंग का हवाला देते हुए कंपनी ने दुनिया के अलग-अलग देशों में मौजूद अपनी ब्रांचों से तकरीबन 8000 कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है. बिजनेस टुडे की रिपोर्ट […]