देश मनोरंजन

बिग बॉस 15 में हो सकती है आसिम के भाई की एंट्री, पूरा करेंगे उनका टूटा ख्‍वाब

नई दिल्ली । बिग बॉस सीजन 13 (Bigg Boss 13) में भले ही आसिम रियाज (Asim Riaz) विनिंग ट्रॉफी के काफी करीब आकर चूक गए लेकिन अब ऐसा लगता है कि उनका ये ख्वाब उनका भाई उमर रियाज (Umar Riaz) पूरा करेगा. मालूम हो कि बिग बॉस सीजन 13 (Bigg Boss 13) में आसिम रियाज (Asim Riaz) की डिमांड बहुत ज्यादा थी और वह शो के फिनाले एपिसोड तक पहुंच गए थे.

सिद्धार्थ शुक्ला से हारे थे आसिम
हालांकि जब स्टेज पर सलमान खान (Salman Khan) के दोनों तरफ आसिम रियाज (Asim Riaz) और सिद्धार्थ शुक्ला (Sidharth Shukla) खड़े थे तो करोड़ों फैंस का दिल तोड़ते हुए सलमान खान (Salman Khan) ने सिद्धार्थ शुक्ला (Sidharth Shukla) का हाथ उठा दिया. हालांकि इससे आसिम रियाज (Asim Riaz) की पॉपुलैरिटी में कोई फर्क नहीं पड़ा और उन्हें बिग बॉस (Bigg Boss) से निकलने के बाद भी कई बड़े प्रोजेक्ट्स मिले. लेकिन जहां तक विनिंग ट्रॉफी की बात है तो आसिम इससे चूक गए थे.

उमर पूरा करेंगे आसिम का ख्वाब?
टीवी के सबसे बड़े रियलिटी टीवी शो बिग बॉस (Bigg Boss) से जुड़ी सभी सीक्रेट खबरें उपलब्ध कराने वाले ट्विटर हैंडल ‘बिग बॉस खबरी’ (Bigg Boss Khabri) ने अपने एक ट्वीट में दावा किया है कि सलमान खान (Salman Khan) होस्टेड शो के 15वें सीजन में आसिम रियाज (Asim Riaz) के भाई उमर रियाज (Umar Riaz) शामिल होने वाले हैं. बिग बॉस खबरी (Bigg Boss Khabri) ने दावा किया है कि बिग बॉस 15 (Bigg Boss 15) में उमर एक कंफर्म कंटेस्टेंट हैं.

खुलना बाकी है इन दावों की पोल
जहां आसिम रियाज (Asim Riaz)के फैन्स इस खबर को सुनकर काफी ज्यादा खुश हो गए हैं तो वहीं दूसरी तरफ ऐसी खबरें भी सामने आ रही हैं कि ये महज एक अफवाह है. बता दें कि उमर रियाज (Umar Riaz) भी अपने भाई आसिम रियाज (Asim Riaz) की तरह काफी मस्कुलर हैं और शो के 13वें सीजन में वह कुछ समय के लिए नजर भी आ चुके हैं. लेकिन देखना होगा कि क्या वह शो के 15वें सीजन में नजर आएंगे.

Share:

Next Post

’कौए’ दिखते नहीं, कैसी पूरी होगी श्राद्ध की मान्यता ?

Fri Sep 24 , 2021
– डॉ. रमेश ठाकुर श्राद्ध में अब कौवे नहीं दिखाई देते, जबकि भोजन उन्हीं को ध्यान में रखकर बनाया जाता है। सवाल उठता है गुजरे हुए पुरखों तक भोजन पहुंचाने वाले वाहक रूपी ‘कौए‘ ही नहीं होंगे, तो श्राद्धों की मान्यताएं कैसी पूरी होंगी ? शुरू से होता आया है कि श्राद्ध में पितरों का […]