देश

बाबा रामदेव ने महिलाओं पर की थी आपत्तिजनक टिप्पणी, अब उठी देश से माफी मांगने की मांग

नई दिल्ली। योग गुरु बाबा रामदेव (yoga guru swami ramdev) एक बार फिर विवादों में आ गए हैं। दरअसल, पुणे में आयोजित एक योग शिविर (Yoga camp organized in Pune) के दौरान उन्होंने कहा कि महिलाएं साड़ी, सलवार और सूट में भी अच्छी लगती हैं, मेरी तरह कुछ ना भी पहने तो भी अच्छी लगती हैं। हैरान करने वाली बात यह है कि रामदेव जब यह बात कह रहे थे, तब राज्य के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पत्नी अमृता (Deputy Chief Minister Devendra Fadnavis wife Amrita) संग वहां मंच पर मौजूद थे।

अब रामदेव का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने भी इस बयान की निंदा की है। उन्होंने वीडियो अपने ट्विटर हैंडल पर साझा करते हुए कहा, महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री की पत्नी के सामने स्वामी रामदेव द्वारा की गई टिप्पणी अमर्यादित और निंदनीय है। इस बयान से सभी महिलाएं आहत हुई हैं, बाबा रामदेव को इस बयान पर देशवासियों से माफी मांगनी चाहिए।

वायरल वीडियो में बाबा रामदेव कहते हुए सुनाई दे रहे हैं, बहुत बदनसीब हैं आप। सामने के लोगों को साड़ी पहनने का मौका मिल गया, पीछे वालों को मिला ही नहीं। आप साड़ी पहन के भी अच्छी लगती हैं, सलवार सूट में भी अमृता की तरह अच्छी लगती हैं और मेरी तरह कोई ना भी पहने तो भी अच्छी लगती हैं। अब तो लोग लोक लज्जा के लिए पहन लेते हैं। बच्चों को कौन कपड़े पहनाता है पहले। हम तो आठ दस सालों तक तो ऐसे ही नंगे घूमते रहते थे। ये तो अब जाकर पांच-लेयर बच्चों के कपड़ों पर आई है।

रामदेव के बयान पर अब सियासत भी तेज हो गई है। उद्धव ठाकरे गुट की शिवसेना नेता संजय राउत ने पूछा, अमृता फडणवीस ने टिप्पणियों का विरोध क्यों नहीं किया? मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, जब राज्यपाल शिवाजी पर अपमानजनक टिप्पणी करते हैं, कर्नाटक के मुख्यमंत्री महाराष्ट्र के गांवों को अपनी राज्य की सीमा में मिलाने की धमकी देते हैं, अब बीजेपी प्रचारक रामदेव महिलाओं का अपमान करते हैं, तो सरकार चुप रहती है। क्या सरकार ने अपनी जुबान दिल्ली के पास गिरवी रख रखी है?

Share:

Next Post

26 नवंबर की 10 बड़ी खबरें

Sat Nov 26 , 2022
1. केंद्र ने राज्यों को जीएसटी अनुदान के रूप में 17 हजार करोड़ रुपये किए जारी केंद्र सरकार (Central government) ने राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों को बकाया जीएसटी अनुदान (Outstanding GST Grant) के लिए 17 हजार करोड़ रुपये (17 thousand crore rupees) राशि जारी कर दी है। वित्त मंत्रालय ने यह जानकारी दी है। वित्त […]