विदेश

ब्रिटेन में स्थानीय चुनाव में ऋषि सुनक की कंजर्वेटिव पार्टी को बड़ा झटका, कुर्सी पर मंडराया खतरा

लंदन (London) । ब्रिटेन (Britain) के पीएम ऋषि सुनक (PM Rishi Sunak) की कंजर्वेटिव पार्टी (conservative party) बुरे दौर से गुजर रही है। यहां विभिन्न हिस्सों में अब स्थानीय चुनाव (local elections) में कंजर्वेटिव पार्टी को कई क्षेत्रों में बड़ा झटका लगा है। दूसरी ओर, विपक्षी लेबर पार्टी का उदय बढ़ता जा रहा है। इस बार उन्हें 26 फीसदी ज्यादा वोट मिले है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यह पहली बार है कि लेबर पार्टी को इतनी बड़ी सफलता मिली है। ब्रिटेन में कंजरवेटिव पार्टी की लोकप्रियता लगभग निचले स्तर पर है, ऐसे में कंजर्वेटिव पार्टी के नेता और ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक पर ज्यादा दबाव आ गया है।

कंजर्वेटिव पार्टी कुल तीन परिषदें हार चुकी है। पार्टी के कम से कम 100 पार्षद हार चुके हैं। हालांकि, कई निर्वाचन क्षेत्रों में नतीजे अभी घोषित नहीं हुए हैं। ब्लैकपूल साउथ संसदीय सीट इस बार लेबर पार्टी ने दोबारा हासिल कर ली है। परिणामस्वरूप सुनक की पार्टी को संसद में एक सीट का नुकसान हुआ। यहां नए सांसद क्रिस वेब ने कंजर्वेटिव पार्टी के डेविड जोन्स को हराया। इसके अलावा रेडडिच, थुर्रॉक, हार्टलपूल, रशमूर जैसी सीटों पर लेबर उम्मीदवारों ने स्थानीय चुनाव जीते।


लेबर पार्टी ओल्डम में ही नहीं जीत पाई है, वहां का मुस्लिम समुदाय गाजा पर लेबर पार्टी की स्थिति से बिल्कुल भी खुश नहीं है। उनका मानना है कि लेबर पार्टी ने गाजा में संघर्ष विराम के बारे में नहीं सोचा। हालांकि, लेबर पार्टी के नेता और ब्रिटिश संसद के विपक्षी नेता कीर स्टार्मर पार्टी की सफलता से उत्साहित हैं। स्टार्मर ने संवाददाताओं से कहा, “मुझे उम्मीद है कि यह परिणाम ऋषि सुनक को एक बड़ा संदेश देगा। इस बार जाने की बारी उसकी है। ब्रिटेन की आम जनता जान चुकी है कि ये लेबर पार्टी बिल्कुल नए रूप में वापस आ गई है। तो आइए इस बार हम अपना काम खुद करें।”

ग्रीन पार्टी ने भी लेबर पार्टी की तरह कुछ क्षेत्रों में सफलता हासिल की है। ब्रेक्जिट के दौरान शुरू हुई निगेल फराज की ‘रिफॉर्म यूके’ पार्टी ने भी कई सीटें जीतीं लेकिन अब सभी की निगाहें लंदन मेयर चुनाव के नतीजों पर हैं। लेबर पार्टी नेता सादिक खान का पलड़ा भारी है, माना जा रहा है कि वह लंदन के मेयर के रूप में लगातार तीन बार जीत हासिल कर एक कीर्तिमान स्थापित करने की ओर अग्रसर हैं। कुल मिलाकर, सुनक अक्टूबर चुनाव से पहले भारी दबाव में हैं। ऐसी खबरें हैं कि उनकी पार्टी के कुछ सांसद चुनाव से पहले उनसे इस्तीफा मांग सकते हैं। सुनक की जगह पेनी मोर्डेंट का नाम सामने आ रहा है। हालाँकि, कल पेनी ने स्पष्ट कर दिया कि वह सुनक के बदले ब्रिटेन का प्रधानमंत्री नहीं बनना चाहते हैं।

Share:

Next Post

'संदेशखाली में नहीं हुआ कोई रेप' TMC ने संदेशखाली कांड पर बीजेपी को घेरा, जानिए क्या बोली BJP

Sun May 5 , 2024
  कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) का बहुचर्चित संदेशखाली (Sandeshkhali) कांड लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) के दौरान लगातार चर्चा में बना हुआ है. इस बीच तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने शनिवार को एक कथित स्टिंग ऑपरेशन (sting operation) का वीडियो जारी किया, जिसमें संदेशखाली में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के मंडल अध्यक्ष होने का दावा […]