टेक्‍नोलॉजी

Apple की वारंटी पॉलिसी में बड़ा बदलाव, अब यूजर्स पर पड़ेगा सीधा असर

नई दिल्‍ली(New Delhi) । Apple ने अपनी रिपेयर और वारंटी पॉलिसी(Repair and Warranty Policy) में बदलाव (shift)किया है. कंपनी(company) ने इस महीने iPhone और Apple Watch के लिए अपनी पॉलिसी को अपडेट(Update the policy) कर दिया है. अपडेट के बाद कंपनी ‘सिंगल हेयरलाइन क्रैक’ को स्टैंडर्ड वारंटी में कवर नहीं करेगी. पहले Apple Watch और iPhone पर सिंगल हेयरलाइन क्रैक होने पर भी उस पर स्टैंडर्ड वारंटी मिलती थी।

इसके लिए डिवाइस पर फिजिकल डैमेज को कोई दूसरे निशान नहीं होना चाहिए थे. इस वारंटी का मतलब था कि अगर आपके फोन या वॉच में मामूली क्रैक है, तो आप उसे फ्री में वारंटी के तहत ठीक करा सकते थे।

कंज्यूमर्स को देने होंगे पैसे


हालांकि, अब ऐपल ने अपनी पॉलिसी में बदलाव कर दिया है. अगर आपके डिवाइस में कोई भी क्रैक मिलता है, तो उसे वारंटी में कवर नहीं किया जाएगा. बल्कि इस तरह की दिक्कत को एक्सिडेंटल डैमेज के तहत ठीक किया जाएगा. इसका मतलब है कि आपको इन्हें रिपेयर कराने के लिए पैसे देने होंगे।
इस पॉलिसी की जानकारी ऐपल स्टोर और ऐपल ऑथराइज्ड सर्विस प्रोवाइड्स को एक हफ्ते पहले ही दे दी गई थी. सर्विस सेंटर्स अब डिवाइस पर सिंगल क्रैक होने पर भी उसे एक्सिडेंटल डैमेज के तहत ठीक कर रहे हैं. इसके लिए कंज्यूमर को पैसे देने होंगे।

कैसे बचा सकते हैं आप पैसे?

हालांकि, iPads और Macs की वारंटी पर अभी भी सिंगल हेयरलाइन क्रैक को कवर किया जा रहा है. ऐपल ने अपनी पॉलिसी में बदलाव का कारण नहीं बताया है. ये बदलाव काफी महत्वपूर्ण है. क्योंकि इसका सीधा असर कंज्यूमर्स पर पड़ेगा. उन्हें अब मामूली क्रैक के लिए पैसे खर्च करने होंगे, जो पहले वारंटी में कवर होता था।

बता दें कि Apple की वेबसाइट पर आपको स्क्रीन रिप्लेसमेंट की जानकारी मिल जाएगी. बेहतर होगा कि आप ऐपल का डिवाइस खरीद रहे हैं, तो Apple Protection Plus भी खरीद लें. ये ऐपल की एक्सटेंडेड वारंटी है, जिसमें एक्सिडेंटल क्रैक को भी कवर किया जाता है. हालांकि, इसमें कुछ शर्तें भी होती हैं।

Share:

Next Post

भारत समेत दुनिया के केंद्रीय बैंक बढ़ा रहे अपने स्वर्ण भंडार

Mon Jun 17 , 2024
– प्रहलाद सबनानी हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा विदेशी बैंकों में रखे भारत के 100 टन सोने को ब्रिटेन से वापस लाया गया है। यह सोना भारत ने ब्रिटेन के बैंक में रिजर्व के तौर पर रखा था और इस पर भारत प्रतिवर्ष कुछ फीस भी ब्रिटेन के बैंक को अदा करता रहा […]