क्राइम देश

बुलेट प्रूफ गाड़ी से हथियारों की सप्लाई, दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़े 4 बदमाश

नई दिल्ली। दिल्ली के उत्तर पूर्वी जिले की पुलिस ने चार बदमाशों को गिरफ्तार (four miscreants arrested) किया है। ये बदमाश बुलेट प्रूफ गाड़ी (bullet proof vehicles) से हथियारों की तस्करी (Weapons smuggling) कर रहे थे। पकड़े गए बदमाश छैनू गैंग के बताए जा रहे हैं। इनके पास से साढ़े छह लाख रुपये नकद और तीन पिस्टल बरामद किए गए हैं। पुलिस पकड़े गए बदमाशों से पूछताछ कर रही है।

जानकारी के मुताबिक उत्तर पूर्वी जिले की पुलिस को जानकारी मिली कि एक कार से कुछ बदमाश अवैध हथियार की सप्लाई करने आने वाले हैं। जानकारी के आधार पर दिल्ली पुलिस ने उस इलाके में ट्रैप लगा दिया। सोमवार और मंगलवार की आधी रात के करीब दिल्ली पुलिस ने सीलमपुर इलाके में मेन रोड पर बैरिकेड लगा वाहन चेकिंग शुरू कर दी।


वाहनों की जांच के दौरान पुलिस को एक सफेद रंग की फॉर्च्यूनर कार आती दिखी। पुलिस ने कार को रोका और जांच की तो तीन पिस्टल और साढ़े छह लाख नकद बरामद हुए। कार में चार लोग सवार थे. डीसीपी नॉर्थ ईस्ट संतोष कुमार के मुताबिक गाड़ी के दरवाजे आम वाहन के मुकाबले कहीं ज्यादा भारी लगे. जांच में पता चला कि इसे बुलेट प्रूफ वाहन के रूप में तब्दील करा दिया गया है।

दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर कार सवार चारो को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए बदमाशों के नाम मुमताज, इरशाद, शाहरुख और समीर है। पूछताछ पुलिस अब ये पता लगाने में जुटी है कि आखिर इस गाड़ी को बुलेटप्रूफ गाड़ी में कैसे और कहां तब्दील कराया गया। इन बदमाशओं के खिलाफ दिल्ली और उत्तर प्रदेश के अलग-अलग थानों में 20 से अधिक मामले दर्ज हैं।

वाहनों की जांच के दौरान पुलिस को एक सफेद रंग की फॉर्च्यूनर कार आती दिखी। पुलिस ने कार को रोका और जांच की तो तीन पिस्टल और साढ़े छह लाख नकद बरामद हुए।

Share:

Next Post

Maharashtra: विदेशी यात्रियों के लिए 7 दिन का क्वारंटीन अनिवार्य, 3 बार होगी RT-PCR जांच, देनी होगी 15 दिनों की ट्रैवल हिस्ट्री

Wed Dec 1 , 2021
मुंबई। कोरोना वायरस (corona virus) के ‘ओमिक्रॉन’ स्वरूप (‘Omicron’ form) के कारण उत्पन्न चिंताओं के बीच महाराष्ट्र (Maharashtra) राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने मंगलवार रात को कहा कि ‘जोखिम वाले’ देशों से राज्य (state from ‘at risk’ countries) आने वाले यात्रियों (Passengers) को अनिवार्य रूप से सात-दिन तक संस्थागत पृथक-वास में रहना होगा। केंद्र सरकार […]