बड़ी खबर व्‍यापार

सर्राफा समीक्षाः लगातार चौथे सप्ताह दबाव में सोना

नई दिल्ली। दुनिया भर के बाजार (worldwide market) में सोने (Gold) पर दबाव की स्थिति बनी हुई है। शुक्रवार को खत्म हुए कारोबारी सप्ताह (business week) के दौरान सोने में लगातार चौथे सप्ताह गिरावट (Gold fell for the fourth consecutive week) का ट्रेंड नजर आया। कारोबारी सप्ताह के आखिरी दिन यानी 13 मई को मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर सोने का भाव 49,909 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ। इस तरह साप्ताहिक आधार पर सोने के भाव में करीब 2.86 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। अगर अंतरराष्ट्रीय बाजार की बात करें, तो सोना 1,820 डॉलर प्रति औंस के अहम स्तर से नीचे गिर कर 1,810 डॉलर प्रति औंस के स्तर पर बंद हुआ।

मार्केट एनालिस्ट मयंक मोहन के मुताबिक रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध के कारण दुनिया भर के ज्यादातर देशों में महंगाई चरम पर पहुंच गई है। इस महंगाई पर काबू पाने के लिए अधिकांश देशों के केंद्रीय बैंकों को अपनी मॉनिटरी पॉलिसी को सख्त करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। अमेरिका में महंगाई 40 सालों के शीर्ष स्तर पर है। इसी तरह भारत में महंगाई की दर भारतीय रिजर्व बैंक के घोषित लक्ष्य से ऊपर पहुंच गई है।

महंगाई में लगातार हो रही वृद्धि के कारण केंद्रीय बैंकों को ब्याज दरों में बढ़ोतरी करने के लिए बाध्य होना पड़ा है। मौद्रिक नीति में बरती जा रही सख्ती के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था में मंदी की आशंका भी जाहिर की जाने लगी है। इसके साथ ही ब्याज दरों में हुई बढ़ोतरी के कारण बॉन्ड यील्ड में भी बढ़त देखी जा रही है। दूसरी ओर डॉलर इंडेक्स भी दो दशक के सर्वोच्च स्तर पर पहुंच गया है, जिसकी वजह से निवेशक शेयर बाजार और सोना इन दोनों निवेश माध्यमों से अपना पैसा निकाल कर बांड और डॉलर में निवेश करने की बात को प्राथमिकता दे रहे हैं। यही कारण है कि जहां एक ओर भारतीय बाजार समेत दुनिया भर के शेयर बाजार में कमजोरी का रुख बना है, वहीं वैश्विक स्तर पर सोने की कीमत में भी कमजोरी का रुख बन गया है।

बाजार की मौजूदा स्थिति को देखते हुए मयंक मोहन निवेशकों को सोने में निवेश करने के लिए कुछ और समय तक इंतजार करने की सलाह देते हैं। उनका कहना है कि अभी जैसे वैश्विक हालात बने हुए हैं, उनमें निकट भविष्य में सोने में और गिरावट आ सकती है। इसलिए निवेशकों को सोने की कीमत के 48,800 रुपये प्रति 10 ग्राम तक आने का इंतजार करना चाहिए, ताकि उनका निवेश उन्हें अच्छा रिटर्न दे सके।

मयंक मोहन के मुताबिक एक बार ग्लोबल सेंटीमेंट्स में सुधार आने के बाद सोने की कीमत में तेजी आने की पूरी संभावना बनी हुई है। बाजार की स्थितियों में सुधार होने पर आने वाले दिनों में सोने के लिए पहला लक्ष्य 51,200 रुपये प्रति 10 ग्राम का और दूसरा लक्ष्य 51,800 रुपये प्रति 10 ग्राम तक का हो सकता है। हालांकि मयंक मोहन ये भी कहते हैं कि अभी के हालात में बाजार के भविष्य को लेकर किसी भी तरह की पक्की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है। इसलिए निवेशकों को हर सलाह पर ध्यान जरूर देना चाहिए। निवेश करने के पहले खुद भी बाजार की परिस्थितियों का गंभीरतापूर्वक अध्ययन कर लेना चाहिए, ताकि आने वाले दिनों में उन्हें किसी भी तरह के नुकसान का सामना ना करना पड़े। (एजेंसी, हि.स.)

Share:

Next Post

हिन्दुत्व के सुर्खियों में होने के निहितार्थ

Sun May 15 , 2022
– हृदयनारायण दीक्षित हिन्दू और हिन्दुत्व लम्बे समय से चर्चा में है। भारत में ईसाई एवं मुसलमान आबादी को छोड़कर बाकी सब लोग वैदिक धर्म का पालन करते हैं। इस परम्परा में धर्म पालन की बाध्यता नहीं है। हिन्दू परिपूर्ण लोकतांत्रिक एक जीवनशैली है। डॉ. रामधारी सिंह ‘दिनकर’ ने संस्कृति के चार अध्याय (103) में […]