विदेश

कोरोना लॉकडाउन में भूखे मार रहा चीन, खाना बचाने के लिए शाम को 3 बजे ही सो जाते हैं लोग

पेइचिंग। कोरोना वायरस (corona virus) के प्रकोप को रोकने के लिए चीन (china) ‘जीरो कोविड पॉलिसी (zero covid policy)’ पर जोर दे रहा है। इसके लिए चीनी सरकार (chinese government) सभी हदें पार करने के लिए भी तैयार है। फिर चाहें लोगों को घरों को कैद करना हो या स्टील के बक्से में। चीनी सरकार (chinese government) यह दावा कर रही है कि शिआन में कोरोना 5 जनवरी के बाद से अब काबू में है। हालांकि सरकार की ओर से नियमों को और ज्यादा कड़ा कर दिया गया है और लोग अभी भी अपने घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं।

हालत यह है कि लोगों के पास खाने जैसी मूलभूत चीजें भी खत्म हो चुकी हैं और अब वे दाने दाने को मोहताज हो रहे हैं। 9 जनवरी को शिआन के यांटा जिले की एक निवासी ने कहा कि मैं कभी कोरोना पॉजिटिव (corona positive) हुई ही नहीं, तो फिर मेरा दरवाजा क्यों सील किया गया है? काई जियायिंग ने कहा कि हमारे आवासीय परिसर को 21 दिनों के लिए बंद कर दिया गया है। लॉकडाउन के शुरुआत में मैंने खुद को सांत्वना दी। लेकिन कुछ दिनों बाद मैं निराश हो गई और आज सुबह मैं पागल हो गई।

आगे उन्होंने बताया कि बीते तीन दिनों में वह और उनके पति सिर्फ थोड़ा-सा खाना ही खरीद पाए हैं और उन्हें नहीं पता कि अब कब कुछ और खरीद पाएंगे। काई ने कहा कि मुझे चिंता है कि हमारे पास जल्द ही खाने के लिए कुछ नहीं होगा। हम अपना पेट नहीं भर सकते। हम हर रोज खाने के बाद शाम को 3 से 4 बजे तक सो जाते हैं। हम खाना बचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा सोते हैं। उन्होंने बताया कि परिवार के पास खाने के लिए सिर्फ एक कटोरी चावल, करीब पांच किग्रा आटा, सात कप नूडल्स और थोड़ा-सा मीट बचा हुआ है।

इतने राशन में काई का परिवार मुश्किल से एक हफ्ते तक खाना खा सकता है। जानकारी के मुताबिक हर किसी के पास एक दर्दनाक कहानी है। चीन के शून्य कोविड रणनीति के कारण पूरे देश में करीब दो करोड़ लोग अपने-अपने घरों में कैद हैं। इनमें शियान के अलावा आन्यांग और युझोउ शहर भी शामिल हैं। इन शहरों के लोगों को भी खाने-पीने का सामान खरीदने तक के लिए बाहर निकलने की अनुमति नहीं है।

ओमीक्रोन (omikron) के दो मामले सामने आने के बाद चीन ने सोमवार देर रात 55 लाख लोगों के शहर आन्यांग में लॉकडाउन लगा दिया था। रिपोर्ट के अनुसार, चीन हजारों की संख्या में लोगों को शियान (Xi’an) शहर के बाहरी इलाकों में बने क्वारंटीन शिविरों में कैद कर रहा है। इन शिविरों में कैद रहे लोगों ने बताया है कि वहां गर्भवती महिलाओं, बुजुर्ग और बच्चों को भी रखा गया है। उन लोगों ने जीरो कोविड राज्य में डिटेंशन कैंपों की भयावहता को भी बताया है।

ऑनलाइन शेयर किए जा रहे एक वीडियो में लोगों को लकड़ी के बिस्तर और शौचालय से सुसज्जित छोटे बक्से में दिखाया गया है। इस जगह पर उन्हें दो हफ्तों तक रहने के लिए मजबूर किया जाता है। इन शिविरों में कैद लोगों को पीपीई किट पहने कुछ लोग खाना देते नजर आ रहे हैं। जिन लोगों को इन क्वारंटीन कैंप्स (quarantine camps) में कैद किया गया था, उन लोगों ने बताया है कि उन्हें बहुत कम खाना दिया जाता था।

Share:

Next Post

एक ग्राम पंचायत पर 5 किसान नेता होंगे तैनात

Fri Jan 14 , 2022
51 प्रतिशत वोट बैंक को लेकर अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी जुटेगा किसान मोर्चा इंदौर। 51 प्रतिशत वोट बैंक (vote bank) को लेकर अब किसान मोर्चा भी ग्रामीण क्षेत्रों में काम करेगा। कल राष्ट्रीय महामंत्री और प्रदेश अध्यक्ष (National General Secretary and State President) की मौजूदगी में संभाग के सभी जिलों से इक हुए नेताओं […]