ज़रा हटके

गाय की डकार वायुमंडल के लिए खतरा ! ब्रिटेन की एक कंपनी ने बनाई इसे रोकने की योजना

नई दिल्‍ली । रॉयल कॉलेज ऑफ आर्ट (Royal College of Art) का दौरा करने के बाद प्रिंस चार्ल्स (Prince Charles) ने एक ऐसे आविष्कार का समर्थन किया है जो गाय के डकार (cow’s burps) से निकलने वाली मीथेन को कार्बन डाइऑक्साइड (Carbon dioxide) और जल वाष्प (water vapour) में बदल देगा. यह जानवर के सिर के चारों ओर एक मुखौटा के रूप में एक मीथेन पकड़ने वाला उपकरण लगाकर किया जाएगा जो गैस को पकड़ लेगा और इसे वातावरण में छोड़ने से पहले सूक्ष्म आकार के उत्प्रेरक कनवर्टर में स्थानांतरित कर देगा. इसके पीछे कंपनी Zelp नाम की एक स्टार्टअप है और उसका दावा है कि परीक्षणों से मीथेन उत्सर्जन में 53 प्रतिशत की कमी देखी गई है, जिसे अगले साल तक 60 प्रतिशत तक लाने की उम्मीद है.

गायें बहुत अधिक मीथेन और कार्बन डाइऑक्साइड का उत्पादन करती हैं जो दोनों ही जलवायु परिवर्तन में भारी योगदान देती हैं. ज़ेल्प के अनुसार, यह भी पाया गया है कि इनमें से 95 प्रतिशत से अधिक उत्सर्जन उनके मुंह और नाक से होता है. कंपनी ने पशुधन पर अपने उपकरणों का परीक्षण करने में मदद करने के लिए यूनाइटेड किंगडम के सबसे बड़े मांस निर्माताओं में से एक के साथ काम करना शुरू कर दिया है.

द टेलीग्राफ के अनुसार, प्रिंस चार्ल्स ने आविष्कार को “आकर्षक” बताया और इसके रचनाकारों से बात की. उन्होंने कहा, “मैं कह सकता हूं कि यह महत्वपूर्ण है क्योंकि हम सभी दिशाओं में संकट का सामना कर रहे हैं और समाधान खोजने के मामले में उनके विचार कितने महत्वपूर्ण हैं … मैं केवल परिणाम के रूप में आशा कर सकता हूं इसके बारे में और आप जो कर रहे हैं उस पर अधिक ध्यान आकर्षित करना कि हमारे पास इस लड़ाई को कम समय में जीतने का बेहतर मौका होगा. मैं केवल आपको हर संभव सफलता की कामना कर सकता हूं. बहुत-बहुत बधाई, अद्भुत.”

प्रिंस के सस्टेनेबल मार्केट्स इनिशिएटिव के हिस्से के रूप में आविष्कार ने तीन अन्य लोगों के साथ 50,000 पाउंड का पुरस्कार जीता.

Share:

Next Post

शनिवार के दिन इन चीजों की भूलकर भी न करें खरीदारी, वरना रूष्‍ठ होंगे शनिदेव

Sat Apr 30 , 2022
नई दिल्‍ली। हिंदू धर्म(Hindu Religion) में प्रत्येक कार्य के लिए दिन, समय और सही मुहूर्त तय किया गया है. ताकि उस काम को करने के बाद शुभ परिणाम (good result) की प्राप्ति हो सके. वास्तु के अनुसार कोई भी सामान किसी भी दिन नहीं खरीदा जा सकता. कुछ सामान दिन देखकर खरीदे जाते हैं. जिस […]