देश

बीकानेर में शुरू होगा डोर-टु-डोर कोरोनारोधी वैक्सीन कैंपेन


बीकानेर। राजस्थान के बीकानेर में सोमवार से घर-घर जाकर 45 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोगों के लिए वैक्सीनेशन ड्राइव (Door to Door vaccination Drive) शुरू होगी। घर-घर जाने के लिए 2 एम्बुलेंस और 3 मोबाइल टीमों को लगाया गया है। जिला प्रशासन ने हेल्पलाइन (heplline) के रूप में एक वॉट्सऐप नंबर जारी किया है, जहां लोग अपना नाम और पता देकर टीका के लिए रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।

ऐसे में बीकानेर देश का पहला ऐसा शहर बन गया है जहां कोरोना को लेकर यह पहल की जा रही है। बता दें कि कम से कम दस लोगों के साइनअप(sign up) के बाद वैक्सीन वैन लोगों के घरों के लिए रवाना होगी। 10 लोगों के रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता इसलिए रखी गई है कि बेवजह के व्यय को कम किया जा सके। दरअसल, टीके की एक शीशी का उपयोग 10 व्यक्तियों को टीका लगाने के लिए किया जा सकता है।

जिस व्यक्ति को वैक्सीन लगाई जाएगी उसके पास ऑब्ज़ेर्वेशन (observation) के लिए एक मेडिकल स्टाफ रहेगा, जबकि यहां शॉट लगाने के बाद वैक्सीन वैन दूसरे पते पर शॉट के लिए जाएगी। बीकानेर में अब तक लगभग 3 लाख 69 हजार लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है।

डॉक्टरों को दी जाएगी जिम्मेदारी
राज्य की राजधानी जयपुर से लगभग 340 किलोमीटर दूर है बीकानेर। यहां 16 शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं। इन केंद्रों के डॉक्टरों को सूचित किया जाएगा कि उनके क्षेत्र में किन्हें टीका लगाया जा रहा है, ताकि किसी भी साइड इफेक्ट (Side Effect) की निगरानी वे कर सकें।

बीकानेर के कलेक्टर नमित मेहता ने एनडीटीवी को बताया कि 2011 की जनगणना के अनुसार शहर की आबादी 7 लाख से अधिक है और अब तक लगभग 60-65 प्रतिशत आबादी का टीकाकरण किया जा चुका है।

Share:

Next Post

‘मौत को मात’ देकर व्हेल के मुंह से 40 सेकेंड बाद जिंदा बाहर आया शख्स

Sun Jun 13 , 2021
दुनिया की सबसे बड़ी मछली मानी जाने वाली व्हेल (Whale) के आकार को देखते हुए कहा जाता है कि ये इंसानों को निगल सकती हैं. अमेरिका (America) में हुई एक घटना ने इस बात को सच साबित भी कर दिया है. दरअसल, एक अमेरिकी मछुआरे (US Fisherman) का कहना है कि उसे हंपबैक व्हेल (Humpback […]