मनोरंजन

12 साल बाद बड़े पर्दे पर वापसी करेंगे फरदीन खान, रितेश देशमुख के साथ इस फिल्म में आएंगे नजर

डेस्क। बॉलीवुड अभिनेता फरदीन खान पिछले कई वर्षों से फिल्मी पर्दे से दूरी बनाए हुए हैं। वहीं, अब वह 12 साल बाद फिर से बड़े पर्दे पर कदम रखने जा रहे हैं। पिछले साल रितेश देशमुख के साथ एक फिल्म में फरदीन के कमबैक की घोषणा की गई थी। पहले जहां फिल्म को सिनेमाघरों में रिलीज करने की तैयारी थी, तो अब खबर है कि यह सीधे ओटीटी पर आएगी। फिल्म को संजय गुप्ता और भूषण कुमार प्रोड्यूस कर रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार फरदीन खान कूकी गुलाटी की फिल्म विस्फोट से दोबारा बॉलीवुड में अपने कदम रखने जा रहे हैं। संजय गुप्ता द्वारा निर्मित इस फिल्म की पिछले साल सितंबर में सिनेमाघरों में रिलीज करने की घोषणा हुई थी। लेकिन हाल ही में संजय गुप्ता ने बताया कि फरदीन खान की कमबैक फिल्म सिनेमाघरों में नहीं सीधे ओटीटी पर स्ट्रीम करेगी। एक इंटरव्यू में संजय गुप्ता ने बताया कि बॉक्स ऑफिस की परिस्थितियों के कारण 2023 में फिल्म को सीधे ओटीटी पर ही रिलीज करने का फैसला लिया गया है।

विस्फोट 2012 की वेनेजुएला की फिल्म रॉक, पेपर, कैंची का आधिकारिक रीमेक है। रिपोर्ट्स की मानें तो फिल्म में रितेश देशमुख एक पायलट और फरदीन खान एक किडनैपर का किरदार निभा रहे हैं, जो रितेश के बेटे का अपहरण कर लेते हैं। वहीं, एक इंटरव्यू में फरदीन खान ने बताया था कि वह डोंगरी के एक लड़के की भूमिका निभा रहे हैं। फिल्म की शूटिंग दक्षिण मुंबई इलाके में हुई है। इस फिल्म में फरदीन और रितेश के अलावा प्रिया बापट, क्रिस्टल डिसूजा, सीमा बापट और शीबा चड्ढा भी शामिल हैं।

संजय गुप्ता ने इंटरव्यू में यह भी बताया कि हर्षवर्धन राणे और मीजान जाफरी स्टारर उनकी डायरेक्टोरियल वेंचर भी सीधे ओटीटी पर आएगी। फिल्मों को थिएटर में रिलीज न करके ओटीटी पर रिलीज करने के पीछे की वजह पूछने पर उन्होंने कहा, हमें इन फिल्मों को थिएटर में ले जाने और बड़ी संख्या में कमाई करने का कोई भ्रम नहीं पाला है। मुझे पता था कि बॉलीवुड को कोरोना के बाद फिर से पटरी पर लौटने के लिए दो साल लगेंगे। वहीं, संजय गुप्ता का प्रोडक्शन हाउस तीन और फिल्मों बना रहा, जो भी ओटीटी पर रिलीज होंगी।

Share:

Next Post

INDORE : गौ-सेवकों पर भी गौ-तस्करी का मुकदमा दर्ज

Wed Nov 30 , 2022
  इन्दौर। पुलिस (Police) और संगठन से जुडे कुछ लोग किसानों (farmers) और गौ सेवकों (cow servants) को भी पशु तस्कर (cattle smugglers) बताते उन पर मुकदमा दर्ज करवाने से नहीं चूक रहें है । ये पड़ताल नहीं करते कि कौन गौ तस्कर (cow smugglers) है और कौन गौ सेवक (cow servant) ? बस सडक़ […]