विदेश

Gaza: हमास के ठिकानों पर हमले जारी, नेतन्याहू बोले- जीत के अलावा दूसरा विकल्प नहीं

येरुसलम (Jerusalem)। इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Israeli Prime Minister Benjamin Netanyahu) बीते 109 दिनों से जारी लड़ाई को खत्म करने के मूड में नहीं हैं। उन्होंने हमास के आतंकी ठिकानों (Hamas terrorist bases) को निशाना बनाने के मामले में कहा है कि इस्राइली सैनिकों (Israeli soldiers) के पास जीत के अलावा कोई दूसरा विकल्प ही नहीं है। एक रिपोर्ट के मुताबिक नेतन्याहू ने शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक में साफ किया कि विश्लेषण करने वाले लोगों की राय से उन्हें खास फर्क नहीं पड़ता। उन्होंने कहा कि जीत के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। बता दें कि पश्चिम एशिया / मध्य पूर्व (Middle East) और सामरिक मामलों के कई जानकार इस्राइल की जीत को असंभव और जरूरी नहीं मानते। हालांकि, ट्रंप का कहना है कि उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।


सैनिकों के पास पहुंचे प्रधानमंत्री नेतन्याहू
इस्राइली सेना के इलियाकिम बेस का दौरा करने पहुंचे पीएम नेतन्याहू ने कंपनी कमांडरों के प्रशिक्षण कार्यक्रम में कैडेटों और रिजर्विस्ट दोनों से मुलाकात की। सेना के इस ट्रेनिंग सेंटर के उप कमांडर कर्नल शेरोन एल्टिट ने प्रधानमंत्री को लड़ाकू कंपनी कमांडरों को दी जाने वाली ट्रेनिंग के बारे में विस्तार से बताया। पीएम नेतन्याहू ने प्रशिक्षण हासिल कर रहे कैडेटों से भी बात की।

‘पूर्ण जीत से कम स्वीकार नहीं’
उन्होंने गाजा में बीते 109 दिनों से जारी युद्ध में हुई प्रगति की जानकारी भी ली। पीएम नेतन्याहू ने दक्षिण, उत्तर और यहूदिया और सामरिया में जारी सैन्य गतिविधि को लेकर सरकार की नीति के बारे में सैनिकों को भी जानकारी दी। उन्होंने दो टूक लहजे में कहा, ‘पूर्ण जीत से कम उन्हें किसी और चीज की उम्मीद नहीं।’

जीत अनावश्यक नहीं, सबसे जरूरी
नेतन्याहू ने कहा, युद्ध में जीत का कोई दूसरा विकल्प नहीं है। विश्लेषकों और टिप्पणीकारों का मानना है कि यह असंभव और अनावश्यक है। हालांकि, उनकी नजर में यह संभव होने के साथ-साथ जरूरी भी है। नेतन्याहू ने दोहराया कि पूर्ण जीत का कोई दूसरा विकल्प है ही नहीं।

IDF के सैनिकों के कंधे पर पूरे देश की जिम्मेदारी
प्रधानमंत्री नेतन्याहू के आक्रोश का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने हमास के हमलावरों को राक्षस बताया है। उन्होंने कहा कि ये राक्षस जरूर हारेंगे। उन्हें इस्राइली सैनिकों की क्षमता पर भरोसा होने के साथ-साथ जीत की आशा भी है। नेतन्याहू ने कहा, उन्हें यकीन है कि IDF के सैनिक भी इसी लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में संघर्ष कर रहे हैं। उन्होंने कहा, कमांडर बनना आसान नहीं है, लेकिन आपने इस जिम्मेदारी को बखूबी संभाला है। हर एक सैनिक के कंधों पर पूरे इस्राइल का भाग्य है। इसे अतिश्योक्ति नहीं समझा जाना चाहिए।

Share:

Next Post

कांग्रेस ने पंजाब और उत्तराखंड के लिए बनाई चुनाव समितियां, नवजोत सिद्धू को भी मिली जगह

Wed Jan 24 , 2024
नई दिल्‍ली (New Delhi) । कांग्रेस (Congress) ने लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) के मद्देनजर मंगलवार को पंजाब और उत्तराखंड (Punjab and Uttarakhand) के लिए प्रदेश चुनाव समितियां (state election committees) के गठन का एलान किया। पंजाब के लिए गठित समितियों में 27 स्थायी सदस्य और चार विशेष पदेन सदस्य इस समिति में होंगे। पार्टी […]