सर्दियों में शकरकंद सेवन के स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी फायदें

इस कड़ाके की ठंड में अगर आप सोच रही हैं कि बच्चे को क्या खिलाना चाहिए, तो उसे शकरकंद खिलाएं। यह स्वाद में मीठा है और पोषक तत्वों से भरपूर है। यह कार्बोहाइड्रेट और बीटा-कैरोटीन का अच्छा स्रोत है। बच्चों को ठोस आहार देने की शुरुआत करने के लिए भी यह बेहतरीन विकल्पों में से एक है। इसके अलावा यह पोटेशियम, कैल्शियम, विटामिन ए, सी और बी-कॉम्प्लेक्स जैसे पोषक तत्वों से भरपूर है।

​छोटे बच्चे को कब दें शकरकंद
छह माह के बच्चे को ठोस आहार के रूप में शकरकंद दिया जा सकता है। वैसे आपको यह देखना है कि क्या बच्चा सहजता से शकरकंद खा रहा है। यदि नहीं खा रहा है, तो जबरदस्ती न करें। एक बार खिलाने की कोशिश करें। यदि न खाए तो कुछ दिनों बाद दोबारा कोशिश करें।

बच्चे के साथ खाना खिलाने को लेकर जबरदस्ती करना सही नहीं है। जोर-जबरदस्ती करने से बच्चा खाना खाने से दूर भागने लगता है, जो कि सही नहीं है।

​बच्चों के लिए शकरकंद के फायदे
शकरकंद विटामिन ए से भरपूर है। यह बच्चों के स्वस्थ विकास और आंखों के लिए बहुत अच्छा है। इसमें बीटा-कैरोटीन होता है जो कि एक ऐसा तत्‍व है, जो शरीर में विटामिन ए बनाता है।
अपने बच्चे को इस आहार को जरूर दें। इसमें इतनी मात्रा में विटामिन ए पाया जाता है, जो शायद ही किसी अन्य आहार में मौजूद हो। यह बच्चे के बढ़ते शरीर के लिए बहुत अच्छा है।


शकरकंद खाने से क्‍या होता है
शरीर में मेटाबोलिज्म को ठीक रखने में कई तरह के खनिज पदार्थ उपयोगी होते हैं। इस मामले में शकरकंद बहुत अच्छा है। यह सभी महत्वपूर्ण खनिजों की खान है। इसमें कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, सोडियम और यहां तक कि इसमें जिंक भी होता है। यह सभी तत्व शरीर के लिए काफी उपयोगी है।
शकरकंद में सिर्फ विटामिन ए ही नहीं पाया जाता है बल्कि इसमें अन्य कई विटामिन भी होते हैं जैसे विटामिन सी, ई, के और विटामिन बी 1 से बी 6 तथा बी9। बच्चे के शारीरिक विकास के लिए इसमें मौजूद सभी विटामिन बेहद जरूरी हैं। शकरकंद खाने से बच्चे के शरीर में विटामिन की सप्लाई पर्याप्त मात्रा में बनी रहती है, जिससे बच्चे के अंग अच्छी तरह विकसित होते हैं।

​बच्चों में कब्ज से बचाव
यह स्टार्च और डाइटरी फाइबर से भरपूर है। शरीर स्टार्च को शुगर में बदलता है, जो कि ऊर्जा की तरह शरीर के लिए काम करता है। इसके सेवन से बच्चे एनर्जेटिक रहते हैं। इसके अलावा शकरकंद में डाइटरी फाइबर होता है, जो कि बच्चे को कब्ज की शिकायत से दूर रखता है। यदि आपके बच्चे को कब्ज की शिकायत रहती है, तो इस सुपर फूड को उसे जरूर खिलाएं।

शकरकंद का स्वाद मीठा-मीठा होता है, जो बच्चों को निःसंदेह काफी पसंद आता है। हालांकि, कुछ बच्चे इसे खाना पसंद नहीं करते हैं। लेकिन आप धीरे-धीरे करके और अलग-अलग तरह की रेसिपी बनाकर बच्चे को खिला सकती हैं। कोशिश करें कि उसकी डाइट में पोषक तत्वों से भरपूर यह फूड जरूर शामिल हो। इसके सेवन से बच्चे का स्वास्थ्य बेहतर रहेगा।

नोट – उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सुझाव सामान्‍य जानकारी के लिए हैं इन्‍हें किसी प्रोफेशनल डॉक्‍टर की सलाह के रूप में न समझें । शकरकंद का बच्‍चों को सेवन कराने से पहले एक बार डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें

Agniban

Next Post

शिवराज सरकार से बालिकाओं को आसमान छूने के लिए मिलते पंख

Wed Jan 27 , 2021
– डॉ. मयंक चतुर्वेदी मध्य प्रदेश में शिवराज की सरकार बालिकाओं के उज्ज्वल भविष्य एवं वर्तमान के लिए कितने संवेदनशील हैं, यह सत्ता में उनके आने के बाद निरंतर के कार्यकलापों से स्पष्ट हो रहा है। न केवल कन्या के महत्व को समाज जीवन में उन्होंने बार-बार अपने आदेशों एवं […]

Know and join us

www.agniban.com

month wise news

March 2021
S M T W T F S
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031