मनोरंजन

”खुदा हाफिज 2” पर लगा भावनाओं को आहत करने का आरोप

बॉलीवुड में एक्शन हीरो (Hero) की छवि बना चुके अभिनेता विद्युत् जामवाल और शिवालिका ओबरॉय (Vidyut Jamwal and Shivaleeka Oberoi) की आगामी फिल्म खुदा हाफिज 2 (Khuda Hafiz 2) इन दिनों चर्चा में है। यह फिल्म इसी महीने आठ जुलाई को रिलीज होने वाली है। लेकिन फिल्म की रिलीज से कुछ दिन पहले ही इस फिल्म के गाने ‘हक हुसैन’ को लेकर बवाल मच गया है और फिल्म के एकगाने पर शिया समुदाय (Shia community) की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगा है।

फिल्म के गाने हक़ हुसैन को देखकर शिया समुदाय के लोगों ने गुस्सा जाहिर किया है। उनके मुताबिक गाने में हुसैन शब्द का प्रयोग और दर्शाए गए सीन्स आपत्तिजनक हैं। ऐसे में अब इस फिल्म के मेकर्स ने माफी मांगते हुए एक बयान जारी किया है। खुदा हाफिज 2 के मेकर्स ने इस बयान में लिखा है कि -‘हम शिया समुदाय के लोगों के माफी मांगते हैं। हमारा इरादा किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का नहीं था। हमारी फिल्म के गाने हक हुसैन के अंदर बदलाव किया जाएगा। सेंसर बोर्ड के नेतृत्व में गाने के बोल हक हुसैन की जगह हक जूनून होंगे। साथ ही गाने के अंदर ब्लैड और मातम जंजीर के सीन्स में भी फेरबदल किया जाएगा।इतना ही नहीं खुदा हाफिज चैप्टर 2 के हक हुसैन गाने के लिरिक्स के बदलाव करते हुए करते हम इस गाने के माध्यम से हम सिर्फ इमाम हुसैन की गौरव की गाथा को दिखाना चाहते थे। ऐसे में किसी भी प्रकार की धार्मिक भावना के खिलाफ जाना हमारा उद्देश्य नहीं था। ऐसे में शिया सुमदाय से हम वादा करते हैं कि रिलीज से पहले इन सभी आपत्तियों को पूरी बदल दिया जाएगा।’


उल्लेखनीय है कि फिल्म खुदा हाफिज 2 की शूटिंग मेकर्स ने पिछले साल जुलाई में शुरू कर दी थी। यह फिल्म विद्युत जामवाल की साल 2020 में आई खुदा हाफिज का सीक्वल है। फिल्म खुदा हाफिज़ 2 में विद्युत जामवाल और शिवालिका ओबेरॉय के बीच एक गहन प्रेम कहानी को दिखाया जाएगा और इसके साथ ही फिल्म में सस्पेंस और भरपूर एक्शन सीन्स भी होंगे। कुमार मंगत पाठक और अभिषेक पाठक संयुक्त रूप से निर्मित इस फिल्म के निर्देशक -लेखक फारुख कबीर हैं। यह फिल्म इसी साल 8 जुलाई को रिलीज होगी।

Share:

Next Post

शोध में खुलासा: सोते समय तेजी से फैलती हैं कैंसर कोशिकाएं

Tue Jul 5 , 2022
बर्न। ब्रेस्ट कैंसर (breast cancer) के मरीजों में कैंसर कोशिकाएं(cancer cells) खून के जरिये आसानी से दूसरे अंगों में पहुंच जाती हैं। दरअसल, सोते समय इन मरीजों के शरीर में ट्यूमर सक्रिय होता है। इसी के सहारे ये शरीर के विभिन्न अंगों तक पहुंचकर गांठों के रूप में पनपने लगती हैं। यही कारण है कि […]

Leave a Reply

Your email address will not be published.