भोपाल न्यूज़ (Bhopal News)

नौ साल की नौकरी 80 लाख की संपत्ति जुटाकर लग्जरी लाईफ जीती है रंजना

  • टीआई सुसाइड केस में रंजना की जांच शुरु, नियुक्त से संपत्ति तक हर बात की हो रही जांच

भोपाल। इंदौर में भोपाल के श्यामला हिल्स थाने के टीआई हाकम सिंह पंवार सुसाइड मामले में पुलिस महिला एएसआई रंजना खाण्डे के रिकॉर्ड खंगाल रही है। अब तक की जांच में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। रंजना ने 9 साल की नौकरी में 60 लाख रुपए का बंगला खरीद लिया। बीस लाख रुपए की कारें उसके पास हैं। अन्य जगहों पर एशोआराम के भी साधन हैं। पुलिस इनकी कीमत का आकलन कर रही है। यह भी बात सामने आ रही है कि, बंगले के लिए भी महिला एएसआई ने हाकम सिंह पंवार को ब्लैकमेल किया था। जिसे लेकर भी दोनों के बीच कहासुनी चल रही थी। गोलीकांड के बाद पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र ने टीआई हाकम सिंह पंवार की मौत ओर एएसआई रंजना खाण्डे की जानकारी निकलवाना शुरू की। महिला एएसआई रंजना को पुलिस विभाग में आए मात्र 9 साल ही हुए हैं, लेकिन इतने सालों की नौकरी में सिलीकॉन सिटी में 60 लाख रुपए का बंगला खरीद लिया। यह पता लगाया जा रहा है कि उसके पास इतने रुपए कहां से आए। रंजना रीगल स्थित असिस्टेंट कमिश्नर पुलिस ऑफि स में पदस्थ है। नवंबर 2013 में उसकी नियुक्ति हुई थी। यहां पहली पोस्टिंग डीपीओ धार में हुई। वह अपनी मां और भाई के साथ धामनोद के संजय नगर में रहती थी। यहां नौकरी में सबसे पहले उसने दो लोगों पर आरोप लगाए। हालांकि दोनों मामलों में समझौता हो गया। इसे लेकर टीआई की विभागीय जांच भी हुई थी।


खरगोन में रिश्तेदार, इंदौर से दोस्ती
पुलिस सूत्रों के मुताबिक सराफ ा और खुड़ैल में टीआई रहते हाकम सिंह की रंजना से विभागीय मामलों को लेकर बातचीत होती रहती थी। हाकम सिंह की खरगोन में पोस्टिंग के दौरान रंजना अपने रिश्तेदार का काम कराने के लिए पहुंची थी। इसके बाद दोनों की दोस्ती बढ़ गई। पुलिस सूत्रों के मुताबिक छुट्टीयों में रंजना मंडलेश्वर की ट्रिप किया करती थी। वह सोशल मीडिया पर अपने स्टाइलिश फ ोटोज और वीडियो डालने के लिए भी डिपार्टमेंट में चचार्ओं में रहती थी।

2018 में इंदौर ट्रांसफ र कराया
धार में अपने ही डिपार्टमेंट में पदस्थ एक पुलिसकर्मी के घर पर रात दो बजे महिला एएसआई शिकायती आवेदन लेकर पहुंची थी। इस मामले में पुलिसकर्मी को बाले-बाले समझौता करना पड़ा। बाद में एक अन्य मामले में रंजना के खिलाफ शिकायत हुई। इसमें उसे अफ सर भोपाल ट्रांसफ र कर रहे थे, लेकिन घर दूर होने का हवाला देते हुए रंजना ने अपनी पोस्टिंग मई 2018 में इंदौर करा ली। इंदौर आने के बाद 31 दिसंबर 2021 को रिटायर्ड एसआई यादव पर भी महिला एएसआई ने आरोप लगाए थे। इस मामले में भी गुपचुप तरीके से समझौता हुआ था। पुलिस सूत्रों के मुताबिक बुरहानपुर में पदस्थ एक पुलिसकर्मी पर भी आरोप लगा चुकी है।

Share:

Next Post

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के लिए सदस्यों की घेराबंदी शुरू

Mon Jun 27 , 2022
भोपाल में कांग्रेस पलड़ा भारी भोपाल। पंचायत चुनाव के पहले चरण के मतदान के साथ ही जिला पंचायत अध्यक्ष को लेकर सियासी खींचतान शुरू हो गई है। दोनों प्रमुख दल कांगे्रस एवं भाजपा के दिग्गज नेताओं की निकाय चुनाव में व्यस्तथा के बीच दलों ने जिला पंचायत अध्यक्ष को लेकर टीम तैनात कर दी हैं। […]