देश भोपाल मध्‍यप्रदेश

डेढ़ वर्ष के पुत्र ने दी शहीद पिता का मुखाग्रि

अशोकनगर। गुना के सहरोक के जंगल में शिकारियों  (hunters in the forest) से जूझते हुए शहीद हुए सब इंस्पेक्टर राजकुमार जाटव (Sub Inspector Rajkumar Jatav) का पार्थिव शरीर उनके ग्रह नगर अशोकनगर लाया गया। जहां शनिवार को उन्हें पुलिस द्वारा गार्ड ऑफ ऑनर (guard of Honour) दिया गया। शहर के विदिशा रोड़ स्थित उनके निवास के आगे उनके अंतिम दर्शन करने हजारों की तादाद में लोग एकत्रित रहे और शोक स्वरूप आसपास की दुकानें बंद रहीं। इस अवसर पर स्थानीय पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा भोपाल से एडीजे विजय कटारिया भी यहां आये।

 

शहीद राजकुमार के पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार को ले जाते समय अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रदीप पटेल एवं एसडीओपी संजय चतुर्वेदी आदि पुलिस जवान और लोगों द्वारा उन्हें कंधा दिया। शहीद राजकुमार के पार्थिव शरीर के मुक्तिधाम पर पहुंचने पर उनके अंतिम संस्कार से पूर्व उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। जहां राज्यमंत्री बृजेन्द्र सिंह के अलावा एडीजे विजय कटारिया, कलेक्टर उमामहेश्वरी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रदीप पटेल, एसडीएम नेहा जैन, एसडीओपी संजय चतुर्वेदी सहित बड़ी संख्या में पुलिस अधिकारी, कर्मचारी एवं जनसमूह शामिल रहा।


सेवानिवृत्त सब इंस्पेक्टर के पुत्र थे शहीद सब इंस्पेक्टर:

शिकारियों की मुठभेड़ में अपने दो पुलिस जवानों के साथ शहीद हुए सब इंस्पेक्टर राजकुमार जाटव के पिता भी पुलिस में सब इंस्पेक्टर के रूप में सेवा निवृत्त हुए हैं। शहीद राजकुमार 2018 बेच के सब इंस्पेक्टर थे और वर्तमान में गुना में पदस्थ थे। शहीद राजकुमार का डेढ़ वर्ष का पुत्र है, जिससे हाथ लगवा कर उनके भाई द्वारा उनके अतिंम संस्कार की क्रिया की गई।

 

 

एक करोड़ की सहायता और नौकरी

 

शिकारियों की मुठभेड़ में सहित हुए सब इंस्पेक्टर राजकुमार जाटव एवं उनके दो साथियों नीरज भार्गव और संतराम मीणा की शहादत पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा उनके परिजनों को एक-एक करोड़ रुपये की सहायता राशि एवं प्रत्येक परिवार जन को नौकरी देने की घोषणा की गई है।

 

Share:

Next Post

कोयला खदान में पत्थर गिरने से दो कामगारों की मौत, एक घायल

Sat May 14 , 2022
बैतूल। डब्ल्यूसीएल (WCL) की तवा-1 खदान (Tawa-1 Mine) में बीती देर रात काम कर रहे दो कामगारों की पत्थर के नीचे दबने से मौत हो गई है, वहीं एक कामगार गंभीर रूप से घायल हो गया। इससे वेकोलि प्रबंधन में हडक़म्प (Hudkamp in WCL Management) मच गया। घटना के बाद कोलकर्मियों में उपजे आक्रोश के […]