इंदौर न्यूज़ (Indore News) मध्‍यप्रदेश

अन्नपूर्णा रोड की सडक़ के लिए रहवासी जुटे बाधाएं हटाने में

निगम का अमला भी क्षेत्र में पहुंचा, कई लोगों ने पीएम आवास योजना में फ्लैट के लिए हाथोहाथ रसीदें बनवाईं

इंदौर । अन्नपूर्णा चौपाटी (Annapurna Chowpatty) से लेकर पश्चिमी रिंग रोड (Western Ring Road) तक बनने वाली 150 फीट चौड़ी सडक़ (150 feet wide road) के लिए कल निगम (Corporation) की टीम ने वहां मुनादी कर दी थी। इनमें से कई लोगों को फ्लैट (Flat) भी दे दिए गए हैं। आज कार्रवाई होना है। इसके पहले सुबह से लोग खुद अपने मकानों के हिस्से तोडऩे में जुटे थे, वहीं रहवासियों का सामान शिफ्ट कराने के लिए कई डम्पर और रिमूवल की टीम मौके पर तैनात की गई थी।



शहर के कई स्थानों पर बनने वाली सडक़ों के लिए बाधाएं हटाने का काम कुछ दिनों से निगम ने शुरू कर दिया है। पिछले तीन-चार दिनों से अन्नपूर्णा चौपाटी से लेकर पश्चिमी रिंग रोड तक बनाई जाने वाली 150 फीट चौड़ी सडक़ के लिए अफसरों की टीम रहवासियों से बातचीत कर रही थी, ताकि वे वहां से फ्लैट में शिफ्ट हो जाएं। करीब ढाई सौ से ज्यादा मकान हैं, जिन्हें हटाया जाना है। आज सुबह से वहां कई रहवासियों ने अपने मकानों को खुद तोडऩा शुरू कर दिया था, वहां कई गरीब परिवार रहते हैं और पतरों से लेकर कई अन्य सामग्री निकालने की जुगत में भिड़े हुए थे। निगम अधिकारी डी.आर. लोधी के मुताबिक कई रहवासियों ने आज सुबह भी प्रधानमंत्री आवास योजना में फ्लैट लेने के लिए सहमति देते हुए अग्रिम राशि जमा कराने के लिैैए रसीदें भी बनवा ली हैं। सभी परिवारों की शिफ्टिंग के लिए निगम ने कई डम्पर बुलवाए हैं, ताकि उनका सामान रिमूवल टीम की मदद से शिफ्ट कराया जा सके।

सबसे आदर्श सडक़ बनाएंगे
महापौर पुष्यमित्र भार्गव का कहना है कि उक्त सडक़ इंदौर की सबसे चौड़ी सडक़ व आदर्श सडक़ बनाई जाएगी, ताकि यह एक उदाहरण बनें। उक्त सडक़ पर प्लांटेशन के साथ-साथ रहवासियों के लिए तमाम सुविधाएं जुटाई जाएंगी, साथ ही अलग से साइकिल ट्रैक भी बनाया जाएगा,

Share:

Next Post

इंदौर: कान्ह और सरस्वती किनारे बने मकानों को लेकर थोकबंद नोटिस

Thu Jun 13 , 2024
इंदौर। नगर निगम और जिला प्रशासन (Municipal Corporation and District Administration) ने कान्ह और सरस्वती (Kanha and Saraswati) किनारे बने मकानों (houses) का सर्वे कर लिया है। इसमें 2600 से ज्यादा ऐसे मकान हैं, जो कान्ह और सरस्वती नदी के किनारे और उसके मुहाने पर बने हुए हैं। इनमें कई पक्के मकान दो से तीन […]