देश

सैम पित्रोदा ने फिर दिया विवादित बयान, बोले ईवीएम में गड़बड़ी हो सकती है, मैंने स्टडी की है


नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) के दौरान विरासत कर (Inheritance tax) जैसा विवादित प्रस्ताव रखने वाले सैम पित्रोदा (Sam Pitroda) ने अब ईवीएम (EVM) पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि ईवीएम की व्यवस्था ठीक नहीं है और पेपर बैलेट सिस्टम (Paper ballot system)  से चुनाव कराना ही ठीक है। उन्होंने कहा कि बैलेट की गिनती से हार और जीत का फैसला होना ही सबसे सही व्यवस्था है।



सैमसै पित्रोदा ने एक्स पर लिखा, ‘मैंने 60 साल से ज्यादा वक्त तक इलेक्ट्रॉनिक्स, टेलिकॉम जैसे सेक्टर में काम किया है। मैंने ईवीएम की व्यवस्था का पूरा अध्ययन किया है। मेरा मानना है कि इनसे छेड़छाड़ हो सकती है। सबसे सही रहेगा कि बैलेट पेपर से ही चुनाव हो और उनकी गिनती से ही हार और जीत का फैसला किया जाए।

इस बीच ईवीएम को मुंबई उत्तर पश्चिम लोकसभा सीट पर हैक किए जाने के आरोपों पर चुनाव आयोग ने भी जवाब दिया है। आयोग के एक अधिकारी ने कहा कि ईवीएम एकदम अलग चीज है। यह इलेक्ट्रॉनिक या फिर इंटरनेट जैसी किसी चीज से नहीं जुड़ी है। इसके चलते इसे हैक नहीं किया जा सकता। इसके अलावा जैसा दावा किया जा रहा है कि इसे अनलॉक करने के लिए एक ओटीपी की जरूरत है, वह भी गलत है। इस बीच भाजपा ने चुनाव आयोग से मांग की है कि उन लोगों के खिलाफ ऐक्शन लिया जाए, जो ईवीएम को बदनाम कर रहे हैं।

बता दें कि एक मीडिया रिपोर्ट से यह विवाद शुरू हुआ था। उसमें दावा किया गया था कि मुंबई उत्तर पश्चिम लोकसभा सीट से कैंडिडेट रविंद्र वायकर के एक रिश्तेदार ने ईवीएम को मोबाइल से कनेक्ट कर लिया था। यह बात 4 जून की है, जिस दिन इलेक्शन के रिजल्ट आ रहे थे। इस चुनाव में रविंद्र वायकर 48 वोटों के मामूली अंतर से ही जीते हैं। इस तरह ऐसा दिखाने की कोशिश की गई थी कि मोबाइल से हैकिंग करके नतीजे को बदला गया। अब इस मामले ने तूल पकड़ा तो चुनाव आयोग ने सफाई दी है और कहा कि ओटीपी जैसा कोई सिस्टम ईवीएम में नहीं है।

Share:

Next Post

इंदौर भाजपा का अध्यक्ष पद संघ की पसंद का!

Mon Jun 17 , 2024
इंदौर जैसे शहर में गुटबाजी न बढ़े इसको लेकर किया जा रहा विचार इंदौर। लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) संपन्न होने के बाद अब भाजपा (BJP) में संगठन चुनाव (Organization elections) को लेकर सुगबुगाहट शुरू हो गई है। इंदौर (Indore) शहर का अध्यक्ष (president) कौन बनेगा, इसको लेकर अभी यही कयास लगाए जा रहे हैं। […]