उज्‍जैन

उज्जैन के पेट्रोल पंपों पर भी 15 प्रतिशत तक आपूर्ति घटी

  • 160 से अधिक पेट्रोल पंप है जिले में-पेट्रोल डीजल की कमी का असर फिलहाल नजर नहीं आ रहा

उज्जैन। देशभर में पेट्रोल डीजल की किल्लत से हाहाकार मचने लगा है। पेट्रोल डीजल की आपूर्ति में कमी की आँच जिले तक भी आ गई है। पिछले 4-5 दिनों में जिले के पेट्रोल पंपों पर लगभग 15 प्रतिशत आपूर्ति घट गई है। उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ सालों से लगातार बढ़ रही पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत में आम आदमी की हालत खराब कर रखी है। इसके कारण मंहगे रसोई गैस सिलेंडर से किचन का तो पेट्रोल-डीजल महंगे होने के कारण सारा बजट बिगड़ा हुआ है। पेट्रोल-डीजल महंगे होने से अन्य वस्तुओं के दाम भी लगातार आसमान छू रहे हैं। इससे आम आदमी का जीवन बसर कठिन हो गया है। लगभग एक महिने पहले केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल के कुछ दाम घटाए थे। बावजूद इसके उज्जैन में अभी भी पेट्रोल 109 रूपए लीटर मिल रहा है। डीजल भी लगभग इसी भाव का चल रहा है। गैस सिलेंडर के दाम उज्जैन में 1062 रुपए तक पहुंच गए हैं। इस बीच पिछले एक सप्ताह से देश में पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति का संकट गहराया हुआ है। पेट्रोलियम पदार्थों का भारत को निर्यात करने वाले देश मांग के अनुरूप सप्लाय नहीं कर रहे हैं जिससे मांग और आपूर्ति के बीच भारी अंतर आ गया है। देश के कई महानगरों में इसके कारण पेट्रोल पंपों पर वाहनों की कतारें भी नजर आई थी। अभी भी मांग के हिसाब से पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। जिले में भी इसका असर पडऩे लगा है।

माँग के अनुरूप नहीं हो रही पूर्ति
देशभर में उत्पन्न हुई पेट्रोल-डीजल की किल्लत के बीच उज्जैन जिले में भी पिछले एक सप्ताह से मांग के अनुरूप आपूर्ति कम हो गई है। उज्जैन पेट्रोल-डीजल एसोसिएशन के अध्यक्ष रवि लोहिया ने बताया कि जिले में पिछले कुछ दिनों से ऑयल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति मांग से लगभग 15 प्रतिशत तक घटा दी है। उनका कहना है कि हालांकि इससे फिलहाल कोई खास कमी या अंतर अभी तक नहीं आया है।

29 लाख लीटर के करीब मांग है उज्जैन में
उल्लेखनीय है कि जिले में 160 से अधिक पेट्रोल पंप हैं। इनमें से उज्जैन नगर निगम सीमा में 42 पेट्रोल पंप चल रहे हैं और एक या दो पेट्रोल पंप और तैयार हो चुके हैं। पेट्रोल पंप संचालकों के अनुसार जिले के 160 पंपों में से प्रत्येक पेट्रोल पंप पर औसतन प्रतिदिन 10 हजार लीटर डीजल तथा 8 हजार लीटर पेट्रोल की रोज खपत है। ्रइस प्रकार 160 पेट्रोल पंपों पर प्रतिदिन खपत का आंकलन किया जाए तो जिले में रोजाना 16 लाख लीटर डीजल तथा 12 लाख 80 हजार लीटर पेट्रोल की मांग रहती है। ऐसे में पेट्रोल-डीजल मिलाकर जिले में रोजाना 28 लाख 80 हजार लीटर की मांग है।

Share:

Next Post

पुलिस ने गुम हुए मोबाइल को किया बरामद

Sun Jun 19 , 2022
युवक ने थाना प्रभारी को दिया धन्यवाद रीवा। जिले में लगातार हो रही मोबाइल चोरी की घटनाओं को दृष्टिगत रखते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन के कुशल निर्देशन में समान थाना पुलिस ने चोरी गए मोबाइल को बरामद कर लिया है जानकारी के मुताबिक विनय पाण्डेय नामक छात्र का मोबाइल लगभग दो माह पूर्व […]