बड़ी खबर

उत्तरकाशी एवलांच हादसे में अब तक 19 लोगों की मौत, 13 लापता, 70 घंटे से चला रहा बचाव अभियान

उत्‍तरकाशी । उत्तरकाशी एवलांच (Uttarkashi Avalanche) हादसे में अभी तक 19 लोगों की मौत (Death) हो चुकी है, साथ ही 13 लोग लापता है. बता दें कि 70 घंटे से रेस्कयू ऑपरेशन (Rescue Operation) जारी है लेकिन बीच-बीच में मौसम खराब होने के चलते रेस्कयू ऑपरेशन रोकना पड़ रहा है. ये घटना द्रोपदी (Draupadi) का डांडा शिखर (Danda) पर हिमस्खलन के बाद हुई है.

अब तक 19 शव बरामद
उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि उत्तरकाशी हिमस्खलन के बाद अब तक कुल 19 शव बरामद किए गए हैं. शुक्रवार को उन्नत हेलीकाप्टर से शवों को मताली हेलीपैड तक लाने का प्रयास किया जाएगा. उन्होंने बताया कि मौके पर कुल 30 बचाव दल तैनात हैं. इसी के साथ शुक्रवार को भी मौसम रेस्कयू ऑपरेशन में बाधा डाल सकता है क्योंकि उत्तरकाशी में बादल छाए हुए हैं. वहीं 10 ट्रैकर ट्रेनी अभी भी लापता है और 19 शव अब तक बरामद किए जा चुके हैं.

टीमें लगातार कर रही राहत और बचाव कार्य
बता दें कि उत्तरकाशी एवलांच हादसे में गुरुवार से हाई एल्टिट्यूड वॉर फेयर स्कूल गुलमर्ग की टीम भी लग चुकी है. ये टीम भी हिमस्खलन में फंसे हुए लोगों को रेस्कयू कर रही हैं. ये गुलमर्ग और सियाचिन जैसे हाई एल्टिट्यूड पर युद्ध करने में पारंगत होते हैं. टीम के 15 लोग पहले ही उत्तरकाशी पहुंच चुके थे. ये टीम सेना को भी ग्लेशियर में कैसे बचाव करना है उसकी ट्रेनिंग देती है.

हाई एल्टीट्यूड वॉर फेयर स्कूल की टीम के साथ आईटीबीपी, एसडीआरएफ, एनआईएस और एनडीआरएफ के साथ बचाव कार्य कर रही है. अब रेस्क्यू के लिए 16000 फीट की ऊंचाई पर एक उन्नत हेलीकॉप्टर लैंडिंग ग्राउंड तैयार किया गया है. बता दें कि ये घटना मंगलवार को हुई थी. जिसके बाद से लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. तब पर्वतारोही पर्वतारोहण के लिए गए थे.

Share:

Next Post

Rashi Parivartan: नवंबर में बदलेगी इन दो ग्रहों की चाल, इन राशि वालों को मिलेगा जबरदस्‍त लाभ

Fri Oct 7 , 2022
नई दिल्‍ली। ज्योतिष के अनुसार, ग्रहों के राशि परिवर्तन(Rashi Parivartan ) या चाल परिवर्तन से सभी राशियां प्रभावित होती है. 13 नवंबर 2022 को दो प्रमुख ग्रह अपनी चाल बदलने जा रहें हैं. ज्योतिष शास्त्र की गणना के अनुसार 13 नवंबर 2022 को मंगल (Mars) वृषभ राशि में और बुध वृश्चिक राशि (Scorpio) में प्रवेश […]