विदेश

दुनिया का पहला अंडरग्राउंड गांव, कई सुविधाओं से है लैस

अभी तक आपने जमीन या पहाड़ के ऊपर बसे गांवों के बारे में सुना होगा. लेकिन क्या आपको उस गांव के बारे में भी पता है जो अंडरग्राउंड (Underground Village) ही बनाया गया है. जी हां, दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में स्थित इस गांव का नाम कूबर पेडी (Coober Pedy) है. इसकी बनावट इतनी शानदार है कि तस्वीरें देखकर ही आपका वहां जाने का मन करने लगेगा. आइए जानते हैं इस गांव के बारे में:

गर्मियों में 120 तक पहुंच जाता है तापमान

कूबर पेडी एक डेजर्ट एरिया है. यहां ओपल की कई खदानें हैं. इसलिए यहां पर गर्मियों में तापमान 120 डिग्री फारेनहाइट तक पहुंच जाता है और सर्दियों में बहुत कम हो जाता है. इसी के चलते यहां रहने वाले लोगों को बहुत तकलीफ को सामना करना पड़ता था.

खदान में बनाया गया अंडरग्राउंड गांव


इसका यह हल निकाला गया कि लोगों को माइनिंग के बाद खाली बची खदानों में शिफ्ट कर दिया जाए. बस फिर क्या था, अधिकांश लोगों ने अंडरग्राउंड घर बनाने शुरू कर दिए और वहां रहने लगे.

बेहतरीन सुविधाओं से है लैस


जमीन के नीचे होने के बावजूद भी ये घर पूरी तरह से फर्निश है, और सारी सुख सुविधाओं से लैस है. ऐसे यहां करीब 1500 घर हैं. अब ये जगह इतनी प्रचलित हो गई है कि कई हॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग यहां हो चुकी है.

इंटरनेट-बिजली और पानी का भी इंतजाम


इन अंडरग्राउंड घरों में इंटरनेट, बिजली, पानी जैसी सारी सुविधाएं हैं. अगर कुछ नहीं है तो सिर्फ सूरज की धूप. ऊपर से देखने पर आप को अंदाजा भी नही होगा कि ये घर अंदर से कैसे होंगे.

धूप के इंतजाम के लिए किया ये जुगाड़


हालांकि धूप के इंतजाम के लिए इस शहर में जगह-जगह पर जमीन से निकली हुई चिमनियां हैं और कई साइन बोर्ड भी लगे हुए हैं जोकि लोगों को सावधान करते हैं आगे खतरा है कि वो सावधानी पूर्वक चलें, नहीं तो वो जमीन के अंदर घर में गिर सकते हैं या किसी खाली पड़ी हुई गुफा के अंदर जा सकते हैं.

एक रात रुकने के लिए खर्च करने होंगे इतने रुपये


यहां पर एक अंडरग्राउंड होटल भी बनाया गया है, जहां आप 150 डॉलर देकर रात बिता सकते हैं. यहां का सुपरमार्केट भी अंडरग्राउंड ही है. यहां जमीन के नीचे ही अच्छे बढ़िया क्लब भी मौजूद हैं जहां आप पूल का गेम खेल भी सकते हैं.

Share:

Next Post

अफीम की जांच के नाम पर करोड़ों रूपये वसूलने वाले अधिकारी की हो सीबीआई जांच

Tue Jul 20 , 2021
मन्दसौर । मंदसौर विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया (Yashpal Singh Sisodia) ने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को पत्र लिखकर एंटी करप्शन ब्यूरो द्वारा पकड़े गए इंडियन रेवेन्यू सर्विसेज के अधिकारी शशांक यादव के मामले की सीबीआई जांच की मांग की है। नीमच की अल्कोलाइड फैक्ट्री के चीफ कंट्रोलर ऑफ फैक्ट्री तथा आईआरएस अधिकारी शशांक यादव […]