मनोरंजन

तंगहाली में जीवन जी रही Aamir Khan की ‘भाभी’, दवाई के लिए भी नहीं बचे पैसे

मुंबई। फिल्मों में अक्सर लीड रोल निभाने वाले कलाकारों को तो आगे चलकर काम मिलता जाता है, लेकिन सह कलाकारों को अपनी पहचान बनाने में काफी समय और स्ट्रगल लगता है. कई एक्टर्स तो भीड़ में इस तरह गुम हो जाते हैं कि उनकी गैर मौजूदगी से लोगों को फर्क तक नहीं पड़ता. ऐसा ही कुछ हुआ है आमिर खान(Aamir Khan ) की फिल्म ‘लगान’ में केसरिया का रोल निभाने वाली परवीना बानो (Parveena Bano) के साथ.
बॉलीवुड की मशहूर फिल्म ‘लगान’ में केसरिया का किरदार निभाने वाली परवीना बानो (Parveena Bano) को 2011 में ब्रेन स्ट्रोक हुआ था. इसके बाद परवीना की तबीयत बिगड़ती गई और इलाज के चलते उनकी सेविंग्स भी खत्म हो गई है. परवीना ने कहा कि मैं घर पर अपनी बेटी और छोटी बहनों के साथ रहती हूं. पति से अलग होने के बाद घर पर कमाने वाली मैं अकेली महिला थी. मैं छोटा-मोटा रोल कर पैसे कमाती थी और अपने घर का खर्च चलाती थी.


मीडिया से बात करते हुए परवीना बानो (Parveena Bano) ने कहा, ‘मेरा भाई मेरी देखभाल करता था, लेकिन उसे भी कैंसर है.’ मैंने अपने करियर की शुरुआत लगान से की थी. इसमें मेरे अपोजिट आमिर खान के भाई गोली थे. मेरे रोल का नाम केसरिया था. 42 साल की परवीना कहती हैं कि मुझे 2011 से गठिया है. ब्लड प्रेशर की भी समस्या थी, जिससे ब्रेन स्ट्रोक आया और लकवा का स्ट्रोक भी आया. मैं पिछले सात-आठ साल से इसी समस्या का सामना कर रही हूं. तभी से मेरी तबीयत बिगड़ने लगी.
परवीन (Parveena Bano) आगे कहती हैं, इलाज पर मेरा इतना पैसा खर्च हो गया कि उसका हिसाब ही नहीं है. तब से मैं बिना काम के घर पर हूं. मेरी बहन इंडस्ट्री मे असिस्टेंट डायरेक्टर के तौर पर काम करती थी. वही किसी तरह परिवार का खर्चा चला रही थी, लेकिन लॉकडाउन से फिल्मों का काम प्रभावित हुआ, जिससे उसकी नौकरी छीन गई. अब हमारे यहां कमाई का कोई जरिया नहीं बचा है. मैं मदद के लिए कई लोगों के पास पहुंची लेकिन कोई खास प्रतिक्रिया नहीं मिली. CINTA के लोगों ने राशन भेजा है. राजकमल जी दो बार राशन भी भेज चुके हैं. मेरा आज भी इलाज चल रहा है. मुझे हर हफ्ते दवाओं के लिए 1800 रुपये मिलते हैं.
परवीना बानो (Parveena Bano) ने ये भी बताया, ‘इलाज और दवाइयों का इंतजाम सही हो जाने पर मैं काम पर दोबारा लौट सकती हूं लेकिन पैसे के बारे में सोचकर डर जाती हूं. मेरे ब्रेन में पड़े क्लॉट्स को दवाइयों से ही सही किया जा सकता है.’ परवीना बानो की हालत के बारे में सोन सूद को बताया गया तो सोनू सूद (Sonu Sood) की टीम ने परवीना बानो (Parveena Bano) के यहां सबसे पहले महीनेभर का राशन भिजवाया और एक महीने की दवाइयां भी दिलवाई हैं.
फिल्म ‘लगान’ में परवीना बानो (Parveena Bano) ने केसरिया का रोल अदा किया था. वो आमिर के मुंहबोले भाई गोली की पत्नी बनी थीं. फिल्म में आमिर उन्हें भाभी कहकर बुलाते थे. गोली के पास गांव में सबसे बड़ा खेत होता है और उसी खेत में गांव के लोग क्रिकेट की प्रैक्टिस करते हैं.

Share:

Next Post

1 अक्तूबर से खुलेंगे सभी सिनेमाघर और ऑडिटोरियम, कोरोना दिशा-निर्देश का करना होगा पालन

Sat Sep 25 , 2021
बंगलूरू। कर्नाटक (Karnataka) में कोरोना की दूसरी लहर (second wave of corona) कमजोर पड़ने के बाद धीरे-धीरे प्रतिबंधों में ढील दिए जा रहे हैं। इसी सिलसिले में 1 अक्तूबर (1 October) से राज्य में सभी सिनेमाघर, ऑडिटोरियम, पार्क समेत अन्य सार्वजनिक जगहों को 100 फीसदी क्षमता के साथ खोल दिया जाएगा। इससे पहले अभी तक […]