Uncategorized

बेसहारा परिवारों को कोरोना त्रासदी के दंश से उबारेगा मुख्यमंत्री जी का निर्णयः विष्णुदत्त शर्मा

भोपाल। हमारे संवेदनशील मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) के नेतृत्व में प्रदेश की भाजपा सरकार पूरे कोरोना संकट के दौरान पीड़ित, दुखी, परेशान और लाचार लोगों की चिंता करती रही है। सरकार समाज को साथ लेकर जिस तरह से काम कर रही है, उसके अच्छे परिणाम भी दिखाई देने लगे हैं। लेकिन आज मुख्यमंत्री जी ने जो घोषणा की है, वैसी घोषणा कोई बड़े दिल वाला और जनता के दुख को महसूस करने वाला जननेता ही कर सकता है। कोरोना संकट में बेसहारा (Destitute in corona crisis) हुए परिवारों को सहारा देने के संबंध में मुख्यमंत्री जी ने जो घोषणा की है, उससे पीड़ित परिवारों की मुश्किलों को कम करने और नया जीवन शुरू करने में मदद मिलेगी। मैं इस घोषणा के लिए और कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई से पूरे समाज को जोड़ने के लिए मुख्यमंत्री जी का अभिनंदन करता हूं, आभार जताता हूं। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने गुरुवार को वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कही।

बेसहारा परिवारों को मिलेगा सहारा

श्री शर्मा ने कोरोना काल में दिवंगत पत्रकारों और नागरिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि कोरोना की त्रासदी ने कई बच्चों के सिर से माता-पिता का साया छीन लिया है, तो कई बुजुर्गों से उनके बुढ़ापे की लाठी छीन ली है। बहुत से परिवारों में अब कमाने वाला कोई नहीं बचा। कई घर ऐसे भी हैं, जिनमें अब सिर्फ बुजुर्ग माता-पिता और बच्चे ही रह गए हैं। हमारे संवेदनशील मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में राज्य मंत्रिमंडल ने ऐसे परिवारों को पांच हजार रुपये प्रतिमाह पेंशन, मुफ्त राशन तथा निःशुल्क शिक्षा आदि की जो घोषणा की है, वह निश्चित रूप से इन परिवारों के जीवन में आशा का संचार करेगी, उन्हें नया जीवन शुरू करने का उत्साह देगी। श्री शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की सरकार ने प्रदेश को बेसहारा परिवारों के लिए इस तरह की व्यवस्था करने वाला देश का पहला राज्य बना दिया है।

सबको साथ लेकर चल रही भाजपा सरकार

 

श्री शर्मा ने कहा कि कोरोना महामारी के खिलाफ इस लड़ाई में मध्यप्रदेश की सरकार दिन रात काम कर रही है और सरकार के साथ पार्टी संगठन भी पूरे समन्वय के साथ काम कर रहा है। हमारे कार्यकर्ता कहीं कोविड केयर सेंटर बना रहे हैं, तो कहीं लोगों को भोजन और दवाएं उपलब्ध करा रहे हैं। श्री शर्मा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास के मंत्र पर चलती है और कोरोना के खिलाफ यह लड़ाई भी इससे अछूती नहीं है। हमारी सरकार ने महामारी के खिलाफ लड़ाई में समाज को भी साथ लिया है। सरकार ने हर स्तर पर जो क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप बनाए हैं, उनका सदस्य कोई भी व्यक्ति, किसी भी राजनीतिक दल का कार्यकर्ता हो सकता है। सरकार की इस सोच के चलते अब कार्यकर्ताओं के साथ आमजन भी कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आगे आ रहे हैं और गांवों में स्वेच्छा कर्फ्यू लगाने से लेकर वेक्सीनेशन के लिए लोगों को प्रेरित करने तक के काम कर रहे हैं। समाज के इसी सहयोग का परिणाम है कि मध्यप्रदेश सबसे संक्रमित राज्यों की सूची में चौथे स्थान से अब 14 वें स्थान पर आ गया है और राज्य में पॉजीटिविटी रेट भी घटकर 12.72 प्रतिशत पर आ गया है। श्री शर्मा ने कहा कि इन समन्वित प्रयासों के लिए मैं प्रदेश सरकार और प्रदेश के नागरिकों को धन्यवाद देता हूं, आभार प्रकट करता हूं।

संकट के समय में भी भ्रम फैला रही कांग्रेस

श्री शर्मा ने कहा कि यह समय राजनीति करने का नहीं, बल्कि समस्या के समाधान के लिए प्रयास करने का है। ऐसे समय में जबकि हम सभी को मानवीयता की रक्षा के लिए जुट जाना चाहिए, कांग्रेस के लोग अभी भी भ्रम फैलाकर लोगों को डराने, गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। श्री शर्मा ने कहा कि पहले कांग्रेस ने वेक्सीन के बारे में भ्रम फैलाया, लेकिन हमारे युवाओं ने कांग्रेस की इन कोशिशों को असफल कर दिया, जिसके लिए मैं उन्हें धन्यवाद देता हूं। श्री शर्मा ने कहा कि कांग्रेस की इन हरकतों से दुखी होकर ही हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री नड्डा जी सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखने पर विवश हुए। प्रदेश अध्यक्ष श्री शर्मा ने कहा कि कमलनाथ जी जो स्वयं प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे हैं, कहते हैं पन्ना की एक नदी में 6 लाशें मिलीं। जबकि वास्तव में नदी में सिर्फ दो लाशें पाई गईं। जांच में पता चला कि ये लाशें भी उन व्यक्तियों की थीं, जिन्हें किसी विशेष बीमारी से मौत होने के कारण स्थानीय परंपरा के अनुसार जल में प्रवाहित किया गया था। कमलनाथ जी ने सिर्फ राजनीतिक वजूद बचाने के लिए जिस तरह से प्रदेश की जनता को गुमराह करने का प्रयास किया है, उसके लिए उन्हें प्रदेश की जनता से माफी मांगनी चाहिए। श्री शर्मा ने कहा कि विदिशा के कांग्रेस विधायक शशांक भार्गव अपने मोबाइल से एक वीडियो सोशल मीडिया पर प्रसारित करते हैं और उसे विदिशा का बताते हैं। लेकिन गौर से देखने पर वह वीडियो किसी और जगह का पाया जाता है। श्री शर्मा ने कहा कि ये वो लोग हैं, जिन्होंने पूरे संकट में एक बेसहारा व्यक्ति को भोजन नहीं कराया, कभी कोविड केयर सेंटर देखने नहीं गए, बस लोगों को गुमराह करके अपनी राजनीति चलाना चाहते हैं। लेकिन प्रदेश की जनता इनसे ऐसी हरकतों का जवाब मांगेगी।

Next Post

इजरायल-फिलीस्तीन मामला: Irfan Pathan के ट्वीट पर भड़की kangana Ranaut

Thu May 13 , 2021
नई दिल्ली. बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत का ट्विटर अकाउंट हाल में सस्पेंड किया गया, इसके बावजूद वह सोशल मीडिया पर एक्टिव रहती हैं और अपने विचार साझा करने के लिए इंस्टाग्राम का सहारा ले रही हैं. उन्होंने इजरायल-फिलीस्तीन (Israel-Palestine) के मामले में सोशल मीडिया पर इजरायल का समर्थन किया. इसी बीच पूर्व भारतीय ऑलराउंडर इरफान […]