भोपाल

Gwalior में राजनीति का अखाड़ा बना Hospital

  • प्रभारी मंत्री और स्वास्थ्य मंत्री चाहते हैं सिंधिया परिवार के सदस्य के नाम पर हो नामकरण

भोपाल। प्रदेश की सियासत में इन दिनों ग्वालियर-चंबल (Gwalior-Chambal) सुर्खियों में बना हुआ है। ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के नागरिक उड्डयन मंत्री बनने के तत्काल बाद ग्वालियर से भाजपा सांसद विवेक नारायण शेजवलकर (BJP MP Vivek Narayan Shejwalkar) ने ग्वालियर हवाई अड्डे को लेकर सिंधिया को पत्र लिख डाला। यह मामला ठंडा नहीं हुआ, उससे पहले शेजवलकर ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) को पत्र लिखकर ग्वालियर में बन रहे 1000 बेड के अस्पताल का नामकरण पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और डॉ श्यामाप्रसाद मुखर्जी (Atal Bihari Vajpayee and Dr. Shyamaprasad Mukherjee) के नाम पर करने की मांग उठाई है। जबकि जिले के प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट और स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी अस्पताल (In-charge Minister Tulsi Silavat and Health Minister Prabhuram Chaudhary Hospital) का नामकरण सिंधिया परिवार के सदस्य राजमाता सिंधिया और माधवराव सिंधिया (Rajmata Scindia and Madhavrao Scindia) के नाम पर कराने के पक्ष में हैं। प्रभारी मंत्री ने हाल ही में जिले के प्रवास के दौरान इसके निर्देश भी दिए थे। इसके बाद संासद ने सीएम को पत्र लिखकर मामले को तूल दे दिया है।

ग्वालियर सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने मुख्यमंत्री को लिखा है कि ग्वालियर में एक हजार बिस्तर का निर्माण अपनी पूर्णता की ओर है। यह आपके पूर्व के कार्यकाल की एक उल्लेखनीय सौगात है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर से सफलतापूर्वक मुकाबला करने की तैयारी की दृष्टि से जल्द ही यहां 500 बिस्तर का अस्पताल शुरू होने जा रहा है। 15 जुलाई को प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट ने इसके निर्देश भी दिए हैं। मध्य प्रदेश में भारतीय जनसंघ की स्थापना ग्वालियर से ही हुई थी। हमारे प्रेरणा स्त्रोत डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी का प्रवास भी उस समय यहीं था। ऐसे में इस निर्माणाधीन अस्पताल का नामकरण डॉ. श्यामा प्रसाद के नाम पर हो जाए तो यह हम सभी के लिए गर्व की बात होगी।

अटल जी के नाम पर हो सुपर स्पेशियलिटी का नाम
इसके साथ ही पत्र में यह भी मांग की गई है कि कोरोना काल में गंभीर कोविड पेशेंट के लिए इलाज का केन्द्र बना सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल का नाम पूर्व प्रधानमंत्री व ग्वालियर के लाड़ले अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर किया जाए। इसके लिए आपसे निवेदन है कि जल्द इस दिशा में प्रशासनिक स्तर पर आवश्यक दिशा निर्देश देने का कष्ट करें। जिससे जल्द यह नामकरण हो सके।

नामकरण ने इसलिए पकड़ा तूल
तुलसी सिलावट के ग्वालियर का प्रभारी मंत्री बनने के बाद यह चर्चा चल पड़ी है कि नए अस्पताल का नाम सिंधिया घराने के राजमाता विजयाराजे या माधवराव के नाम पर हो। मंत्री के ग्वालियर प्रवास के बाद से नामकरण को लेकर कानाफूसी शुरू हो गई थी। इससे पहले की मामला तूल पकड़ता सांसद ने मुख्यमंत्री को पत्र लिख दिया है। इसके बाद अस्पताल के नामकरण पर सियासी खींचतान शुरू हो सकती है।

Next Post

Congress दमोह मॉडल से ही लड़ेगी चारों उपचुनाव

Thu Jul 22 , 2021
लोकसभा और विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव की तैयारी में जुटी पार्टियां भोपाल। मप्र में खंडवा लोकसभा और जोबट, रैगांव तथा पृथ्वीपुर (Khandwa Lok Sabha and Jobat, Raigaon and Prithvipur) विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उपचुनाव की तैयारियों में भाजपा और कांग्रेस (BJP and Congress) जुट गई हैं। चारों उपचुनाव भाजपा के लिए […]