मनोरंजन

जानिए किस मामले में सोनू सूद ने शाहरुख और अक्षय को पीछे छोड़ा

नई दिल्ली। देश के लोकप्रिय एक्टर सोनू सूद (Sonu Sood) लॉकडाउन से ही सुर्खियों में हैं। वह अपनी दरियादिली के चलते लोगों के जेहन में बस गए हैं। यह सभी जानते हैं कि कैसे उन्होंने लॉकडाउन के समय प्रवासी मजदूरों की मदद की थी। लॉकडाउन तो कब का बीत गया, पर उनके नेक कामों का सिलसिला अभी भी जारी है।

मदद के लिए रहते हैं तैयार
सोनू के नेक कामों को देख कर लोग उन्हें मसीहा कहने लगे हैं। जब कोई जरूरतमंद सोशल मीडिया के जरिए उनसे मदद मांगता है, तब सोनू उसका जरूर रिप्लाई करते हैं और उसकी हरसंभव मदद करने की कोशिश करते हैं। ताजा खबरों के अनुसार, सोनू सूद सोशल मीडिया पर अपनी जबर्दस्त सक्रियता के चलते सुर्खियों में आ गए हैं। इस मामले में तो उन्होंने शाहरुख खान और अक्षय कुमार जैसे सुपरस्टार्स को भी पछाड़ दिया है। जब सोनू को इस बारे में पता चला तो वह खुद भी हैरान रह गए।

एक सर्वे में हुआ खुलासा
सोशल मीडिया एनालिटिक्स फर्म Twitteet के मुताबिक, सोनू सूद अक्टूबर के महीने में माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ‘ट्विटर’ (Twitter) पर पॉपुलैरिटी के मामले में चौथे नंबर पर हैं। यह फर्म राजनेताओं, बिजनेसमैन और फिल्म स्टार्स जैसी कई हस्तियों के ‘ट्विटर इंगेजमेंट’ का डेटा इकट्ठा करती है। इस लिस्ट में सोनू सूद ने चौथे नंबर पर आकर अक्षय कुमार (Akshay Kumar) और शाहरुख खान (Shahrukh Khan) को पछाड़ दिया है। इस मामले के बारे में जब सोनू को बताया गया, तब उन्होंने कहा था, ‘मुझे इस बारे में पता नहीं था, वाह!’।

जरूरतमंदों से जुड़ते हैं सोनू
सोनू सूद ने सोशल मीडिया पर अपनी उपस्थिति को लेकर भी बयान दिया है। वह कहते हैं, ‘मुझे लगता है कि मैं सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर उन लोगों से जुड़ता हूं, जिन्हें मेरी जरूरत है और ऐसे ही इसका इस्तेमाल होना चाहिए। टेक्नोलॉजी से आम इंसान और सिलेब्रिटीज के बीच की दूरियां कम होनी चाहिए।’

Next Post

26 नवंबर को 10 ट्रेड यूनियनों का देशव्यापी बंद, बैंक कर्मियों ने भी दिया समर्थन

Wed Nov 25 , 2020
नई दिल्ली। भारतीय मजदूर संघ समेत 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने 26 नवंबर को एक दिवसीय राष्ट्रव्यापी बंद की घोषणा की है। सरकार की श्रमिक विरोधी नीतियों के विरोध में प्रस्तावित इस हड़ताल को मंगलवार को अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) ने भी अपना समर्थन देने की घोषणा की। करीब 4 लाख बैंक कर्मचारियों […]