इंदौर बड़ी खबर मध्‍यप्रदेश

दिख गया तेंदुआ, दीवार फांंद कर भागा

 

  • नवरतन बाग में काम करती महिलाओं को देखकर दीवार फांदी

इंदौर। वन विभाग (Forest Department) से लेकर नगर निगम (Municipal Corporation) तक के अधिकारियों की नींद उड़ाने वाला तेंदुआ (Leopard) आज नवरतन बाग (Navratan Bagh) में नजर आया। चार दिनों से गायब यह तेंदुआ बुरहानपुर से लाया गया था जिसे लेकर पहले नगर निगम पल्ला झाड़ता रहा और आरोप लगाया कि बुरहानपुर के अधिकारियों ने तेंदुए (Leopard)  को भेजा ही नहीं था, जबकि बुरहानपुर के अधिकारी तेंदुए को इंदौर भेजने और चिडिय़ाघर (Zoo) से ही गायब होने के दावे करते रहे। तेंदुए (Leopard)  के गायब होने के बाद से उसकी खोज में अधिकारियों ने दिन-रात एक किए हुए थे। आज सुबह वह नवरतन बाग (Navratan Bagh)  में वन विभाग (Forest Department)  की महिला कर्मचारियों को दिखा और दीवार फांदकर भाग गया। तेंदुए की खोज में कई टीमें फिर जुट गई है।


खोल सकते हैं चिडिय़ाघर, 8 माह के तेंदुए के बच्चे से किसी को खतरा नहीं
तेंदुए  (Leopard)  के मादा बच्चे के चिडिय़ाघर में गुम हो जाने से जू बंद पड़ा है और हर दिन उसे हजारों रुपए का नुकसान उठाना पड़ रहा है, लेकिन प्राणी संग्रहालय और वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि लापता तेंदुए के बच्चे से किसी को डरने की जरूरत नही है। 8 माह का बच्चा किसी को नुकसान नहीं पहुंचा सकता है। इसलिए प्राणी संग्रहालय (zoological museum) खोल देना चाहिए।
वन्य प्राणी संग्रहालय के अंदर लाए गए नेपानगर वन विभाग (Forest Department)  के पिंजरे से 100 घंटे से गायब लापता तेंदुए के बच्चे वाले मामले में मुख्य वन संरक्षक एचएस मोहंते का कहना है 8 माह के तेंदुए (Leopard)  के बच्चे से किसी को कोई भी खतरा नहीं है, क्योंकि तेंदुए के बच्चे 12 माह से 18 माह के बीच शिकार करना सीख पाते है।

वन विभाग की गैर जिम्मेदारी
वन विभाग (Forest Department) के वरिष्ठों का कहना है कि इस मामले में वन विभाग (Forest Department) के अधिकारियों ने गैर जिम्मेदाराना काम किया है, जबकि रेस्क्यू आपरेशन के दौरान पकड़े गए वन्य जीव को दूसरी जगह शिफ्ट किया जाता है तो उसकी मेडिकल जांच की जाती है। उसका पंचनामा बनाया जाता है। इसके बाद जहां पर उसको सौंपा जाता है, वहां के अधिकारियों के समक्ष उसकी वीडियोग्राफी कर दोबारा मेडिकल जांच की जाती है, मगर लापता तेंदुए (Leopard) के बच्चे के मामले में लिखित की बजाय सब फोन पर ही कार्रवाई की गई। नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल इन दिनों अवकाश पर हैं। प्रभारी भव्या मित्तल से बात की गई तो उन्होंने बताया कि हमने जांच कमेटी गठित कर दी है, जो जांच कर रही है।

Share:

Next Post

Kashi Vishwanath Corridor: PM के दौरे से पहले 'गेरुआ' रंग में रंगी मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने किया विरोध

Tue Dec 7 , 2021
वाराणसी । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी विश्वनाथ कॉरिडोर (Prime Minister Narendra Modi Kashi Vishwanath Corridor) का उद्घाटन 13 दिसंबर को करेंगे। जिसकी तैयारिंया जोरों पर चल रहीं हैं। श्री काशी विश्वनाथ धाम लोकार्पण समारोह में भाग लेने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पतित पावनी गंगा (the holy Ganges) के गोद में एक घंटे से अधिक […]