इंदौर न्यूज़ (Indore News)

डेढ़ सौ से ज्यादा जलस्त्रोतों की सफाई में हाथ बंटाया रहवासियों ने

  • कई एनजीओ की टीमों के साथ-साथ स्वयंसेवी संगठनों ने भी लिया हिस्सा

इन्दौर। शासन के निर्देश केबाद शहर में जलस्त्रोतों की सफाई से लेकर उनके संरक्षण का काम तेजी से जारी है। इसके लिए पहले दौर में कब्जे हटाने की कार्रवाई की गई थी और अब रहवासियों की मदद से जलस्त्रोतों की सफाई की जा रही है। 150 से ज्यादा स्थानों पर यह कार्य पूरा हो चुका है और इतने ही स्थानों पर अभी और होना बाकी है।

जल गंगा संवर्धन और वंदे जलम् अभियान के तहत नगर निगम और प्रशासन की टीमों ने जलस्त्रोतों के आसपास से कब्जे हटाए थे और चैनलों की सफाई का कार्य बड़े पैमाने पर कराया था। यह अभियान अभी भी जारी है और इसके तहत अब जलस्त्रोतों के आसपास सफाई करने से लेकर कुएं-बावडिय़ों की चैनल दुरुस्त की जा रही है। प्रोजेक्ट के प्रभारी रोहित बोयत के मुताबिक विभिन्न एनजीओ टीमों, रहवासियों और सामाजिक संगठनों की मदद से अब तक सिरपुर तालाब, टिगरिया बादशाह तालाब, कमला नेहरू नगर कुएं के आसपास, छत्रीबाग से लेकर कई अन्य क्षेत्रों में कुएं-बावडिय़ों की सफाई का अभियान चलाया गया। इनमें पीलियाखाल की कई बावडिय़ों की सफाई के दौरान स्कूली छात्र-छात्राओं ने भी मोर्चा संभाला। उनकी मदद से बावडिय़ों से बड़ी मात्रा में कचरा निकालकर डंपरों में ट्रेंचिंग ग्राउंड भेजा गया। निगम का दावा है कि अब तक 150 से ज्यादा तालाब, कुएं, बावडिय़ों की सफाई की जा चुकी है और आने वाले दिनों में इतने ही स्थानों पर और कार्य होना है।

अब तक 75 स्थानों पर लगाए रिचार्ज शाफ्ट
नगर निगम के अफसरों को शहर के 200 से ज्यादा जलजमाव वाले स्थानों पर रिचार्ज शाफ्ट लगाने के निर्देश दिए गए थे। इसी टारगेट के चलते अब तक 75 से ज्यादा स्थानों पर रिचार्ज शाफ्ट लगाने का काम पूरा कर लिया गया है। अधिकारियों के मुताबिक कई मुख्य चौराहों से लेकर जलजमाव वाले क्षेत्रों में रिवर्स बोरिंग कर यह सिस्टम लगाया जा रहा है, ताकि बारिश का जमीन सीधे जमीन में उतर सकेगा। इसके लिए कुछ संस्थाओं की मदद भी ली जा रही है और आने वाले दिनों में शेष बचा टारगेट भी पूरा किया जाएगा।

Share:

Next Post

सब चुनाव खत्म हो गए, अब निचले स्तर के कार्यकर्ताओं की याद आई

Sat Jun 15 , 2024
ग्राम पंचायत कमेटियों का गठन कर कांग्रेस को मजबूत करने की कवायद इंदौर। सबकुछ लुटा (looted everything) के होश में आए तो क्या किया….किसी गीतकार (Lyricist) की ये पंक्तियां कांग्रेसियों (Congressmen) पर बिल्कुल फीट बैठती है। कांग्रेस अब गांव-गांव जाकर अंतिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं (lower level workers) की ग्राम पंचायत कमेटी (Gram Panchayat Committee) बना […]