मनोरंजन

Sonu Sood ने जालोर की मासूम बच्ची का मुबंई में कराया इलाज, फ्लाइट से घर भेजा

जालोर। अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) की वजह से मासूम सोनू को नई जिंदगी मिल गई। सफल ऑपरेशन के बाद रविवार को मुंबई के अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद बच्ची (Innocent girl) अपने घर पहुंच गई है। सोनू के घर पहुंचते ही परिवार में खुशियों का ठिकाना नहीं रहा। मासूम के परिजनों ने फिल्म अभिनेता सोनू सूद का आभार जताया है। बता दें कि सोनू के दिल में छेद था।

गत 1 जून को जालोर शहर के गोड़ीजी निवासी भगाराम माली के घर पर बेटी का जन्म हुआ था। बेटी के जन्म के साथ दिल में छेद था। जोधपुर के अस्पताल में 8 लाख रुपये का खर्च बताया। मासूम बच्ची के दिल में छेद की वजह से परिजनों का दिल बैठ गया था कि वह जिंदा रहेगी या नहीं, क्योंकि दिहाड़ी मजदूरी करने वाले परिवार के लिए इतना पैसा खर्च कर पाना संभव नहीं था। परिवार की पीड़ा सोशल मीडिया के जरिए अभिनेता सोनू सूद तक पहुंची तो उन्होंने इलाज की व्यवस्था करवाई। इलाज पर करीब तीन लाख रुपए का खर्च आया।

जोधपुर में 8 लाख खर्च बताया था, मुंबई में 3 लाख में हुआ इलाज
सोनू सूद की ओर से मदद का हाथ बढ़ाने पर परिजनों ने बच्ची का नाम ही सोनू रख दिया। बेटी सोनू इलाज करवा कर जब घर लौटी तो उसका तिलक लगाकर और आरती उतार कर स्वागत किया गया। सोनू के माता, दादा, दादी और पिता समेत परिवार के सदस्यों के चेहरों पर खुशी थी। सोनू के पिता भगाराम का कहना है कि सोनू सूद ने उनकी बेटी को दूसरा जीवन दिया है। वे नहीं होते तो बच्ची को कोई नहीं बचा सकता था। यह जीवन उन्हीं का दिया हुआ है।

14 जून को हुई थी सफल सर्जरी
10 जून को पिता के साथ बच्ची को एम्बुलेंस से मुंबई ले जाया गया था। वहां पर मुंबई के एसआरसीसी अस्पताल में उसका उपचार किया गया। 14 जून को बच्ची की सफल सर्जरी हो गई। उसके बाद वह 6 दिन तक चिकित्सकों की टीम की देखरेख में रही। 20 जून तक 3 बार टेस्ट होने एवं स्वस्थ रिपोर्ट आने पर रविवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।

Next Post

माल्या-चोकसी-नीरव मोदी की 9,371 करोड़ रुपये की संपत्ति बैंकों को ट्रांसफर : प्रवर्तन निदेशालय

Wed Jun 23 , 2021
नई दिल्ली । प्रवर्तन निदेशालय (ईडी|Enforcement Directorate) ने बुधवार को कहा कि उसने भगोड़े कारोबारियों विजय माल्या(Vijay Malya), नीरव मोदी(Nirav Modi), मेहुल चौकसी (Mehul Choksi) की 9,371 करोड़ रुपये की संपत्ति(Property) सरकारी बैंकों (Banks)को सौंप दी है, ताकि उनके खिलाफ की गई धोखाधड़ी से हुई नुकसान की भरपाई हो सके। ईडी ने एक बयान में […]