भोपाल

टीपकर परीक्षा दे रहे फिसड्डी सरकारी स्कूलों के शिक्षक

भोपाल। स्कूलों में शिक्षकों की दक्षता सुधारने के लिए हर साल खराब परफार्मेंस वाले स्कूलों के शिक्षकों को परीक्षा देनी होती है। परीक्षा रविवार से शुरू हो गई है। पहले दिन 1619 स्कूलों के शिक्षकों ने परीक्षा दी। जिसमें से कुछ गैर हाजिर रहे। उन्हें नोटिस दिया जाएगा। आज छह हजार से ज्यादा शिक्षक परीक्षा देंगे। खास बात यह है कि परीक्षा कि ताब में से देखकर देनी होती है। इसके बावजूद भी जो शिक्षक परीक्षा पास नहीं कर पाते हैं, उन्हें फिर से पास होने का मौका दिया जाता है। बीते शैक्षणिक संत्र में दसवीं व बारहवीं की बोर्ड परीक्षा में जिन स्कूलों का परीक्षा परिणाम 40 फीसदी से कम आया है। उन स्कूलों के शिक्षकों की स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा दक्षता मूल्यांकन रविवार से शुरू हुआ। इस परीक्षा में पहले दिन रविवार को हाईस्कूल व हायर सेकेंडरी के 1619 में से 1561 शिक्षक परीक्षा में शामिल हुए। परीक्षा में 58 शिक्षक अनुपस्थित रहे। हालांकि उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन रविवार को ही किया गया, लेकिन परीक्षा परिणाम गोपनीय रखा गया है। परीक्षा परिणाम कम होने पर शिक्षकों को दो माह की अवधि दक्षता सुधार के लिए दी जाएगी। जिला स्तर के इन शिक्षकों का ऑनलाईन प्रशिक्षण भी किया जाएगा। इसके बाद मार्च के पहले सप्ताह में दोबारा परीक्षा होगी। इसमें भी शिक्षक फेल होते हैं, तो उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी जा सकती है। मिडिल स्कूल के 6299 शिक्षकों की परीक्षा सोमवार को होगी। परीक्षा का समय दोपहर 12 से 3 बजे तक रहेगा। इसमें सभी विषयों के शिक्षकों की परीक्षा होगी। राजधानी के शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय में परीक्षा केंद्र रहेगा। बता दें, कि पिछले साल भी स्कूल शिक्षा विभाग ने दसवीं बोर्ड परीक्षा में 30 फीसद से कम परीक्षा परिणाम लाने वाले स्कूलों के शिक्षकों की परीक्षा दो बार ली थी। दोबारा फेल होने पर प्रदेश के 16 शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गई थी। हालांकि इस बार भी शिक्षक संगठनों ने परीक्षा का विरोध किया। विभाग के अधिकारियों ने आश्वासन भी दिया है कि शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति नहीं दी जाएगी।

58 अनुपस्थित शिक्षकों को जारी होगा नोटिस
पहले दिन की परीक्षा में अनुपस्थित रहने वाले 58 शिक्षकों को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया जा रहा है। उपयुक्त कारण होने पर (कोरोना संक्रमण इत्यादि) अनुपस्थित शिक्षकों की फिर से परीक्षा ली जाएगी। इसके लिए अलग से परीक्षा तिथि की सूचना दी जाएगी। उपयुक्त जबाव नहीं मिलने पर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी।

Share:

Next Post

उपेक्षित नेताओं को एकजुट कर रही सांसद

Mon Jan 4 , 2021
भोपाल। भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने संंगठन में उपेक्षित व सीनियर नेताओं को अपने साथ जोडऩा शुरू कर दिया है। साथ ही उनसे क्षेत्र का फीडबैक भी ले रही हैं। भोपाल शहर की 5 विधानसभाओं के करीब 30 लोगों के साथ हाल ही में उन्होंने अपने निवास बी-29 में बैठक की। इसमें उन्होंने सभी […]