उज्‍जैन

मंडी में गेहूँ की आवक 10 हजार बोरी के अंदर सिमटी

  • चना तो इस बार वैसे भी कम ही आया-समर्थन मूल्य खरीदी केंद्र भी सूने पड़े 1 दिन में ढाई सौ क्विंटल की ही खरीदी

उज्जैन। मंडी में अब गेहूँ का सीजन धीरे-धीरे कमजोर होता जा रहा है अब गेहूं की आवक 10 हजार बोरी के अंदर सिमटने लगी है, वहीं समर्थन मूल्य खरीदी के केंद्र सूने पड़े हैं। इस बार गेहूँ की फसल बंपर हुई है लेकिन मंडी और समर्थन मूल्य खरीदी केंद्रों पर गेहँू ज्यादा मात्रा में नहीं पहुंचा मंडी में जहां अधिकतम आंकड़ा 40 हजार तक पहुंचा था वहीं समर्थन मूल्य खरीदी केंद्रों पर भी इस बार पूरे सीजन में पिछले बार की अपेक्षा आदि खरीदी में नहीं हुई है। इसका मुख्य कारण यह है कि इस बार विदेशों में व्यापारियों ने गेहूं खूब निर्यात किया जिसके चलते मंडी में नीलामी में ही गेहूं के भाव 2100 से 22 00 तक चले इसी के चलते किसान समर्थन मूल्य केंद्रों पर अपनी उपज बेचने नहीं पहुंचे।

इसका फर्क समर्थन मूल्य की इस बार की शासकीय खरीदी पर पड़ा है। पिछले दो दिनों की बात की जाए तो समर्थन मूल्य केंद्रों पर मात्र ढाई सौ क्विंटल गेहूं ही बिकने आया, जबकि सरकार ने उचित दामों पर गेहूँ लेने के लिए जिलेभर में 178 केंद्र बनाए लेकिन अब यह सभी केंद्र सूने पड़े हैं और मंडी जहां पूर्व में 25 हजार से लेकर 35 हजार बोरी तक प्रतिदिन गेहूं आ रहा था। जो अब 10 हजार के अंदर सिमट गया है। कुल मिलाकर गेहूं का सीजन खत्म होने वाला है और इस बार चने की फसल भी कम हुई थी। इस कारण मंडी में चने की आवक 500 से 700 बोरी ही अधिकतम रह गई है।

Share:

Next Post

पूरे सिंहस्थ क्षेत्र का ड्रोन सर्वे होगा

Fri May 20 , 2022
शासन के पास रहेगा रिकार्ड-सिंहस्थ में अतिक्रमण नहीं बनेगा परेशानी उज्जैन। सिंहस्थ क्षेत्र में अतिक्रमण की शिकायत हर सिंहस्थ के समय रहती है। इसको दूर करने के लिए अब नगर निगम ड्रोन सर्वे कराएगा। इसके लिए टेण्डर हो चुके हैं। जल्द ही यह कार्य शुरु हो जाएगा। सिंहस्थ मेला संपन्न होने के बाद 12 साल […]