देश

सम्मेद शिखर की तीर्थ के रूप में ही रहेगी पहचान, जैन समाज के आक्रोश के सामने झुकी सरकार

इंदौर। झारखंड में स्थित जैन समाज के पवित्र स्थल को वहाँ की सरकार के द्वारा पर्यटन स्थल की सूची में लाने के बाद जैन समुदाय में भारी आक्रोश व्याप्त है, जिसको लेकर जबलपुर के जैन समुदाय ने आज बड़ा फुहारा से सिविक सेंटर तक मौन जुलूस निकाला गया जिसमे हजारो की संख्या में जैन समुदाय के महिला पुरुष शामिल हुए।

बता दें कि हाथो में बैनर,पोस्टर लेकर सरकार से अध्यादेश वापस लिए जाने की मांग की गई, विभिन्न मार्गों से होते हुए विशाल जुलूस मालवीय चौक पहुँचा जहा सम्मेद शिखर को पर्यटन सूची से हटाने की मांग को लेकर जैन समुदाय ने प्रधानमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौपा है। सम्मेद शिखर को बचाने के लिए व्यापारी बंधुओ द्वारा अपने अपने प्रतिष्ठानो को बंद रखा गया।


अध्यक्ष का कहना है की जैन समाज एकजुट होकर विरोध में उतर आया है। जैन समाज सही रास्ते पर है और निश्चित रूप से सरकार का फैसला गलत है। इसे सरकार वापस ले, क्योंकि जैन समाज का सबसे प्रमुख तीर्थ स्थल सम्मेद शिखर जी है। जैन समाज के 24 भगवान में से 20 भगवान वहां से बने हैं। करोड़ों करोड़ों मुनि महाशय मोक्ष को पहुंचे हैं। हम उसे पवित्र मानते हैं।

हमारे धर्म में लिखा हुआ है कि एक बार उस तीर्थ की वंदना कर ली तो कभी भी उस व्यक्ति को पशु गति और नरक गति प्राप्त नहीं होगी। इतने पवित्र स्थल को पर्यटक स्थल घोषित करेंगे तो पर्यटन स्थल में क्या होता है यह आप सब जानते हैं, इसलिए हम इसका विरोध करते हैं। अगर सरकार अभी भी नहीं जागी तो आंदोलन आगे भी जारी रहेगा।

Share:

Next Post

'आतंकी इकोसिस्टम' का समर्थन करने वालों को कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा : जम्मू-कश्मीर एलजी

Wed Dec 21 , 2022
जम्मू । जम्मू-कश्मीर एलजी (J&K LG) मनोज सिन्हा (Manoj Sinha) ने बुधवार को कहा कि ‘आतंकी इकोसिस्टम’ (‘Terror Ecosystem’) का समर्थन करने वालों को (Those Supporting) कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा (Will Face Action) । मीडिया कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए सिन्हा ने कहा, जम्मू-कश्मीर में जो भी आतंकी इकोसिस्टम का समर्थन करता है, उसे […]