टेक्‍नोलॉजी बड़ी खबर

नया सिम नहीं खरीद सकेंगे ये कस्टमर्स, सरकार ने बदल दिए हैं नियम


नई दिल्ली: अगर आप नया सिम लेना चाहते हैं तो पहले ये खबर जरूर पढ़ लें. सरकार ने सिम कार्ड को लेकर नियमों में बदलाव कर दिया है. इसके तहत अब कुछ कस्टमर्स के लिए नया सिम लेना और भी आसान हो गया है. लेकिन कुछ कस्टमर्स के लिए अब नया सिम लेना बड़ी चुनौती बन गई है. दरअसल, अब कस्टमर्स अब नए सिम के लिए ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं और सिम कार्ड उनके घर तक आ जाएगा.

सिम लेने के लिए बदल चुके हैं नियम
सरकार ने सिम के लिए नियमों में बदलाव कर दिया है. अब 18 साल से कम उम्र के कस्टमर्स को कंपनी नया सिम नहीं बेच सकती है. 18 साल के ऊपर के उम्र के कस्टमर अपने नए सिम के लिए आधार या डिजीलॉकर में स्टोर्ड किसी भी डॉक्यूमेंट से खुद को वेरिफाई कर सकते हैं. गौरतलब है कि DoT का यह कदम 15 सितंबर को कैबिनेट द्वारा अप्रूव्ड टेलीकॉम रिफॉर्म्स का हिस्सा है.

1 रुपये में होगी केवाईसी
नए नियमों के अनुसार, यूजर्स को नए मोबाइल कनेक्शन (New Mobile Connection) के लिए UIDAI की Aadhaar बेस्ड e-KYC सर्विस के माध्यम से सर्टिफिकेशन के लिए बस एक रुपये का भुगतान करना होगा.

किन यूजर्स को नहीं मिलेगी नई सिम?

  • टेलीकॉम डिपार्टमेंट के नए नियमों के मुताबिक अब कंपनी 18 साल से कम उम्र के यूजर्स को सिम कार्ड नहीं मिलता.
  • इसके अलावा अगर कोई शख्स मानसिक रूप से बीमार है तो ऐसे व्यक्ति को भी नया सिम कार्ड जारी नहीं किया जाएगा.
  • अगर ऐसे शख्स नियमों का उल्लंघन करते पकड़ा गया तो उस टेलीकॉम कंपनी को दोषी माना जाएगा, जिसने सिम बेचा है.

घर बैठे मिलेगा सिम कार्ड
अब ग्राहकों को UIDAI बेस्ड वेरिफिकेशन के जरिए अपने घर पर ही सिम मिल जाता है. DoT के अनुसार, ग्राहकों को मोबाइल कनेक्शन एक ऐप/पोर्टल बेस्ड प्रोसेस के जरिए दिया जाएगा, जिसमें ग्राहक घर बैठे मोबाइल कनेक्शन के लिए आवेदन कर सकते हैं.

दरअसल, पहले मोबाइल कनेक्शन के लिए या फिर मोबाइल कनेक्शन को प्रीपेड से पोस्टपेड कराने के लिए ग्राहकों को KYC प्रोसेस से गुजरना पड़ता था.

Share:

Next Post

नक्सलवाद से उबरते बस्तर में बदल रही है जिंदगी

Sun May 22 , 2022
रायपुर । नक्सलवाद से उबरते (Recovering from Naxalism) बस्तर में (In Bastar) जिंदगी बदल रही है (Life is Changing) । छत्तीसगढ़ के बस्तर को नक्सली समस्या के पर्याय के तौर पर देखा जाता है, क्योंकि यहां के बड़े हिस्से में किसी दौर में नक्सलियों के हुक्म को मानना लोगों की मजबूरी हुआ करता था, मगर […]