मप्र में ई-उपार्जन पोर्टल पर 21.06 लाख किसानों ने कराया पंजीयन

भोपाल। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह और सहकारिता मंत्री अरविन्द भदौरिया ने मंगलवार को अधिकारियों के साथ रबी उपज की समीक्षा की। इस दौरान बताया गया कि रबी विपणन वर्ष 2021-22 में समर्थन मूल्य पर गेहूँ बेचने के लिये 21 लाख 6 हजार किसानों ने ई-उपार्जन पोर्टल पर पंजीयन कराया गया है जो कि विगत वर्ष की तुलना में एक लाख 59 हजार अधिक है।

145 लाख मे.टन उपज के भंडारण का लक्ष्य
मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने बताया कि इस वर्ष 125 लाख मेट्रिक टन गेहूँ, 20 लाख मेट्रिक टन दलहन और तिलहन के भंडारण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उपार्जन अनुमान के अनुसार अधिकारियों को अनाज के भंडारण, परिवहन, बारदाना और वित्तीय व्यवस्था की तैयारी विभाग द्वारा की जा रही है। उन्होंने बताया कि दलहन एवं तिलहन का उपार्जन प्राथमिकता से गोदाम स्तरीय केन्द्रों पर किया जाएगा, जिससे स्कन्ध का शीघ्रता से परिवहन एवं भंडारण कराया जा सके।

15 मई तक होगा उपार्जन
सहकारिता मंत्री डॉ. अरविंद भदौरिया ने कहा कि पंजीकृत किसानों से 15 मई तक उपार्जन पूरा करने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने निर्देश दिए कि उपार्जित अनाज को यथासंभव शीघ्र भंडारण कराया जाए साथ ही केन्द्रों पर अनाज की सुरक्षा की पर्याप्त व्यवस्था हो, जिससे अनाज का एक भी दाना बर्बाद न हो। अनाज को पक्के चबूतरे पर ही रखा जाए ताकि अचानक होने वाली बूंदा-बांदी से भी अनाज सुरक्षित रह सके। अचानक होने वाली बारिश के समय अनाज को सुरक्षित रखने के लिए पर्याप्त आकार एवं संख्या में तिरपाल की व्यवस्था की जाए। कुछ समय के लिए अचानक तत्काल भंडारण की आवश्यकता हो तो निकट की खाली पड़ी शासकीय संस्थाओं में कुछ समय के लिए अनाज का भंडारण किया जा सकता है। अनाज के उपार्जन, ट्रांसपोर्टेशन तथा भंडारण ही सतत निगरानी की जाए। गेहूँ एवं चना का भंडारण पृथक-पृथक करने के निर्देश दिए गए, जिससे दोनों ही अनाज को सुरक्षित रखा जा सके। अधिकारियों ने जानकारी दी कि विगत वर्ष की तुलना में गेहूँ का रकबा 4 प्रतिशत कम हुआ है।

मंत्री डॉ. भदौरिया ने निर्देश दिए कि उपार्जन केन्द्रों की संख्या पूर्ववत रहेगी। उपार्जन केन्द्रों की संख्या में कमी नहीं की जाएगी। समिति को किसी कारणवश बंद करना पड़ा तो उसकी जगह एसएचजी, एफपीयू, एफपीसी द्वारा गेहूँ उपार्जन कराया जाएगा।

प्रमुख सचिव खाद्य फैज़ अहमद किदवई ने बताया कि किसान पंजीयन का कार्य प्रदेश के 3518 केन्द्रों पर किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त गिरदावरी किसान एप, कॉमन सर्विस सेन्टर, कियोस्क पर भी किसानों को पंजीयन की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। विगत वर्ष 45 लाख 7 हजार हेक्टेयर रकबा गेहूँ के लिए पंजीकृत हुआ था। इस वर्ष अभी तक 42 लाख 87 हजार हेक्टेयर रकबा पंजीकृत हो चुका है। सभी किसानों का पंजीयन हो सके इसके लिए पंजीयन की तिथि 25 फरवरी तक की बढ़ाई गई है।

बैठक में मंत्रीद्वय के अलावा मार्कफेड के प्रबंध संचालक पी. नरहरि, नागरिक आपूर्ति निगम के प्रबंध संचालक अभिजीत अग्रवाल, खाद्य संचालक एवं वेयर हाऊससिंग लाजिस्टिक कापार्रेशन के प्रबंध संचालक तरूण पिथोड़े एवं सहकारिता विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। (एजेंसी, हि.स.)

Next Post

बरौनी रिफाइनरी को उत्कृष्ट कोविड प्रबंधन के लिए मिला पीआरएसआई राष्ट्रीय पुरस्कार

Wed Feb 24 , 2021
बेगूसराय। पब्लिक रिलेशन सोसाइटी ऑफ इंडिया (पीआरएसआई) ने पब्लिक रिलेशन और संचार प्रबंधन के क्षेत्र में बेहतरीन कार्य करने के लिए पीएसआरआई नेशनल अवार्डस 2020 में विभिन्न श्रेणियों में इंडियन ऑयल को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। विशेष रूप से इंडियन ऑयल को कोविड-19 प्रबंधन में उत्कृष्टता के […]

Know and join us

www.agniban.com

month wise news

February 2021
S M T W T F S
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28