उज्‍जैन न्यूज़ (Ujjain News)

600 वाहन अधिग्रहित..स्कूली बसें और अन्य वाहन चुनाव में लगे

उज्जैन। जिले में 25 जून को होने वाले पंचायत चुनावों के लिए जिला प्रशासन ने मतदान दलों और सामग्री के लिए परिवहन विभाग से 400 बसें तथा 200 जीप और कार आदि वाहन मांगे थे। इनके अधिग्रहण की प्रक्रिया आरटीओ ने पूरी कर दी है और पूरे जिले से बसों सहित कुल 600 वाहन अधिग्रहित किए जा चुके हैं। जल्द ही यह वाहन प्रशासन के सुपुर्द क्षेत्रीय परिवहन विभाग द्वारा किए जाएँगे। इन वाहनों द्वारा 25 जून को मतदान दलों और सामग्री को छोडऩे के बाद यह बस मुक्त की जाएंगी लेकिन तब तक विभिन्न रूटों पर चलने वाली बसों के अधिग्रहण से यात्रियों को परेशानी होना तय है। कुछ स्कूलों में भी बसें नहीं होने के कारण छात्रों को परेशानी आएगी। उल्लेखनीय है कि जिले के सभी विकासखंडों में 25 जून को पंचायत चुनाव के लिए मतदान होना है। इसके लिए जिला प्रशासन ने परिवहन विभाग से कुल 400 बसें और 200 जीप, कार आदि छोटे वाहन की मांग की थी। इन बसों के माध्यम से मतदान दलों और मतदान सामग्री को भेजने और वापस लाने का काम किया जाएगा। परिवहन विभाग ने बसों की व्यवस्था के लिए रिजर्व परमिट बसों के साथ ही प्रमुख रूट्स के बस संचालकों के साथ ही स्कूल-कॉलेजों को अधिग्रहण आदेश भेजे हैं। आरटीओ संतोष मालवीय ने बताया कि इसके बाद बसों और अन्य वाहनों को मिलाकर कुल 600 वाहनों को निर्वाचन के लिए अधिग्रहित कर लिया है। जल्द ही यह वाहन प्रशासन के सुपुर्द कर दिए जाएँगे।


अभी ही शुरू हुए हैं स्कूल
स्कूल और कॉलेजों से बसों के अधिग्रहण के कारण स्कूल संचालकों को बच्चों के परिवहन में परेशानी उठानी पड़ेगी। ज्यादातर स्कूल इसी माह से दोबारा शुरू हुए हैं और कई बच्चे कोरोनाकाल के बाद अब दोबारा स्कूल जाने लगे हैं। बसों की कमी के कारण बसों में क्षमता से ज्यादा बच्चे बैठाने या ज्यादा फेरे लगाने के कारण ज्यादा समय भी लगेगा और बच्चों को तकलीफ होगी।

रूट से कम हो जाएंगी बसें
बस ऑपरेटरों के अनुसार चुनाव के लिए उज्जैन से प्रमुख रूट्स पर चलने वाली बसों को भी अधिग्रहित किया जा रहा है। जिन रूट्स पर ज्यादा बसें हैं, वहां से कुछ बसों को लिया जाएगा। इसके बाद भी इन रूट्स पर बसों की कमी के कारण कई फेरे निरस्त रहेंगे और यात्रियों को कम विकल्प और सीटें मिल सकेंगी। संचालकों के साथ ही बुकिंग कर चुके लोगों को भी परेशानी होगी।

निगम चुनाव में 4 से 6 जुलाई के बीच लिए जाएँगे वाहन
चुनाव के कारण यह परेशानी सिर्फ तीन दिन नहीं रहेगी। पंचायत चुनाव के बाद नगर निगम चुनावों के लिए प्रशासन ने परिवहन विभाग से करीब 200 वाहन मांगे है। ये वाहन 4 जुलाई को अधिग्रहित की जाएंगे और 6 जुलाई की रात तक छोड़ी जाएंगी। इस दौरान भी बसों को रूट्स और स्कूल-कॉलेजों से लिया जाएगा और एक बार फिर तीन दिनों के लिए हजारों यात्रियों और बच्चों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

अतिरिक्त बसें की जाएंगी अधिग्रहित, किसी को नहीं होगी परेशानी
चुनाव व्यवस्था के लिए प्रशासन ने 600 वाहन मांगे थे। इन्हें अधिग्रहित कर लिया गया है। इन्हें 25 जून की शाम के बाद लौटाया जाएगा। ज्यादातर बसें रिजर्व में से और जिन रूट्स पर ज्यादा बसें हैं और जिन स्कूल-कॉलेजों में अतिरिक्त बसें हैं, वहां से सभी की सहमति की साथ ली जा रही है। इसके कारण किसी को परेशानी नहीं आएगी।
– संतोष मालवीय, आरटीओ उज्जैन

Share:

Next Post

चतुर नेताओं ने ग्रामीण जनता को लुभाने के लिए धार्मिक भजन शुरू किए

Wed Jun 22 , 2022
ग्रामीण क्षेत्रों में भजनों पर हो रहा है लाऊड स्पीकर प्रचार उज्जैन। पावन है इस देश की माटी, तपोभूमि हर ग्राम है, हर बाला देवी की प्रतिमा, बच्चा राम है, इस तरह के भजन कभी राजनैतिक दल के मंचों से नहीं बजते लेकिन वोट लेना है तो ग्रामीण क्षेत्रों में जिला पंचायत के चुनावों में […]