इंदौर मध्‍यप्रदेश

इंदौर में एन्टी माफिया अभियान के तहत बड़ी कार्यवाई, रिवाज़ और प्रेम बंधन गार्डन पर बुल्डोज़र

इन्दौर। आज शुक्रवार तडक़े साढ़े 4 बजे लोगों की नींद ही नहीं खुली थी कि इंदौर के कनाडिय़ा रोड पर निगमकर्मी और पुलिस बल के ढाई से तीन सौ कर्मचारियों का अमला धड़धड़ाता पहुंचा। आग की तरह फैली खबर के बाद भौचक रहवासी जब सडक़ों पर आए तो पता चला कि बरसों से जहां शहनाइयां गूंज रही थीं, वहां अब बुलडोजर गूंजेंगे। प्रशासन ने अपनी ही जमीन पर तने प्रेम बंधन और रिवाज मैरिज गार्डन ध्वस्त करते हुए शहर को बता दिया कि अब शहर में न मनमानी का रिवाज चलेगा और न ही माफियाओं से कोई प्रेम बंधन।

पूरी कार्रवाई को प्रशासन ने इस तरह गुप्त रखा कि आधी रात को पूरे अमले को जमा होने का निर्देश देने के बाद तडक़े साढ़े 4 बजे निगम अधिकारियों सहित उनके तोड़ू दस्ते को होटल रेडिसन चौराहे पर जमा होने के लिए कहा गया। उसके बाद उन्हें कनाडिय़ा क्षेत्र ले जाया गया, जहां पहले से ही भारी संख्या में पुलिस बल के साथ प्रशासनिक अफसरों की टीमें तैनात थीं। वहां पहुंचते ही ताबड़तोड़ कनाडिय़ा मेनरोड पर बने मैरिज गार्डन रिवाज और प्रेम बंधन को ढहाने की कार्रवाई शुरू करते हुए आसपास के हिस्सों में बनी 80 से ज्यादा अवैध दुकानों को भी तोडऩे की कार्रवाई शुरू कर दी गई। इसके लिए निगमकर्मियों और पुलिस बल के 250-300 कर्मचारियों के साथ एक दर्जन से ज्यादा अफसर मौजूद थे। वहां मौजूद दुकानदारों ने अफसरों का रवैया देख खुद अपने स्तर पर ही सामान खाली करना शुरू कर दिया था। इसके साथ ही वहां मौजूद दो एक-एक मंजिला मार्केट और रॉयल इनफील्ड का सर्विस सेंटर भी पूरी तरह ढहा दिया गया।


कल से ही जिला प्रशासन, नगर निगम और पुलिस विभाग ने कलेक्टर मनीषसिंह के निर्देश पर बड़ी संयुक्त कार्रवाई की तैयारी कर ली थी। तैयारी इतनी गुप्त थी कि कार्रवाई वाले स्थान की संबंधितों तक को भनक नहीं लगी। कई एसडीएम, निगम अधिकारियों और पुलिस अधिकारियों को आधी रात को ही आने की सूचना भेज दी गई थी। निगम के पूरे अमले को आज सुबह 4.30 बजे रेडिसन होटल के पास बुलाया गया और फिर वहां से पूरा अमला बंगाली चौराहा होते हुए कनाडिय़ा क्षेत्र में पहुंचा। पुलिस विभाग के अधिकारियों से कई थानों का पुलिस बल मौके पर बुलवाया गया था। साथ ही यातायात पुलिस की मदद से कनाडिय़ा मेनरोड के कई हिस्से आवागमन के लिए पूरी तरह बंद कर दिए गए थे, ताकि तोडफ़ोड़ की कार्रवाई में किसी प्रकार की दिक्कत न हो। 5 बजे होटल रिवाज और प्रेम बंधन गार्डन के समीप जब निगम का अमला खड़ा हुआ था तो गार्डन के कुछ लोग वहां पहुंच चुके थे। अधिकारियों ने उन्हें सामान हटाने के लिए कुछ समय की मोहलत दी, लेकिन कम समय में सामान हटाने की कार्रवाई नहीं हो सकी और सुबह पौने 6 बजे से निगम अमले ने दोनों गार्डनों को ढहाने की कार्रवाई शुरू कर दी। इसके लिए कई बड़ी पोकलेन बुलवाई गई थीं।

चमचमाते गार्डन थोड़ी ही देर में खंडहर नजर आने लगे
नगर निगम की पांच से ज्यादा पोकलेन रिवाज और प्रेम बंधन गार्डन के आसपास खड़ी कर दी गईं। अधिकारियों का इशारा मिलते ही पोकलेन चालकों ने सबसे पहले रिवाज गार्डन के फ्रंट हिस्से को तोडऩा शुरू किया। कुछ ही देर में पूरा गार्डन खंडहरनुमा नजर आने लगा। वहीं दूसरी ओर प्रेम बंधन गार्डन के आसपास भी इसी प्रकार कार्रवाई करते हुए उसके हिस्से ढहाना शुरू कर दिए गए। नगर निगम के अपर आयुक्त संदीप सोनी के मुताबिक दोनों गार्डनों के लिए निगम से किसी प्रकार की अनुमति नहीं ली गई थी और इनका काफी हिस्सा सीलिंग की जमीन पर भी है, जिसकी पड़ताल की जा रही है।

पूरे क्षेत्र में नजर आती रही निगम और पुलिसकर्मियों की फौज
कार्रवाई के लिए प्रशासन, नगर निगम और पुलिस विभाग ने बड़ी संख्या में अमला बुलवाया था। कई थानों का पुलिस बल और नगर निगम रिमूवल विभाग का भारी-भरकम अमला पूरे क्षेत्र में जगह-जगह तैनात कर दिया गया था, ताकि किसी प्रकार के विवाद की आशंका न रहे। कनाडिय़ा रोड की पूरी सडक़ पर निगम, प्रशासन और पुलिस के वाहनों की कतार लग गई थी। बड़ी संख्या में रिमूवल अमला, अफसरों के वाहनों से लेकर पूरा फौजपाटा क्षेत्र में मुस्तैदी के साथ तैनात था। वहीं दूसरी और कार्रवाई देखने के लिए न केवल लोगों की भीड़ उमड़ रही थी, बल्कि कई लोग सैल्फी ले रह थे, जिन्हें पुलिस जवान डंडे फटकार कर वहां से रवाना कर रहे थे।

6 भाइयों के नाम हैं रिवाज और प्रेम बंधन गार्डन की जमीन
नगर निगम अधिकारियों के मुातबिक रिवाज और प्रेम बंधन गार्डन की जमीन 6 भाइयों के नाम हैं। इनमें नबीबख्श पटेल, सिकंदर पटेल, रुस्तम पटेल और अन्य हैं। अधिकारियों का कहना है कि जमीन कितनी है, इसका अभी पता लगाया जा रहा है, लेकिन वहां निगम द्वारा किसी प्रकार के निर्माण की अनुमतियां नहीं दी गई थीं।

ये अफसर मौजूद रहे
कार्रवाई स्थल पर एडीएम पवन जैन, निगम के अपर आयुक्त देवेंद्रसिंह, संदीप सोनी, विष्णु खरे, उपायुक्त लता अग्रवाल, वैभव देवलासे, अश्विन जनवदे, बबलू कल्याणे, सीएसपी हरीश मोटवानी सहित कई थाना प्रभारी और प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे। इसके अलावा निगम की महिला बाउंसरों की टीम के साथ-साथ महिला पुलिस भी क्षेत्र में अलग-अलग स्थानों पर तैनात की गई थी, ताकि हंगामा होने पर स्थिति से निपटा जा सके।

कनाडिया रोड पर खजराना निवासी सलीम पटेल सोहराब पटेल यूनुस पटेल का लंबे समय से गुमटी माफिया के रूप में आतंक था। यह परिवार इस रोड की शासकीय सीलिंग की जमीन पर अवैध गुमटियां लगवाने का काम लंबे समय से कर रहा था। यही नहीं इस रोड पर ठेले लगाने वालों से भी इस परिवार के सभी भाई वसूली करते थे। बताया जाता है कि नगर निगम द्वारा नोटिस जारी किए जाने के बाद प्रेम का बंधन गार्डन को लेकर सलीम पटेल द्वारा पंचायत की भवन अनुज्ञा पेश की गई थी। वह भी जांच के बाद फर्जी पाई गई है। नगर निगम को फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत करने के आरोप में नगर निगम द्वारा सलीम पटेल के खिलाफ एफ आइ आर भी दर्ज कराई जा रही है।

Share:

Next Post

रस्म अदायगी तक सीमित न रहे हिन्दी पखवाड़े का आयोजन

Fri Sep 24 , 2021
– योगेश कुमार गोयल हिन्दी पखवाड़े के अंतर्गत इन दिनों देशभर में अनेक प्रतिष्ठानों में हिन्दी को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से कई प्रकार की गतिविधियां चलाई जा रही हैं लेकिन हर साल हिन्दी पखवाड़े के नाम पर इस प्रकार के आयोजनों को महज रस्म अदायगी के रूप में ही देखा जाता रहा है। हिन्दी […]