देश

लॉकडाउन में ‘लुटेरी दुल्हन’ से हुआ प्यार, हनीमून के लिए बिकवाई जमीन; ऐसे हुआ खुलासा


नई दिल्ली: एक शख्स को चाय की दुकान चलाने वाली महिला से प्यार हुआ तो दोनों ने कोर्ट मैरिज कर ली. फिर समाज में दिखाने के लिए लाखों रुपये खर्च कर शादी की. हनीमून के लिए जमीन भी बिकवा दी और फिर जेवर और नकद लेकर फरार हो गई. उस शख्स की सीने पर अगली चोट ये पड़ी कि वह महिला पहले से ही शादीशुदा थी और उसके बच्चे भी थे.

लाखों की नकदी और जेवरात लेकर फरार हो गई दुल्हन
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, लुटेरी दुल्हन का ये शिकार मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले का है. पीड़ित ने एसपी ऑफिस पहुंचकर आवेदन देते हुए सारे मामले की जानकारी देकर शिकायत की. शिकायत में उसने कहा कि उसकी पत्नी लाखों की नकदी और जेवरात लेकर फरार हो गई और अब वापस आने का नाम नहीं ले रही है.


लॉकडाउन में हुआ था लुटेरी दुल्हन से प्यार
पीड़ित युवक का कहना है कि 2 साल पहले लॉकडाउन के दौरान उसे उषा पाल नाम की एक महिला से प्यार हो गया था. महिला रेलवे स्टेशन के बाहर चाय की दुकान लगाया करती थी. वह वहां सुबह घूमने जाता था तो इस दौरान दोनों की बीच प्रेम-प्रसंग शुरू हो गया. कुछ साल अफेयर चला और इसके बाद दोनों ने शादी करने का फैसला किया. कुछ महीने पहले दोनों ने कोर्ट मैरिज की थी.

जेवर और कैश लेकर भाग गई दुल्हन
शादी के कुछ दिन तक सब कुछ ठीक-ठाक था लेकिन पत्नी ने जेवरों की मांग की. सोने की चेन, कान की बाली और कुछ अन्य सामान उसे दिलाया और बैंक अकाउंट में करीब दो लाख रुपये थे, इसे भी लाकर घर पर रख दिया. फिर एक दिन पत्नी ने बाजार से कुछ सामान लाने के लिए कहा. जब घर वापस आया तो पत्नी घर पर नहीं थी. साथ ही दो लाख कैश और जेवरात भी गायब थे.

शादीशुदा और बच्चों वाली थी महिला
अब पत्नी न तो उसके पास आ रही है और न ही नकदी और जेवर वापस कर रही है. पीड़ित का कहना है उसे कुछ दिन पहले पता चला कि उसकी पत्नी पहले से ही शादीशुदा है और उसके बच्चे भी हैं. अब पत्नी न तो उसके पास आ रही है और ना ही नकद और जेवर वापस कर रही है.

Share:

Next Post

स्वदेश निर्मित ट्रेन टक्कर सुरक्षा प्रणाली 'कवच' का परीक्षण : ट्रेन इंजन में सवार थे रेलमंत्री

Fri Mar 4 , 2022
नई दिल्ली । स्वदेश निर्मित (Indigenously Made) ट्रेन टक्कर सुरक्षा प्रणाली ‘कवच’ (Train Collision Protection System ‘Kavach’) का परीक्षण कर (Testing) भारतीय रेलवे ने शुक्रवार एक नया इतिहास रच दिया है। ट्रेन इंजन में सवार थे (Was aboard the Train Engine) रेल मंत्री (Railway Minister) अश्विनि वैष्णव (Ashwini Vaishnav) । 380 मीटर पहले (380 meters […]