बिना बिजली के चलने वाले RO मशीन का अविष्कार: मेक इन इंडिया

अहमदाबाद। गुजरात प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के स्टार्ट अप्स में से एक ने कम लागत वाली पानी को साफ करने वाली आरओ मशीन विकसित की है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि इस आरओ में ई वेस्ट मोबाइल स्क्रीन का उपयोग सोलर पैनल के तौर पर किया गया है। बिना किसी बिजली की मदद के यह आरओ 10 साल तक 1.50 लाख लीटर पानी को साफ कर सकता है। इस आरओ मशीन पर रिसर्च करने में लगभग 9 साल लगे हैं।


केंद्र सरकार के मेक इन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया और आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत, जीटीयू के इनोवेशन सेंटर सूरत ने एक मामूली लागत पर अभिमन्यु और वर्धन राठी द्वारा बनाई गई पानी साफ करने वाली मशीन का नाम वरदान है. स्टार्टअप को अब तक जीटीयू इनोवेशन काउंसिल से 21 लाख रुपये तक का अनुदान प्राप्त हुआ है। केंद्र सरकार के मेक इन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया और आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत, जीटीयू के इनोवेशन सेंटर सूरत ने एक मामूली लागत पर अभिमन्यु और वर्धन राठी द्वारा बनाई गई पानी साफ करने वाली मशीन का नाम वरदान है. स्टार्टअप को अब तक जीटीयू इनोवेशन काउंसिल से 21 लाख रुपये तक का अनुदान प्राप्त हुआ है।
केंद्र सरकार के मेक इन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया और आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत, जीटीयू के इनोवेशन सेंटर सूरत ने एक मामूली लागत पर अभिमन्यु और वर्धन राठी द्वारा बनाई गई पानी साफ करने वाली मशीन का नाम वरदान है. स्टार्टअप को अब तक जीटीयू इनोवेशन काउंसिल से 21 लाख रुपये तक का अनुदान प्राप्त हुआ है।

यह RO 1 घंटे में 40 लीटर पानी को शुद्ध कर सकता है। अन्य आरओ में 1 लीटर पानी साफ करने में 3 लीटर पानी बर्बाद होता है.,जबकि वरदान में पानी की बर्बादी नहीं होती. यह RO 1 घंटे में 40 लीटर पानी को शुद्ध कर सकता है. अन्य आरओ में 1 लीटर पानी साफ करने में 3 लीटर पानी बर्बाद होता है, जबकि वरदान में पानी की बर्बादी नहीं होती।  यह RO 1 घंटे में 40 लीटर पानी को शुद्ध कर सकता है. अन्य आरओ में 1 लीटर पानी साफ करने में 3 लीटर पानी बर्बाद होता है. जबकि वरदान में पानी की बर्बादी नहीं होती।

इस बाबत अभिमन्यु राठी ने कहा कि उन्होंने कम लागत वाले पानी साफ करने वाली मशीन बनाने के लिए बहुत से रिसर्च किए. बिना बिजली की मदद के काम करने वाली मशीन बनाई.आर्थिक रूप से किफायती ग्राफीन अणुओं और ई-वेस्ट मोबाइल स्क्रीन का उपयोग सौर पैनलों के रूप में किया गया है. बैक्टीरिया और वायरस को मारने के लिए पराबैंगनी (यूवी) किरणों का उपयोग करके पानी को शुद्ध किया जाता है। इस बाबत अभिमन्यु राठी ने कहा कि उन्होंने कम लागत वाले पानी साफ करने वाली मशीन बनाने के लिए बहुत से रिसर्च किए. बिना बिजली की मदद के काम करने वाली मशीन बनाई.आर्थिक रूप से किफायती ग्राफीन अणुओं और ई-वेस्ट मोबाइल स्क्रीन का उपयोग सौर पैनलों के रूप में किया गया है. बैक्टीरिया और वायरस को मारने के लिए पराबैंगनी (यूवी) किरणों का उपयोग करके पानी को शुद्ध किया जाता है।


राठी ने कहा कि उन्होंने कम लागत वाले पानी साफ करने वाली मशीन बनाने के लिए बहुत से रिसर्च किए. बिना बिजली की मदद के काम करने वाली मशीन बनाई.आर्थिक रूप से किफायती ग्राफीन अणुओं और ई-वेस्ट मोबाइल स्क्रीन का उपयोग सौर पैनलों के रूप में किया गया है. बैक्टीरिया और वायरस को मारने के लिए पराबैंगनी (यूवी) किरणों का उपयोग करके पानी को शुद्ध किया जाता है.
इस आरओ की खास बात यह है कि यह बिना किसी रखरखाव के 10 साल तक 1.50 लाख लीटर पानी शुद्ध कर सकता है. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मदद के लिए संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन (UNIDO) द्वारा भी वरदान को बढ़ावा दिया जा रहा है. इसके अलावा भविष्य में अबू धाबी और जर्मनी को भी निर्यात किया जाएगा. जीटीयू के चांसलर प्रो. डॉ नवीन सेठी ने कहा कि यह स्टार्टअप देश के हर आम आदमी के लिए बहुत उपयोगी है. इस आरओ की खास बात यह है कि यह बिना किसी रखरखाव के 10 साल तक 1.50 लाख लीटर पानी शुद्ध कर सकता है. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मदद के लिए संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन (UNIDO) द्वारा भी वरदान को बढ़ावा दिया जा रहा है. इसके अलावा भविष्य में अबू धाबी और जर्मनी को भी निर्यात किया जाएगा. जीटीयू के चांसलर प्रो. डॉ नवीन सेठी ने कहा कि यह स्टार्टअप देश के हर आम आदमी के लिए बहुत उपयोगी है.
खास बात यह है कि यह बिना किसी रखरखाव के 10 साल तक 1.50 लाख लीटर पानी शुद्ध कर सकता है. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मदद के लिए संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन (UNIDO) द्वारा भी वरदान को बढ़ावा दिया जा रहा है. इसके अलावा भविष्य में अबू धाबी और जर्मनी को भी निर्यात किया जाएगा. जीटीयू के चांसलर प्रो. डॉ नवीन सेठी ने कहा कि यह स्टार्टअप देश के हर आम आदमी के लिए बहुत उपयोगी है।

Next Post

अमेरिकी वित्त मंत्री बनी जेनट येलन, जानें इनके बारे में

Tue Jan 26 , 2021
वाशिंगटन । अमेरिकी कांग्रेस के उच्च सदन सीनेट ने फेडरल रिज़र्व बैंक की पूर्व प्रमुख जेनट येलन को देश की वित्त मंत्री नियुक्त किए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान करते हुए उनके नाम की पुष्टि की है। अमेरिका के वित्त मंत्री के पद के लिए जेनट येलन के नाम […]

Know and join us

www.agniban.com

month wise news

March 2021
S M T W T F S
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031