देश भोपाल मध्‍यप्रदेश

मप्रः ओलावृष्टि से नुकसान की भरपाई करेगी सरकार : मुख्यमंत्री शिवराज

– 50 प्रतिशत से अधिक फसल नुकसान के लिये 30 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर दी जायेगी राहत

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) ने शुक्रवार को निवाड़ी जिले की पृथ्वीपुर तहसील के ग्राम खिस्टोन में असमय वर्षा और ओलावृष्टि से खराब हुई फसलों का मुआयना किया। प्रभावित फसलों को देखने के लिए मुख्यमंत्री चौहान खेतों में पहुँचे। उन्होंने कहा कि बाहर से फसलें हरी दिखती हैं, लेकिन खेत में अंदर जाकर देखो तो कुछ नहीं बचा है। प्रदेश में पृथ्वीपुर सहित जहाँ-जहाँ भी फसलों को नुकसान पहुँचा है, उसकी भरपाई की जायेगी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि किसानों को शीघ्रता से राहत राशि का भुगतान कराएं।

किसानों को बधांया ढांढस, कहा-आंख में आंसू मत लाना
मुख्यमंत्री चौहान ने खेतों में फसल का जायजा लेने के बाद किसानों से चर्चा भी की और उन्हें ढांढस भी बंधाया। उन्होंने कहा कि, “घबराना मत, मुसीबत का मिलकर मुकाबला करेंगे। आँख में आंसू मत लाना। सभी संकट से बाहर निकाल लूँगा। जहाँ-जहाँ भी ओलावृष्टि से नुकसान हुआ है, उसकी भरपाई सरकार करेगी। यदि फसल का 50 प्रतिशत से अधिक नुकसान हुआ है, तो 30 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर राहत राशि दी जायेगी। फसल बीमा का लाभ अलग से मिलेगा। साथ ही अल्पकालीन ऋण की वसूली स्थगित की जायेगी और अल्पकालीन फसल ऋण को मध्यकालीन ऋण में बदला जायेगा।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनहानि के लिये 4 लाख, गाय-भैंस की मृत्यु पर 30 हजार रुपये और छोटे पशुओं बछड़ा-बछड़ी, बकरा-बकरी तथा मुर्गा-मुर्गी के लिये भी राहत राशि दी जायेगी। यदि मकानों को क्षति हुई है, खपरेल को नुकसान पहुँचा है, तो इसके लिये भी मुआवजा राशि दी जायेगी।

मुख्यमंत्री चौहान ग्राम खिस्टोन में ओलावृष्टि से प्रभावित खेत के भ्रमण के दौरान पीड़ित महिला किसान को 50 हजार रुपये की राशि शीघ्रता से भुगतान करने के निर्देश अधिकारियों को दिये। उन्होंने मड़िया हल्का के मबई ग्राम की महिला किसान श्रीमती मक्खन बाई रजक से कहा कि चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, आपका भाई मुख्यमंत्री है। उन्होंने अधिकारियों को मक्खन बाई को 50 हजार रुपये सहायता राशि देने के निर्देश दिये।

 

 

मप्रः किसानों को दुख की घड़ी में निकालेंगे संकट के पारः सीएम शिवराज
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बेमौसम हुई बारिश और ओलावृष्टि से प्रभावित हुए किसानों को इस दुख की घड़ी में संकट के पार निकालेंगे। फसलों को हुए नुकसान की राहत राशि एवं बीमा राशि का किसानों को शीघ्र भुगतान करवाया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने शुक्रवार को अशोकनगर जिले की तहसील मुंगावली के ग्राम बजावन में प्रभावित फसलों का निरीक्षण कर रहे थे।

उन्होंने किसानों से संवाद करते हुए कहा कि संकट की इस घड़ी में किसानों के दुख दर्द में शामिल होने के लिए ग्राम बजावन में आया हूँ। मैं किसानों की परेशानी को भली भांति जानता हूँ। किसान अपने पसीने से फसलों को सींचता है, तभी अन्न का दाना मिल पाता है। इसी बीच यदि फसलों पर प्राकृतिक आपदा का कहर बरसता है तो फसलें चौपट हो जाती हैं। इससे किसानों के सपने चकनाचूर हो जाते हैं।

उन्होंने कहा कि फसलों को जो नुकसान पहुँचा है, उसकी भरपाई राहत राशि तथा बीमा राशि दिलाकर पूरी की जाएगी। उन्होंने कमिश्नर एवं कलेक्टर को निर्देश दिये कि फसलों के नुकसान के सर्वे का कार्य 18 जनवरी तक पूर्ण कराया जाए। सर्वे का कार्य पूरी ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ हो। सर्वे उपरांत सूची पंचायतों में लगाई जाए, जिससे संबंधित किसान भी अवगत हो सकें। यदि किसी को आपत्ति हो तो उसका निराकरण किया जा सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन किसानों का 50 प्रतिशत से ज्यादा नुकसान हुआ है, उन किसानों को 30 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर राहत राशि दिलाई जाएगी। साथ ही फसल बीमा में फसलों को नुकसान हुआ है उसमें 25 प्रतिशत एडवांस राशि तथा शेष 75 प्रतिशत राशि फसल आकलन के उपरांत दिलाई जाएगी। उन्होंने कहा कि मैंने स्वयं खेतों में जाकर फसल नुकसानी का जायजा लिया है।

हजारीलाल की गेहूँ की फसल का लिया जायजा
मुख्यमंत्री ने कृषक हजारीलाल के खेत में गेहूँ की फसल का अवलोकन किया। कृषक हजारीलाल ने बताया कि ओलावृष्टि से फसल को काफी नुकसान हुआ है। साथ ही मेरी बेटी की शादी अगले माह होना तय हुई है। मैं बहुत परेशान हूँ। इस पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पीड़ित कृषक को दिलासा दिलाते हुए कहा कि बिटिया की शादी है तो उसका भी इंतजाम हम करवाएंगे, जिससे बेटी की शादी में कोई दिक्कत न आए। इसकी बिल्कुल भी चिंता न करें।

राजकुमारी बाई को बँधाया ढांढस
चौहान ने कृषक राजकुमारी बाई के खेत में पहुँचकर सरसों की फसल के नुकसानी का जायजा लिया। फसल नुकसान से दुखी कृषक राजकुमारी बाई को मुख्यमंत्री ने ढांढस बधाते हुए अपने कंधे से लगाकर भरोसा दिलाया कि जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई की जाएगी।

उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि कोविड-19 की तीसरी लहर के संकट को देखते हुए गाँव में सभी का टीकाकरण करवायें और मास्क लगाकर रहें। कोविड की तीसरी लहर आ गई है, उससे भी हम सभी को बचाव एवं सावधानी बरतना जरूरी है। सभी ग्रामीणजन कोविड अनुकूल व्यवहार एवं गाईडलाईन का पालन करें।

इस मौके पर ऊर्जा एवं जिले के प्रभारी मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी राज्य मंत्री बृजेंद्र सिंह यादव, सांसद डॉ. केपी यादव, विधायक जजपाल सिंह जज्जी, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण उपाध्यक्ष अजय प्रताप सिंह यादव, कमिश्नर आशीष सक्सेना, कलेक्टर आर. उमामहेश्वरी, पुलिस अधीक्षक रघुवंश सिंह भदोरिया सहित संबंधित अधिकारी जन-प्रतिनिधि तथा ग्रामीणजन उपस्थित थे। (एजेंसी, हि.स.)

Share:

Next Post

आयकर हटाएं, जायकर लगाएं

Sat Jan 15 , 2022
– डॉ. वेदप्रताप वैदिक भारत का अगला बजट कुछ ही हफ्तों में आनेवाला है। वह कैसा हो, इस बारे में कई विशेषज्ञ और प्रभावित लोग अपने सुझाव देने लगे हैं। अब से लगभग 30-35 साल पहले श्री वसंत साठे और मैंने सोचा था कि भारत से आयकर खत्म करने का अभियान चलाया जाए, क्योंकि आयकर […]