इंदौर न्यूज़ (Indore News)

गड्ढे करने के लिए कम पड़ी पोकलेन-जेसीबी, 80 किराए पर लेंगे

  • निगम ने सारे संसाधन झोंके, बिजासन टेकरी, एयरपोर्ट और पितृ पर्वत पर तेजी से काम

इन्दौर। शहर के अलग-अलग क्षेत्रों में 51 लाख पौधे लगाने के लिए नगर निगम, प्रशासन के साथ-साथ कई विभागों का अमला सक्रिय है। एक ओर जहां अन्य शहरों से पौधे बुलवाए जा रहे हैं, वहीं अब गड््ढे करने के लिए पोकलेन और जेसीबी की कमी हो गई है। 30 से ज्यादा पोकलेन और जेसीबी अलग-अलग स्थानों पर लगा दी गई हैं और अब 80 किराये पर लेने की तैयारी चल रही है।

कल भी पौधारोपण अभियान को लेकर नगरीय प्रशासन मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने निगम अफसरों की बैठक ली थी, जिसमें कई मुद्दों पर चर्चा हुई और इस कार्य में लापरवाही नहीं करने की हिदायत दी गई। नगर निगम द्वारा फिलहाल एयरपोर्ट के सामने वन विभाग की जमीन पर गड््ढे किए जा रहे हैं, वहीं पितृ-पर्वत, रेवती रेंज, बिजासन टेकरी और कुछ अन्य पहाड़ी की टेकरियों पर जेसीबी और पोकलेन की मदद से गड््ढे किए जा रहे हैं। करीब 30 से ज्यादा निगम की पोकलेन और जेसीबी इस कार्य के लिए लगाई गई हैं, वहीं गड््ढे करने वाले 8 ट्रैक्टर भी झोंके गए हैं। सभी झोनलों से जेसीबी बुलवाकर इस कार्य में लगवाई जा रही हैं, ताकि समय पर सारे कार्य पूरे हो सके।


अधिकारियों के मुताबिक निगम के पास जो जेसीबी और पोकलेन हैं, सभी इस कार्य में लगा दी हैं और अब कमी पडऩे के चलते 80 से ज्यादा पोकलेन और जेसीबी कुछ दिनों के लिए किराये पर लिए जाने की तैयारी चल रही है, ताकि सभी जगह गड््ढे करने का काम समय पर पूर हो सके।

एक दिन में पोकलेन और जेसीबी से 1800 गड््ढे कर रहे हैं
विभिन्न क्षेत्रों और पहाड़ी के हिस्सों के आसपास नगर निगम, वन विभाग और अन्य विभागों के संयुक्त अभियान चल रहे हैं, ताकि ज्यादा से ज्यादा कार्य पूरा हो सके। अधिकारियों का कहना है कि पोकलेन और जेसीबी से एक दिन में 1800 गड््ढे किए जा रहे हैं और इसकी मानिटरिंग के लिए कई अधिकारियों को लगाया गया है, वहीं कई अन्य विभागों से भी इसके लिए संसाधन मांगे जा रहे हैं, ताकि काम में तेजी लाई जा सके।

Share:

Next Post

50 मिनट में पहुंच जाते हैं इंदौर से उज्जैन तो हवाई यात्रा में लगेंगे दो घंटे

Fri Jun 14 , 2024
एक घंटे पहले तो एयरपोर्ट ही पहुंचना पड़ेगा भोपाल के लिए भी यही मुसीबत, कुछ ही समय में बंद हो जाएगी इन शहरों की एयरक्राफ्ट सेवा इंदौर। जोर-शोर से प्रदेश के शहरों को आपस में जोडऩे के लिए एयरक्राफ्ट सेवा शुरू की गई है। मगर इंदौर-उज्जैन-भोपाल के लिए यह सेवा लगभग फिजुल ही साबित होगी। […]