उज्‍जैन न्यूज़ (Ujjain News)

सर्वर स्लो… जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं बन पा रहे

  • बीते चार दिनों से नगर निगम के चक्कर काट रहे आवेदक, 100 मामले लंबित

उज्जैन। नगर निगम के जन्म-मृत्यु विभाग का सर्वर पिछले तीन चार दिनों से स्लो चल रहा है। इसके चलते रोजाना 10 से 15 लोग इस प्रकार के आवेदनों को लेकर नगर निगम के चक्कर काट रहे हैं। बावजूद उनकी समस्याओं का निराकरण नहीं हो पा रहा। इसे लेकर जिम्मेदार भी चुप्पी साधे हुए है।


उल्लेखनीय है कि बीते तीन चार दिनों से सर्वर नेटवर्किंग की समस्या के चलते 100 से ज्यादा प्रमाण पत्र अटके हुए हैं। लोगों को रोजाना सुबह से शाम तक इंतजार के बाद निराश ही लौटना पड़ रहा है। शुक्रवार को अपने भाई की मृत्यु का सर्टिफिकेट लेने पहुँचे रवि राठौड़ ने बताया कि तीन दिन से रोज आ रहे हैं। जब भी खिड़की पर प्रमाण पत्र लेने पहुँचते हैं तो जवाब एक ही मिलता है सर्वर बंद पड़ा है। उन्होंने बताया कि उन्हें बैंक अन्य जगह पर सर्टिफिकेट पेश करने हैं लेकिन अब सोमवार को ही प्रमाण पत्र मिल पाएँगे, क्योंकि शनिवार-रविवार को अवकाश रहता है। तो कई आवेदक ऐसे हैं जो जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र में हुई त्रुटि सुधार के लिए नगर निगम की जन्म-मृत्यु शाखा के चक्कर काट रहे हैं। बता दें कि शहर के निजी अस्पतालों में जन्म लेने वाले बच्चों के जन्म प्रमाण पत्र तथा नगर निगम की सीमा में रहने वाले लोगों के मृत्यु प्रमाण पत्र नगर निगम उज्जैन के द्वारा ही जारी किए जाते हैं। हाल ही में जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र तीन दिन में जारी करने का दावा नगर निगम के अधिकारियों ने किया था। बावजूद 7 से 8 दिन में लोगों को यह मिल रहा हैं। इसके विपरीत सर्वर डाउन व स्लो होने की स्थिति में तो लोगों को 10 से 15 दिनों में भी जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं मिल पा रहा है। इन दिनों विभाग के कर्मचारियों द्वारा कभी सर्वर स्लो तो कभी सर्वर डाउन का कहकर लोगों को लौटाया जा रहा है। ऐसे में नगर निगम मुख्यालय में जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र को लेकर करीब 100 से ज्यादा आवदेन लंबित हो गए हैं। बावजूद नगर निगम के अधिकारी इस पर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

Share:

Next Post

RSS और BJP के बीच दरार की चर्चा! मोहन भागवत और योगी आदित्यनाथ की आज अहम बैठक

Sat Jun 15 , 2024
गोरखपुर: लोकसभा चुनाव 2024 में भारतीय जनता पार्टी की उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन न कर पाने के बाद पार्टी लगातार आलोचना का शिकार हो रही है. यहां तक कि आरएसएस नेताओं ने भी इस पर टिप्पणियां कीं और चर्चा होने लगी कि आरएसएस और बीजेपी में दरार पड़ने लगी है. इन सब के बीच आरएसएस […]