जीवनशैली धर्म-ज्‍योतिष

चाणक्‍य नीति: इन 6 काम की वजह से व्‍यक्ति हो जाता है निर्धन, आप भी जरूर जान लें

राजनीति के प्रकाण्ड पंडित आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) ने नीति शास्त्र की रचना की। इसमें सैद्धांतिक ज्ञान के साथ व्यावहारिक शिक्षा की बातें भी बताई गई हैं। उनके द्वारा लिखित ये नीतियां आज के समय में भी बेहद प्रासंगिक हैं। इसमें जीवन के महत्‍वपूर्ण विषयों की ओर ध्‍यान दिलाया गया है। साथ ही व्‍यक्ति के संबंधों, उसके जीवन में आने वाले सुख-दुख समेत जीवन की अन्‍य समस्याओं का जिक्र करते हुए इनके समाधान पर भी बात की गई है। चाणक्‍य नीति जहां भविष्य को उज्‍जवल बनाने के समाधान बताती है, वहीं जीवन में सफल (Successful) होने और दुष्ट लोगो से बचने के उपाय भी बताए गए हैं। आज इस लेख के माध्‍यम से हम आपको बतानें जा रहें हैं ऐसी बातें जिन्‍हें करने से व्‍यक्ति को निर्धन बना देती है तो आइये जानतें है….

चाणक्‍य नीति में बताया गया है कि जब व्यक्ति दौलत खोता है, तो उसके मित्र, पत्नी, नौकर, सम्बन्धी उसे छोड़कर चले जाते है और जब वह दौलत वापस हासिल करता है, तो ये सब लौट आते हैं। इसीलिए दौलत ही सबसे अच्छा रिश्तेदार है।

चाणक्‍य नीति के अनुसार जो अस्वच्छ कपड़े पहनता है, जिसके दांत साफ़ नहीं और जो कठोर शब्द बोलता है, जो सूर्योदय के बाद उठता है। उसका कितना भी बड़ा व्यक्तित्व क्यों न हो, वह लक्ष्मी की कृपा से वंचित रह जाएगा।

आचार्य चाणक्‍य के अनुसार कांटो से और दुष्ट लोगों से बचने के दो उपाय हैं। इसके लिए पैर में जूते पहनो ताकि कांटे न चुभें। वहीं दुष्‍ट को इतना शर्मसार करो कि वह अपना सर उठा न सके और आपसे दूर हो जाए।

आचार्य चाणक्‍य (Acharya Chanakya) के अनुसार प्रेम वह सत्य है जो दूसरों को दिया जाता है। खुद से जो प्रेम होता है वह नहीं। वही बुद्धिमत्ता है जो पाप करने से रोकती है। वही दान है, जो बिना दिखावे के किया जाता है।

चाणक्‍य नीति में बताया गया है कि एक व्यक्ति को चारों वेद और सभी धर्मं शास्त्रों का ज्ञान है, लेकिन अगर उसे अपनी आत्मा की अनुभूति नहीं हुई, तो वह उसी चमचे के समान है, जिसने अनेक पकवानों को हिलाया, लेकिन किसी का स्वाद नहीं चखा।

आचार्य चाणक्‍य के अनुसार चन्दन (Chandan) कट जाने पर भी अपनी महक नहीं छोड़ते। हाथी बूढ़ा होने पर भी अपनी लीला नहीं छोड़ता। गन्ना निचोड़े जाने पर भी अपनी मिठास नहीं छोड़ता. इसी प्रकार अच्‍छा व्‍यक्ति अपने उन्नत गुणों को नहीं छोड़ता, भले ही उसे कितनी भी गरीबी (Poverty) में क्यों न बसर करना पड़े।

नोट- उपरोक्त दी गई जानकारी व सूचना सामान्य उद्देश्य के लिए दी गई है। हम इसकी सत्यता की जांच का दावा नही करतें हैं यह जानकारी विभिन्न माध्यमों जैसे ज्योतिषियों, धर्मग्रंथों, पंचाग आदि से ली गई है । इस उपयोग करने वाले की स्वयं की जिम्मेंदारी होगी ।

Next Post

INDORE : थानों में पॉकेट गवाह तो कोर्ट में फर्जी जमानतदारों का रैकेट सक्रिय

Wed Jun 23 , 2021
फिर एक फर्जी जमानतदार पर एमजी रोड थाने में दर्ज हुआ धोखाधड़ी का केस इंदौर। थानों में पुलिस (police) अपनी सुविधा के लिए चार-पांच पॉकेट गवाह पालकर रखती है। इसी तरह कोर्ट में भी सालों से दो दर्जन से अधिक फर्जी जमानतदारों (fake bailiffs) का रैकेट सक्रिय है। एक-एक फर्जी जमानतदार (fake bailiffs)  50-50 मामलों […]